Explore

Search
Close this search box.

Search

July 16, 2024 8:49 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

हैरान करने वाले खुलासे: किडनैपिंग, टॉर्चर और कत्ल, कातिल एक्टर दर्शन को बचाने के लिए नेता-अभिनेता और सिस्टम सबने की पैरवी…

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

Pharmacist Renuka Swamy Murder Conspiracy: ऐसा आपने इससे पहले सिर्फ फिल्मों में देखा होगा, जब किसी बड़ी हस्ती को बचाने के लिए सरकार, विपक्ष, अदालत, वकील सब एकजुट हो जाते हैं. कर्नाटक की इस कहानी में भी कुछ ऐसा ही हुआ. बस फर्क इतना रहा कि सारी सरकारी मशीनरी एक तरफ थी और कर्नाटक पुलिस एक तरफ. कन्नड फिल्मों के सुपर स्टार दर्शन को बचाने के लिए तमाम नेताओं ने पूरी ताकत झोंक दी. लेकिन कमाल है कर्नाटक पुलिस, जो इस दबाव के आगे नहीं झुकी. कर्नाटक पुलिस ने अपनी रिमांड रिपोर्ट में इस दबाव के बारे में खुलकर लिखा है.

नेताओं ने पैरवी में लगाई थी पूरी ताकत

कई बार जरूरत से ज्यादा चालाकी इंसान पर भारी पड़ जाती है. अपने फैन रेणुका स्वामी के कत्ल के इल्जाम में गिरफ्तार कन्नड़ फिल्म स्टार दर्शन तुगुदीपा के साथ कुछ ऐसा ही हुआ. 8 जून को रेणुका स्वामी की लाश बरामद होने के बाद जैसे-जैसे पुलिस की जांच आगे बढ़ी और तफ्तीश के आईने में दर्शन का चेहरा नजर आने लगा, दर्शन के खासखास लोगों ने उसे कानून के शिकंजे से बचाने के लिए अपनी एड़ी-चोटी का ज़ोर लगाना शुरू कर दिया. नेता से लेकर अभिनेता तक हर किसी ने पुलिस महकमे के बड़े अफ़सरों के फोन खड़काने शुरू कर दिए और किसी भी तरह दर्शन को इस केस से बाहर निकालने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया.

फाइव स्टार होटल से गिरफ्तारी

ये शायद प्रभावशाली लोगों का दबाव और मीडिया में तेज़ी फैलती खबरों का ही असर था कि बेंगलुरु पुलिस ने इस मामले की तफ्तीश उतनी ही तेज़ी से आगे बढ़ाई और दो दिन गुजरते-गुजरते आखिरकार दर्शन को मैसुरु के एक फाइव स्टार होटल से गिरफ्तार कर लिया.

उल्टा पड़ा पुलिस पर दबाव डालना!

बेंगलुरु पुलिस ने अदालत में दर्शन और उसके साथियों के रिमांड के लिए दी गई अर्जी में खुद इस बाद का खुलासा किया है. हालांकि बेंगलुरु पुलिस के कमिश्नर बी दयानंद ने कहा है कि बेशक उन पर दबाव बहुत था, लेकिन वो किसी दबाव के आगे नहीं झुके. कमिश्नर ने कहा कि अब तक की तफ्तीश में पुलिस ने दर्शन और उसके गुर्गों के खिलाफ़ इतना पुख्ता केस तैयार किया है कि उसका सज़ा से बच पाना नामुमकिन है.

Read More :- फिर हो गया ये एक्शन: नीली बत्ती लगाकर कार से जा रहे थे यूपी के DSP, पुलिस ने रोका तो दिखाने लगे वर्दी की हनक….

दर्शन की जोरदार पैरवी कर रहे थे एक मंत्री

खुद कर्नाटक के एक राज्य मंत्री ने ही अपने फिल्म स्टार दोस्त दर्शन को बचाने की कोशिश की। कुछ सूत्रों ने दावा किया है कि जब पुलिस ने रेणुका स्वामी के क़त्ल के मामले में मैसुरु के एक होटल से फिल्म स्टार दर्शन को हिरासत में लिया, तो इस मंत्री ने ना सिर्फ बेंगलुरु के बड़े पुलिस अधिकारियों को ताबड़तोड़ कॉल्स किए, बल्कि गृह मंत्री और यहां तक की मुख्य मंत्री के दफ्तर में भी संपर्क साध कर दर्शन की मदद करने की बात कही. हद तो तब हो गई जब इस मामले को लेकर ये मंत्री खुद राज्य के गृह मंत्री जी परमेश्वरा के घर से उनसे मिलने पहुंच गया. हालांकि इस सिलसिले में पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए बाद में गृह मंत्री ने साफ किया कि उन पर इस मामले में किसी का कोई भी दबाव नहीं है.

BJP विधायक का नाम और एक करोड़ रिश्वत की पेशकश

इतने संगीन गुनाह में नाम आने के बावजूद जिन लोगों ने दर्शन की मदद करने की कोशिश की, उनमें एक बीजेपी के विधायक का नाम भी शामिल है. जिसने दर्शन की गिरफ्तारी के बाद पुलिस के बड़े अफसरों से बात कर मामले को रफा दफा करने के लिए दबाव बनाया, लेकिन लगातार मीडिया में आती खबरों के सामने किसी का कोई भी दबाव काम नहीं आया. दर्शन पर शिकंजा कसता चला गया. इससे पहले दर्शन के कुछ गुर्गों ने रेणुका स्वामी की लाश का पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों को 1 करोड़ रुपये की रिश्वत देने की पेशकश की थी, जबकि गुर्गों को खुद बेंगलुरु पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर ने ही रेणुका स्वामी की लाश को गंदे नाले में ठिकाने लगाने का आइडिया दिया था.

जीभ, नाक, कान सबकुछ काट डाला!

लेकिन दर्शन ने रुपयों के दम पर रेणुका स्वामी का पोस्टमार्टम करने वाले जिन डॉक्टरों को खरीदने की कोशिश की, उन्हीं की पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने दर्शन और उसके गुंदों की दरिंदगी की पोल खोल कर रख दी. डॉक्टरों ने अपनी रिपोर्ट में रेणुका स्वामी के जिस्म पर 15 से ज्यादा गंभीर चोटों के निशान होने की बात लिखी है. इसके साथ ही ये बताया है कि ये चोटें उसके शरीर में सिर, सीने, एबडोमेन यानी पेट के निचले हिस्से और प्राइवेट पार्ट तक में मौजूद थे. रेणुका स्वामी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट अपने-आप में उसके साथ हुई दरिंदगी की एक रौंगटे खड़े करने वाली कहानी है.

कुचले गए थे रेणुका के प्राइवेट पार्ट

इस रिपोर्ट में में बताया गया है कि रेणुका स्वामी के निजी अंगों को उसकी हत्या करने वाले लोगों ने पूरी तरह से कुचल दिया था. दर्शन के इशारे पर जब उसके गुर्गे रेणुका के साथ हद से ज्यादा जुल्म ढा रहे थे और वो चिल्ला रहा था, तो उसकी आवाज़ बंद करने के लिए जालिमों ने उसकी जुबान तक काट ली थी और जबड़ा तोड़ कर अलग कर दिया था. यहां तक कि पुलिस ने जब उसकी लाश बरामद की, तो उसकी नाक और कान तक कटे हुए मिले. कुछ सूत्रों ने दावा किया है कि 7 जून को जब रेणुका स्वामी को दर्शन के गुर्गे पकड़ कर कामाक्षीपाल्या इलाके के शेड तक लेकर आए, तो दर्शन ने पहले उसकी बेल्ट से जी भर कर पिटाई की और फिर उसके निजी अंगों पर लात भी मारे थे.

टूटी थी जिस्म की कई हड्डियां, खोपड़ी में था फ्रेक्चर

रेणुका स्वामी की पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों ने उसके शरीर पर गर्म लोहे की रॉड से दागे जाने के निशान पाए हैं. डॉक्टरों ने बताया है कि उसकी नाक, जीभ काट डाली गई थी और जबड़ा भी तोड़ कर अलग कर दिया गया था. इसके साथ-साथ पूरे शरीर पर अनगिनत हड्डियां टूटी हुई थीं. ऐसा लगता था कि जैसे उसे दीवार से टकरा कर मारा गया है. उसके स्कल यानी खोपड़ी में फ्रैक्चर के निशान मिले. बल्कि सच्चाई तो ये है कि ये रेणुका स्वामी की लाश का पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों ने ही इस केस का खुलासा किया, वरना बेंगलुरु की पुलिस पहले तो इसे सुसाइड यानी खुदकुशी का मामला मान कर चल रही थी.

कत्ल से पहले रेणुका को लगाया करंट!

लेकिन रेणुका स्वामी के साथ हुई ये ज्यादती भी मानों कम थी कि दर्शन के गुर्गों ने उसकी हत्या करने से पहले उसे बिजली के झटके भी दिए. पुलिस सूत्रों की मानें तो दर्शन के एक गुर्गों ने केबल ऑपरेटर से इलेक्ट्रिक शॉक देने वाले एक टॉर्च का इंतजाम किया था, जिससे रेणुका स्वामी को उसकी मौत से पहले बिजली के झटके देकर टॉर्चर किया गया. पुलिस ने अब उस केबल ऑपरेटर की पहचान करने के साथ-साथ दर्शन के ठिकाने से इलेक्ट्रिक शॉक वाले उस टॉर्च को भी बरामद कर लिया है, जो क़ातिलों के खिलाफ एक अहम सबूत साबित हो सकते हैं.

अब ‘इंस्टाग्राम’ से सबूत मांगेगी पुलिस!

से तो पुलिस ने इस मामले में तमाम आरोपियों को गिरफ्तार करने के साथ-साथ क़त्ल में इस्तेमाल किए गए हथियारों और लाश ठिकाने लगाने के लिए काम में लिए गए गाड़ी को भी बरामद कर लिया है, लेकिन जो एक चीज़ इस केस में अब भी मिसिंग है, वो है रेणुका स्वामी का मोबाइल फोन. पुलिस को अब भी रेणुका स्वामी का मोबाइल फोन नहीं मिला है. ऐसे में पुलिस इंस्टाग्राम पर रेणुका स्वामी की ओर से भेजे गए मैसेजेस और उस पर दर्शन की गर्लफ्रेंड पवित्रा गौड़ा के रिएक्शन को जानने समझने के लिए अब इंस्टाग्राम से संपर्क साधने की तैयारी में है. ताकि ये पता चल सके कि रेणुका स्वामी और पवित्रा गौड़ा के बीच सोशल मीडिया पर आखिर क्या और कैसी बातचीत हुई थी. हालांकि पुलिस के पास पवित्रा गौड़ा का मोबाइल फोन और सोशल मीडिया हैंडल के डिटेल मौजूद हैं, जिससे उसने कई सबूत हासिल भी कर लिए हैं.

पुलिस के बाद दर्शन पर IT डिपार्टमेंट का शिकंजा!

दर्शन फिलहाल रेणुका स्वामी के क़त्ल के मामले में तो फंसा ही है, अब उस पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का शिकंजा भी कसने जा रहा है. पुलिस ने अब तक दर्शन के अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी कर 70 लाख से ज्यादा रुपये बरामद किए हैं. जिनका सोर्स जानने के लिए पुलिस ने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को खत लिखा है, ताकि ये पता चल सके कि आखिर दर्शन ने ये 70 लाख रुपये कहां से इकट्ठा किए. इसके अलावा अब की तफ्तीश में पता चला है कि रेणुका स्वामी का क़त्ल करने करने के बाद दर्शन ने उसकी लाश को ठिकाने लगाने के लिए अपने मोहन राज नाम के एक दोस्त से 40 लाख रुपये उधार लिए थे, जिनमें से 30 लाख रुपये उसने अपने गुर्गों को दिए, जिन्होंने रेणुका की लाश को नाले में फेंकने के साथ-साथ उसके क़त्ल का इल्जाम भी अपने सिर पर लेने की कोशिश की थी लेकिन उनका भांडा फूट गया. अब पुलिस ने उन 40 लाख रुपयों के सिलसिले में मोहन राज से पूछताछ कर उसके पीछे की कहानी समझने की कोशिश में है.

रेणुका को लोहे की गर्म छड़ से दागा

पुलिस सूत्रों की मानें तो बेंगलुरु लाए जाने के साथ ही रेणुका स्वामी के साथ टॉर्चर का सिलसिला शुरू हो चुका था. हालांकि पहले तो उसे कुछ देर तक समझ ही नहीं आया कि ये सब उसके साथ क्या हो रहा है? क्योंकि उसे दर्शन पर खुद से ज्यादा यकीन था, लेकिन यहां दर्शन के ईशारे पर खुद उसी के गुर्गे उसकी जान लेने पर आमादा थे. बेंगलुरु के एक सुनसान ठिकाने पर अब उसके साथ मारपीट, लोहे के गर्म छड़ से दागे जाने और दूसरे तरीकों के बर्बरता की शुरुआत हो चुकी थी.

खुद दर्शन ने भी की थी रेणुका की पिटाई

चूंकि दर्शन लगातार रेणुका स्वामी को लेकर अपने गुर्गों के टच में था, जब उसे रेणुका को बेंगलुरु लाए जाने की खबर मिली, तो वो खुद भी उस ठिकाने तक पहुंचा, जहां रेणुका को बंधक बना कर रखा गया था. यहां पहुंचने के बाद उसे पहले रेणुका को बेल्ट से बुरी तरह से पीटा. उस रेणुका को जब दर्शन को किसी भगवान की तरह पूजता था और यहां खुद उसका भगवान ही उसे सज़ा देने पर और उसकी जान लेने पर आमादा था. जब रेणुका को बुरी तरह पीटने के बाद दर्शन का जी भर गया, तो फिर वो अपने गुर्गों को उसे ठिकाने लगा देने का हुक्म देते हुए वहां से वापस चला गया. इसके बाद भी देर तक रेणुका पर जुल्मों सितम का सिलसिला चलता रहा और आखिरकार उसकी जान चली गई.

13 साल पहले भी हुई थी दर्शन की गिरफ्तारी 

कहते हैं इतिहास अपने आप को दोहराता जरूर है. कन्नड़ फिल्म स्टार दर्शन तुगुदीपा के जेल जाने का मामला कुछ ऐसा ही है. रेणुका स्वामी के क़त्ल के इल्जाम में गिरफ्तार किए जाने के बाद दर्शन तुगुदीपा को 23 जून को आखिरकार फिर से बेंगलुरु के उसी जेल में जाना पड़ा, जहां अब से 13 साल पहले गिरफ्तार होने के बाद उसने 28 दिन सलाखों के पीछे गुज़ारे थे. तब दर्शन पर अपनी पत्नी विजयलक्ष्मी के साथ मारपीट करने का इल्ज़ाम था.

साल 2011 में विजय लक्ष्मी ने दर्ज कराया था केस

रेणुका स्वामी के क़त्ल के इल्जाम में गिरफ्तार होने के बाद दर्शन अब तक पुलिस रिमांड पर चल रहा था. लेकिन पुलिस ने अब उसके साथ-साथ तीन और आरोपियों को अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया. साल 2011 में विजय लक्ष्मी ने दर्शन पर मारपीट करने का इल्जाम लगाया था, जिस पर उसे गिरफ्तार किया गया था. लेकिन बाद में उसे इस केस में जमानत मिल गई और दर्शन और उसकी पत्नी के बीच समझौता हो गया.

जेल में फूट-फूट कर रोया दर्शन

अब ये तकदीर का खेल नहीं तो और क्या है कि जिस पत्नी के साथ मारपीट के इल्जाम में 13 साल पहले दर्शन तुगुदीपा बेंगलुरु जेल में बंद था, इस बार गिरफ्तारी के बाद जब वही पत्नी विजयलक्ष्मी दर्शन तुगुदीपा से मिलने से बेंगलुरु जेल पहुंची, तो दर्शन उससे मिल कर फूट-फूट कर रोने लगा. विजयलक्ष्मी के साथ दर्शन और विजयलक्ष्मी का बेटा विनीश भी दर्शन से मिलने पहुंचा था. सोमवार को जब तीनों की एक दूसरे से मुलाकात हुई तो दर्शन खुद पर काबू नहीं रख सका.

दर्शन का डाई-हार्ड फैन था रेणुका

एक्टर दर्शन तुगुदीपा की कर्नाटक में अच्छी खासी फैन-फोलोइंग हैं. लोग उसे कॉपी करते हैं, उसकी तरह चलने बोलने की कोशिश करते हैं. कर्नाटक के ही चित्रदुर्ग का रहने वाला रेणुका स्वामी भी उन्हीं लोगों में से एक था, जो दर्शन को बेइंतहा चाहता था. यानी एक डाई-हार्ड फैन. लेकिन अपने हीरो के लिए उसकी ये दीवानगी ही उसकी मौत की वजह बन गई.

रेणुका की ये आदत बनी मौत की वजह

असल में दर्शन पहले से शादीशुदा और बाल बच्चेदार होने के बावजूद पवित्रा के साथ रिलेशन में था. जिसे लेकर उसके कई फैन उससे शिकायत भी करते थे. हालांकि दर्शन और पवित्रा ने कभी इस ओर ध्यान नहीं दिया. लेकिन रेणुका स्वामी दर्शन के उन फैंस में था, जो हर बार दर्शन के साथ संबंधों को लेकर पवित्रा की खिंचाई किया करता था. पुलिस की मानें तो पवित्रा जब भी सोशल मीडिया पर दर्शन के साथ कोई फोटो या वीडियो डालती या फिर कोई रील शेयर करती, रेणुका फेक आईडी से उसके पोस्ट्स में कमेंट किया करता था. तकरीबन हर कमेंट में पवित्रा को इस बात के लिए लानत भेजा जाता कि वो शादीशुदा दर्शन की जिंदगी में जबरन आ गई, जबकि दर्शन की अपनी फैमिली है. कई बार तो रेणुका बहुत की आपत्तिजनक बातें भी लिखता था. और रेणुका की यही आदत उसकी मौत की वजह बन गई.

इसलिए किया गया रेणुका का कत्ल

पुलिस सूत्रों की मानें तो रेणुका ने पहले भी कई बार पवित्रा गौड़ा के खिलाफ आपत्तिजनक बातें लिखीं और उसे दर्शन की जिंदगी से दूर चले जाने को कहा. और आखिरकार पवित्रा ने इसे लेकर दर्शन के बात की और दर्शन ने रेणुका का कत्ल करने का फैसला कर लिया. रेणुका स्वामी की लाश का पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों ने बताया है कि आरोपियों ने रेणुका स्वामी को सजा देने के लिए उसकी नाक, जीभ और जबड़े को भी काट डाला था. यानी उसके खिलाफ बर्बरता की सारी हदों से आगे निकल गए थे.

विवादों से दर्शन का पुराना नाता

दर्शन चंदन की लकड़ी का कारोबार करने के साथ-साथ कन्नड़ फिल्मों का सुपर स्टार है. वैसे तो दर्शन पहले से ही शादीशुदा था, लेकिन पिछले कुछ सालों से एक्ट्रैस पवित्रा के साथ उसकी नजदीकियों ने लोगों का ध्यान खींचा. और तो और जब पवित्रा ने सोशल मीडिया पर दोनों के रिश्तों को लेकर खुल्लम खुल्ला ऐलान करना शुरू कर दिया, तो जहां चर्चाओं का बाज़ार गर्म हो गया, वहीं दर्शन की अपनी पहली पत्नी के साथ भी विवादों की शुरुआत हो गई. मामला कानून की चौखट तक भी पहुंचा था. इस पहले अपनी एक मूवी क्रांति के प्रोमोशन के दौरान भी दर्शन ने हिंदू धर्म के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी, जिसका लोगों ने पुरजोर विरोध किया था. यहां तक कि भीड़ में एक बार दर्शन पर चप्पल भी फेंका गया. यानी दर्शन कत्ल के मामले में बेशक पहली बार गिरफ्तार हुआ हो, लेकिन विवादों से और कानून तोड़ने से उसका पुराना नाता रहा है.

ताजा खबरों के लिए एक क्लिक पर ज्वाइन करे व्हाट्सएप ग्रुप

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर