Explore

Search
Close this search box.

Search

June 21, 2024 8:52 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

Ram Mandir Ayodhya: ‘अदालतें तो 1949 से थीं…’, राम मंदिर का क्रेडिट मोदी-योगी को क्यों? के सवाल पर बोले रामलला के मुख्य पुजारी

रामलला के मुख्य पुजारी
WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

अयोध्या के नवनिर्मित भव्य मंदिर में 22 जनवरी 2024 को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होने जा रही है. उससे पहले आज तक ने प्रभु राम के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास से बातचीत की. उन्होंने श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़ी अपनी यादों को साझा किया. सत्येंद्र दास ने कहा कि इस घड़ी की वर्षों से प्रतीक्षा थी. प्राण प्रतिष्ठा का दृश्य अपने आप में अद्भुत और विलक्षण होगा. जिस दिन प्राण प्रतिष्ठा होगी और रामलला अपने भव्य और दिव्य मंदिर में विराजेंगे वह एक युग के समान है. ऐसा लगता है कि जितनी चुनौतियां और परेशानियां रहीं वे सब समाप्त हुईं, अब युग बदल गया, अब राम का युग आया है.

राम मंदिर का श्रेय किसे जाता है? इस पर रामलला के मुख्य पुजारी ने कहा, ‘अदालतें आज से नहीं हैं, 1949 के पहले से हैं. इतने वर्षों में राम मंदिर को लेकर फैसला क्यों नहीं आया? कांग्रेस की सरकार रही, और सरकारें आईं तब यह क्यों नहीं हुआ? भाजपा की सरकार आई तो राम मंदिर की सुनवाई टालने की साजिश किसकी थी? मैं कहूंगा कि जिनकी राम में आस्था है, जिन पर भगवान की कृपा है वे सत्ता में हैं और जो मन व कर्म से विरोधी थे वे बाहर हैं. देश और उत्तर प्रदेश में कई पार्टियों की सत्ता आई, लेकिन किसी सरकार की दृष्ठि अयोध्या पर नहीं आई. बीजेपी जबसे सरकार में आई, विशेषकर प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अयोध्या पर दृष्टि बनी हुई है. उनकी वजह से आज अयोध्या बहुत तेजी से विकसित हो रही है.’

प्राण प्रतिष्ठा का अर्थ क्या होता है? इस बारे में आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा, ‘किसी निर्जीव को सजीव बना देना प्राण प्रतिष्ठा है. वह मूर्ति तब तक निर्जीव है, जब तक शास्त्रों में वर्णित मंत्रों को अभिमंत्रित करके उसकी प्राण प्रतिष्ठा नहीं की जाती’. प्राण प्रतिष्ठा के लिए 86 सेकंड के मुहूर्त के बारे में महंत सत्येंद्र दास ने कहा, ‘इतने ही समय में उन मंत्रों का उच्चारण हो जाता है, जिनके जाप की जरूरत प्राण प्रतिष्ठा के लिए होती है. इसीलिए 86 सेकंड का शुभ मुहूर्त रखा गया है. यह पूजा सिर्फ 22 जनवरी की नहीं है, बल्कि उसके पहले ही शुरू हो जाएगी. करीब सप्ताहभर के अनुष्ठान में कई देवी-देवताओं का आह्वान किया जाएगा’.

‘रामलला की कृपा से वो दर्दनाक 28 वर्ष भी बीत गए’

आचार्य सत्येंद्र दास ने उस समय को भी याद किया जब रामलला को वर्षों तक तिरपाल के नीचे रहना पड़ा. उन्होंने आज तक से विशेष बातचीत में कहा, ‘वह बहुत ही दर्दनाक समय था. ये समझिए की भगवान रामलला की कृपा से 28 वर्ष बीत गए और पता नहीं चला. जब प्रभु राम वनवास के लिए जाने लगे तो माता सीता ने हठ किया की मैं भी साथ चलूंगी. तब भगवान ने तमाम तर्क रखे कि क्यों उनका जाना ठीक नहीं है. तब सीता माता ने कहा कि जैसे बिना जल के गंगा और सरयू का अर्थ नहीं रह जाता, वैसे ही साथ में पति नहीं है तो नारी भी निर्जीव है’.

Sanjeevni Today
Author: Sanjeevni Today

ताजा खबरों के लिए एक क्लिक पर ज्वाइन करे व्हाट्सएप ग्रुप

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर