Explore

Search
Close this search box.

Search

July 16, 2024 9:37 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

विश्व ब्रेन ट्यूमर : ब्रेन ट्यूमर जैसी घातक बीमारी के प्रति जागरूकता है जरूरी….

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

न ट्यूमर दिमाग से जुड़ी हुई एक घातक बीमारी है।जिसका समय रहते पता लगाना और जल्द ही इलाज कराना अत्यन्त आवश्यक है। दुनिया भर में ब्रेन ट्यूमर के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसे में ब्रेन ट्यूमर की बीमारी के प्रति अधिक से अधिक लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से हर साल 8 जून को विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस मनाया जाता है। आइए इस लेख के माध्यम से समझते हैं कि ब्रेन ट्यूमर की बीमारी क्या है और इसे लेकर आपको किस तरह की सावधानी बरतनी चाहिए।

क्या है ब्रेन ट्यूमर?

इसमें असामान्य कोशिकाओं के समूह होते हैं। कुछ ब्रेन ट्यूमर का विकास बहुत तेजी से होता है, तो कुछ बहुत धीरे-धीरे बढ़ते हैं। जब ब्रेन में ट्यूमर का विकास अधिक हो जाता है तो स्कैल्प के अंदर दबाव बढ़ने की संभावना भी बढ़ जाती है। ऐसी स्थिति आपके ब्रेन और स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकती है और ये घातक भी हो सकती है।

ब्रेन ट्यूमर के कारण तथा लक्षण 

 नारायणा हॉस्पिटलजयपुर के न्यूरो सर्जरी के सीनियर कंसल्टेंट डॉकेके बंसल

बताया की हमारे हॉस्पिटल में पिछले एक दशक में 800 से ज्यादा ब्रेन ट्यूमर के मरीजों का सफल इलाज किया गया है। नारायणा हॉस्पिटल में ब्रेन ट्यूमर के इलाज के लिए सभी प्रकार की अत्याधुनिक सुविधाएं व विशेषज्ञ उपलब्ध हैं। ब्रेन ट्यूमर मुख्य रूप से जब कोई व्यक्ति आयोनाइजिंग रेडिएशन के संपर्क में आता है तो ब्रेन ट्यूमर का खतरा बढ़ सकता है। ज्यादातर कैंसर थेरेपी के दौरान व्यक्ति इस रेडिएशन के संपर्क में आते हैं। इसके अलावा यदि आपके परिवार में इस बीमारी का इतिहास रहा है तो आपको भी ब्रेन ट्यूमर की बीमारी होने की संभावना बढ़ जाती है। सामान्य लोगों की तुलना में एचआईवी एड्स से ग्रसित व्यक्तियों में ब्रेन.

आज का सुविचार: इस जगत की समस्याएं समाप्त …..

ट्यूमर का खतरा ज्यादा होता है।बच्चों में यदि कैंसर की बीमारी होती है, तो उनमें भी आगे चलकर ब्रेन ट्यूमर का खतरा रहता है। साथ ही ल्यूकेमिया से ग्रसित व्यक्तियों में भी ब्रेन ट्यूमर के होने की संभावना अधिक रहती है। अगर ब्रेन ट्यूमर के लक्षणों की बात की जाए तो सिर में बार-बार दर्द होना, सिर दर्द धीरे-धीरे बढ़ना, नींद में कमी, दूर की दृष्टि कमजोर होना, सोचने समझने की क्षमता में कमी, याददाश्त में परिवर्तन, दैनिक गतिविधियों में बदलाव होना और धुंधली दृष्टि जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं। यदि समय रहते ब्रेन ट्यूमर के लक्षणों को न समझा जाए तो यह खतरनाक साबित हो सकता है।

ब्रेन ट्यूमर के उपलब्ध उपचार –

नारायणा हॉस्पिटलजयपुर के न्यूरो सर्जरी कंसल्टेंट डॉनितिन भाकल

बताया की बहुत से लोग ब्रेन ट्यूमर के लक्षणों को सामान्य समझ कर नजरअंदाज कर देते हैं और बाद में स्थिति गंभीर हो जाती है, इसलिए इस घातक बीमारी के प्रति सही समय पर इलाज बहुत आवश्यक है। ब्रेन ट्यूमर का इलाज इस बात पर निर्भर करता है कि ट्यूमर का प्रकार क्या है, वह ब्रेन में किस स्थान.

ताजा खबरों के लिए एक क्लिक पर ज्वाइन करे व्हाट्सएप ग्रुप

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर