Explore

Search
Close this search box.

Search

April 14, 2024 10:21 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

Taliban: महिलाओं को पत्थरों से मार-मारकर दी जाएगी मौत… तालिबान का नया फरमान, महिला अधिकार को बताया शरिया के खिलाफ

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

तालिबान महिलाओं के लिए काफी बुरा माना जाता है। एक बार फिर तालिबान के सर्वोच्च नेता ने सार्वजनिक रूप से महिलाओं को पत्थर मारकर हत्या करने की कसम खाई है। इसके साथ घोषणा की है कि पश्चिमी लोकतंत्र के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी। तालिबानी नेता मुल्ला हिबतुल्ला अखुंदजादा ने पश्चिमी देशों को संबोधित करते हुए सरकारी टेलीविजन पर प्रसारित एक आवाज संदेश में कहा, ‘जब हम महिलाओं को पत्थर मारकर मार देते हैं तो आप इसे महिला अधिकारों का उल्लंघन बताते हैं।’

जयपुर में अप्रूवड प्लॉट मात्र 7000/- प्रति वर्ग गज 9314188188

उन्होंने कहा, ‘लेकिन जल्द ही हम व्यभिचार के लिए यह सजा लागू करेंगे। हम महिलाओं को सरेआम कोड़े मारेंगे। हम उन्हें पब्लिक में पत्थर मार-मारकर मार डालेंगे।’ अगस्त 2021 में तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा किया। सत्ता में आने के बाद यह तालिबान की ओर से जारी की गई सबसे कठोर धमकियों में से एक है। अखुंदजादा ने कहा, ‘ये सब आपके लोकतंत्र के खिलाफ हैं, लेकिन हम ऐसा करना जारी रखेंगे। हम दोनों कहते हैं कि हम मानवाधिकार की रक्षा करते हैं।’

फिर लौट रहा पुराना तालिबान

अखुंदजादा ने कहा, ‘हम मानवाधिकार की रक्षा ईश्वर के प्रतिनिधि के रूप में करते हैं और आप शैतान के प्रतिनिधि के तौर पर।’ अखुंदजादा की कुछ पुरानी तस्वीरों के अलावा शायद ही कभी उसे सार्वजनिक तौर पर देखा गया हो। माना जाता है कि अखुंदजादा तालिबान के गढ़ दक्षिणी कंधार में है। अमेरिका के अफगानिस्तान से निकलने के बाद तालिबान ने अधिक उदार शासन का आश्वासन दिया था। लेकिन तालिबान एक बार फिर अपने कठोर सार्वजनिक दंडों पर वापस लौट आया है। यह उसके 1990 के दशक के अंत वाले शासनकाल की याद दिलाता है।

Income Tax Department: कांग्रेस को झटका, अब 1700 करोड़ का नोटिस

महिला अधिकार शरिया के खिलाफ

पब्लिक में दी जाने वाली सजाओं की बात करें तो इसमें फांसी और कोड़े मारना शामिल था। संयुक्त राष्ट्र इन कार्रवाइयों की आलोचना करता रहा है और तालिबान से ऐसी प्रथाओं को बंद करने का आग्रह किया है। अपने संदेश में अखुंदजादा ने जोर देकर कहा कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की ओर से वकालत की गई महिला अधिकारों की बात तालिबान के इस्लामी शरिया कानून के सख्त खिलाफ है। उन्होंने कहा, ‘क्या महिलाएं वो अधिकार चाहती हैं, जिसके बारे में पश्चिमी लोग बात करते हैं। यह शरिया और मौलवियों की राय के खिलाफ है। मौलवियों ने पश्चिमी लोकतंत्र को उखाड़ फेंका।’

Sanjeevni Today
Author: Sanjeevni Today

ताजा खबरों के लिए एक क्लिक पर ज्वाइन करे व्हाट्सएप ग्रुप

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर