Explore

Search
Close this search box.

Search

July 21, 2024 6:29 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

सिविल सर्विस के इतिहास में पहला केस: 11 साल की IRS की नौकरी अब बदला जेंडर, मिली नई पहचान……’

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email
हैदराबाद में तैनात महिला आईआरएस अफसर एम अनुसुया ने अपना सेक्स चेंज कराया है. उन्होंने इस बदलाव को अपने आधिकारिक रिकार्ड में भी दर्ज कराया है. इसी के साथ वह देश की पहली महिला सिविल सर्वेंट बन गई हैं, जिन्होंने अपना सेक्स चेंज कराया है.

हैदराबाद में एक महिला आईआरएस अफसर ने अपना जेंडर चेंज कराया है. केंद्रीय कस्टम एवं सर्विस टैक्स अपीलेंट ट्रिब्यूनल में जॉइंट कमिश्नर के पद पर तैनात इस महिला अफसर ने सेक्स रिएसिगमेंट सर्जरी (SRS) की प्रक्रिया पूरी होने के बाद अपनी ड्यूटी पर लौट आई है. ड्यूटी जॉइन करने के साथ ही उन्होंने सिविल सर्विस के रिकार्ड में जेंडर चेंज के लिए आवेदन किया था. सरकार की मंजूरी के बाद वह आधिकारिक तौर पर महिला से पुरुष बन गई हैं.

2013 बैच की महिला आरएएस मिस एम अनुसूया 11 साल की नौकरी के बाद अब अब मिस्टर एम अनुकथिर के नाम से जाने और पहचाने जाएंगे. एम अनुसुया के मिस्टर एम कथिर बनने के साथ ही भारतीय सिविल सर्विस के इतिहास में एक नया अध्याय जुड़ गया है. वह देश की पहली महिला आईआरएस अफसर हैं जिन्होंने जेंडर चेंज कराया है. इनसे पहले साल 2015 में उडीसा में कार्मशियल टैक्स विभाग में तैनात एक अधिकारी ने अपना जेंडर चेंज कराया था. वह अधिकारी पुरुष से महिला बने थे.

जानें जम्मू कश्मीर में कैसा रहेगा मौसम? बारिश पर ब्रेक लगते ही अमरनाथ यात्रा को मिली हरी झंडी…..!

सिविल सर्विस के इतिहास में पहला मामला

उन्होंने अप्रैल 2014 में आए सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले को आधार बनाकर सरकारी रिकार्ड में भी अपना जेंडर चेंज कराया था. उस समय से वह ऐश्वर्या रितुपूर्णा प्रधान के रूप में जाने जा रहे हैं. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक उस घटना के बाद यह दूसरा मामला है, जिसमें किसी अधिकारी ने जेंडर चेंज कराया है. वहीं देश के सिविल सर्विस के इतिहास में यह पहला मौका है, जब किसी आईआरएस अधिकारी ने अपना जेंडर चेंज कराया है.

2014 में सुप्रीम कोर्ट ने दिया था फैसला

केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने एम अनुसुया की पहचान मिस्टर एम अनुकथिर के रूप में दर्ज करने के आदेश जारी कर दिए हैं. बता दें कि साल 2014 में इसी तरह के एक मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला दिया था. इसमें सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया था कि जेंडर चेंज कराना किसी भी व्यक्ति का व्यक्तिगत मामला है और इससे उसकी नौकरी पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

ताजा खबरों के लिए एक क्लिक पर ज्वाइन करे व्हाट्सएप ग्रुप

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर