Explore

Search
Close this search box.

Search

February 25, 2024 5:01 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

बिहार: ये कैसा खेल? 799 में अकाउंट बनाओ, महिलाओं को प्रेग्नेंट करो और 13 लाख पाओ

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

बात बिहार के नवादा की है, जहां का रहने वाला एक शख्स नौकरी की तलाश में घर छोड़कर बाहर निकलता है और राजस्थान पहुंच जाता है. मुन्ना नाम का यह शख्स राजस्थान के मेवाड़ में जाकर कुछ काम करने लगता है. कुछ महीनो बाद घर आता रहता है और घरवालों को बताता है कि उसकी नौकरी ठीक-ठाक है. वह करीब 5 साल घर से बाहर रहता है और घरवालों को उसकी नौकरी या जॉब के बारे में कुछ पता नहीं होता. लेकिन असलियत यह थी कि इन पांच सालों में राजस्थान में उसका कांटेक्ट कुछ ऐसे लोगों से बना जो साइबर क्राइम के माहिर थे.

मुन्ना ने ट्रेनिंग ली लेकिन उसे लगा कि यह तो सारे लोग कर रहे हैं. ऐसा कुछ नया किया जाए जो लोग सोच भी नहीं सकते, जिसके बारे में जब बताया जाए तो लोगों के पास सोचने का वक्त भी ना हो बल्कि वह फौरन झांसे में आ जाएं. बहुत सोचने के बाद उसे एक आइडिया आता है. वह 5 साल बाद वह अपने घर नवादा लौट आता है. नवादा आने पर वह अपने मां-बाप से कहता है कि अब मैंने बहुत काम कर लिया, पैसे कमा लिए और अब यहीं पर रहकर मछली पालन का काम करूंगा.

गांव के तालाब पर बनाया साइबर ठगी का अड्डा

गांव में एक तालाब था, उसने तालाब को ठीक-ठाक कराया और वही अब मछली पालने का काम करने लगा. तालाब के बराबर में एक पुराना खंडहर मकान था, उसने उस मकान को ठीक-ठाक कराया, दो फ्लोर बनाए. वह झोपड़ी टाइप का था और उसी के बराबर में उसने एक मचान बनवाया जो अच्छी खासी ऊंचाई पर था. उसमें एक वक्त में 10 से 12 लोग बैठ सकते थे. तालाब, घर और मचान गांव की आबादी से बिल्कुल दूर बनाया गया था. उस मचान के दो फायदे थे, जिसमें पहला था कि मोबाइल नेटवर्क बड़ी आसानी से मिलता था और दूसरा अगर कोई दूर से भी आ रहा हो तो उसके ऊपर आसानी से नजर रखी जा सकती थी ताकि जो भी काम-धंधा है, वह सब बंद हो जाए और वह लोग अपने-अपने मछली के काम पर लग जाए. हालांकि मछली पालन का काम असल में एक धोखा था, वह उनका बिजनेस नहीं था, असली धंधा तो कुछ और था.

Birthday Special: अंडरवर्ल्ड डॉन की गर्लफ्रेंड रह चुकी हैं मोनिका बेदी, एक्ट्रेस को जाना पड़ा था 5 साल के लिए जेल जानें अब कहां और किस हाल में गुजार रही हैं जिंदगी

फेसबुक पर डाला ऐड

अब मुन्ना को लोगों की जरूरत थी, गांव के कुछ लड़के जो ठीक-ठाक बोल लेते थे उसने उनको ट्रेनिंग देना शुरू किया. शुरुआत में पहले उनको भरोसे में लेने के लिए मछली पालन के बारे में जानकारी देता था और उसके साथ में मोबाइल पर सोशल मीडिया, फेसबुक और गूगल की ट्रेनिंग देता. इस तरीके से 20-25 गांव के लड़के उसने तैयार कर लिया. मचान के नीचे उसने प्रिंटिंग मशीन, फोन के चार्जर और अलग-अलग सिम कार्ड जमा किए. जब लड़के तैयार हो गए तो उसने उन्हें असली काम बताया. उसने कहा कि जो भी पैसे आएंगे, उसका 30% तुम लोगों को मिलेगा. अब मुन्ना ने फेसबुक पर ऐड डालना शुरू किया.

799 रुपये देकर मिलेंगे 13 लाख

इस ऐड के साथ छापा कि हम एक भारतीय रजिस्टर्ड कंपनी है, यह कंपनी बहुत बड़े-बड़े लोगों की है और इस कंपनी को बनाने के पीछे एक नेक मकसद है. मकसद यह है कि देश और दुनिया में बहुत सारी ऐसी महिलाएं हैं, जो शादी के सालों बाद भी प्रेग्नेंट नहीं हो पाती. वह मां नहीं बन पाती तो ऐसे लोगों की मदद के लिए हम लोगों ने यह एक ऑर्गेनाइजेशन बनाया है, जिसका नाम ऑल इंडिया प्रेग्नेंट जॉब है. यहां पर हम उन लोगों को नौकरी देंगे जो इन जरूरतमंद महिलाओं को प्रेग्नेंट करें और यह मुफ्त नहीं होगी बल्कि इसके लिए आपको कुछ रकम भी दी जाएगी. अगर आपने महिला को प्रेग्नेंट किया तो 10 से 13 लाख रुपए के बीच में पैसे मिलेंगे, लेकिन अगर वह प्रेग्नेंट नहीं हो पाई तो मिनिमम 5 लाख रुपए दिए जाएंगे. हालांकि इसके साथ कुछ शर्ते हैं.

रखी गईं थी ये शर्ते

शर्तें यह हैं कि पहले आपको खुद एफिडेविट भरकर देना होगा, जिसपर आप लिख कर देंगे कि आपने इस जॉब को अपनी मर्जी और पूरी सहमति के साथ किया है और आप या आपके परिवार को कोई आपत्ति नहीं है. किसी दूसरी विवाहित महिला को प्रेग्नेंट करेंगे बदले में आपको पैसा मिलेगा तो आप उस बच्चे पर भी अपना अधिकार नहीं जमाएंगे. उस ऐड में आखिर में लिखा हुआ है कि अगर आपको यह सभी शर्तें मंजूर है तो सबसे पहले शुरुआत 799 रुपये की फीस खुद को रजिस्ट्र करने के लिए जमा कराएं. ऐड में बहुत ही खूबसूरत महिलाओं की तस्वीर थी, जिनको दिखाया गया था कि इनको बच्चा नहीं हुआ है और कुछ ऐसे भी तस्वीर है, जिसमें महिलाएं प्रेग्नेंट दिखाई गई है.

ऐड देख लोगों को आया लालच

जब ये ऐड आना शुरू हुआ तो बहुत सारे लोगों ने देखा और उनको लगा कि इससे बेहतर नौकरी क्या हो सकती है. खूबसूरत औरतों के पास जाना है, उनको प्रेग्नेंट करना है और फिर पैसे भी मिलेंगे. लोगों ने 799 जमा कार दिए तो उनके पास कॉल आया. इसमें कहा जाता कि हम ऑल इंडिया प्रेग्नेंट जॉब से बोल रहे हैं और आपने जो नाम रजिस्टर कराया है, उसके बाद आप सारे फॉर्म जमा कर दीजिए जो आप पास के किसी ऑनलाइन कैफे से भर सकते हैं. यहीं नहीं अगर आपके पास यह सुविधा नहीं है तो आप मोबाइल से हमकों तस्वीर भेज दें, हम उसको कर देंगे.

3 स्टार होटल में महिला के साथ रहने का मिलता था ऑफर

जब यह सब काम हो जाएगा तो आपको अपने शहर में किसी 3 स्टार होटल पर बुलाएंगे, जहां पर किसी वजह से प्रेग्नेंट नहीं होने वाली महिला भी आएगी. इसे साथ ही आपके होटल का खर्चा कंपनी उठाएगी, बस आपको वहां पहुंचना है. अगर यहां पर पॉसिबल नहीं है तो फिर आपको मुंबई जाना होगा और मुंबई के आने जाने की ट्रेन की टिकट, मुंबई के होटल का सारा खर्चा कंपनी उठाएगी, आपको जेब से कुछ नहीं देना होगा. अब इस कंपनी में रजिस्टर करने वाले लोगों के लिए यह किसी सपने का सच होने से कम नहीं था, क्योंकि 799 रुपए में 3 स्टार होटल, फ्लाइट की टिकट और खूबसूरत महिलाएं.

खूबसूरत महिला के सपने दिखाकर लूटते रहे

अब यहां से खेल शुरू होता है और फिर लोगों को मैसेज आता है कि हमें आपका सिमन टेस्ट करना है तो उसके लिए कुछ पैसे देने होंगे. इसके लिए आपको 2000-2500 देना है और इसके बाद जो भी रिजल्ट आएगा, तो आपको हम भेजेंगे. 799 रुपये देने वाले के दिमाग में खूबसूरत महिला के सपने चल रहे होते हैं तो वह ये रकम भी दे देता है. इसके कुछ दिन बात यह आता है कि आपकी रिपोर्ट सही है और अब आपको जल्द ही बुलाया जाएगा. इसी दौरान कुछ दिनों के बाद एक नया मैसेज आता है कि हम आपके अकाउंट में पैसे डाल रहे हैं, वह पैसे देख लीजिए. क्योंकि हमने मिनिमम 5 लाख रुपये देने का वादा किया है. यह एक फर्जी मैसेज होता था, जिसमें 4 लाख 72000 रुपए या ऐसी ही किसी रकम का जिक्र होता था. इसके लिखा होता था कि आपके अकाउंट में पैसे डाल दिए गए, लेकिन अकाउंट अभी ब्लॉक है.

‘जीएसटी जमा करोगे तभी निकाल पाओगे रकम’

आरोपियों द्वारा बताया जाता था कि खाते में डाले गए रुपए तभी निकल सकते हैं, जब आप इस रकम का जीएसटी दे देंगे. क्योंकि एजेंसी सरकारी है तो जीएसटी के बिना आप यह रकम नहीं निकाल पाएंगे. इसके लिए करीब 22-23 हजार रुपये जीएसटी के तौर पर मांगे जाते और कहा जाता कि आप जीएसटी अकाउंट में डालिए, पैसे ट्रांसफर हो चुके हैं. अब सामने वाला मैसेज पढ़ रहा है और देख रहा है कि 4 लाख 72000 के करीब ट्रांसफर हो गया है, बैंक का जो मैसेज आता है वह भी क्रेडिटेड है. उसके मन में लालच है और ऊपर से हसीन महिलाओं के सपने तो वह उधार लेकर या इधर-उधर से जीएसटी के तौर पर मांगी गई रकम को भी जमा कर देता है.

जीएसटी भरते ही बंद हो जाता था फोन

जीएसटी की रकम भरने के बाद उसको अकाउंट में पैसे आने का इंतजार था, लेकिन वह नहीं आ रहे थे. अब फोन भी नहीं मिल रहा और व्हाट्सएप पर भी कोई जवाब नहीं आता. जैसे ही जीएसटी के पैसे गए नंबर भी गए, सर भी गए, वह महिला भी गई व्हाट्सएप पर दिखाई पड़ रही थी. जिस शख्स ने 5 या 13 लाख रुपए के चक्कर में अलग-अलग किस्तों में 25 से 50 हजार रुपये दिए वह अब समझ चुका था कि उसके साथ ठगी हुई है. अब वह ना तो पुलिस के पास जा सकता था, क्योंकि उसका मजाक बनाया जाएगा और ना ही घरवालों या पत्नी को. अगर पत्नी को यह पता चल जाए कि वह किसी दूसरी महिला के साथ संबंध बनाना चाह रहा था तो उसका बसा-बसाया घर भी उजड़ जाएगा. यह दुविधा किसी एक शख्स की नहीं बल्कि जिसके साथ भी यह ठगी हुई थी, उस हर एक की थी.

ऐसे लोगों को बनाते थे शिकार

ऑल इंडिया प्रेग्नेंट जॉब के नाम बिहार, यूपी, हरियाणा, पंजाब, झारखंड, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और राजस्थान के हजारों लोगों को पिछले दो सालों में करीब दो से ढाई करोड़ रुपए से ज्यादा का चूना लगाया गया. सबसे बड़ी चौंकाने वाली बात यह थी कि इनमें से एक भी कंप्लेंट किसी भी स्टेट में, किसी भी पुलिस के पास दर्ज नहीं कराई गई थी, क्योंकि इनको बदनामी का डर था. यह खासतौर पर ऐसे लोगों के नंबर लेते थे जो बहुत ज्यादा पढ़े-लिखे ना हो और जो अमीर भी ना हो, इनके निशाने पर मिडिल क्लास और 20-25 हजार रुपए महीने कमाने वाले होते थे, क्योंकि उनको ज्यादा पता भी नहीं होता था और वह लालच के चक्कर में आसानी से फंस जाएंगे. इसके साथ ही यह लोग इतने शातिर थे कि जिस पैसे को लोगों से ठगते थे तो उसको यह बिहार के नवादा में नहीं मंगवाते थे, बल्कि पैसे राजस्थान में ट्रांसफर होते थे, जिससे अगर जांच भी की जाए तो लोगों को या पुलिस को यह समझ ना आए कि ठगी का यह खेल कहां से खेला जा रहा है.

इस तरह पकडे गए आरोपी

यह सभी चल रहा था कि किसी की नजर इस ऐड पर पड़ गई. पुलिस ने अपना काम शुरू किया और साइबर एक्सपर्ट के साथ जांच शुरू की. वहीं नवादा में पुलिस को किसी मुखबीर ने बताया कि मछली पालने के नाम पर 20-25 लड़के एक जगह जमा रहते हैं और मोबाइल पर ही बात करते रहते थे. पता चला कि गांव में लड़के बहुत ज्यादा फोन यूज कर रहे हैं. झारखंड का जामताड़ा भी नजदीक था तो पुलिस की टीम यहां पर पहुंची और उसने 8 लड़कों को गिरफ्तार किया. उनकी ही निशानदेही पर पुलिस मचान के पते पर पहुंची तो उसको सभी सबूत हाथ लग गए. हालांकि पुलिस को अभी भी 18 लड़कों की की तलाश है, जो भाग गए.

Sanjeevni Today
Author: Sanjeevni Today

1 thought on “बिहार: ये कैसा खेल? 799 में अकाउंट बनाओ, महिलाओं को प्रेग्नेंट करो और 13 लाख पाओ”

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर