Explore

Search
Close this search box.

Search

May 25, 2024 2:19 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

West Bangal News: TMC का BJP पर साजिश के आरोप, “संदेशखाली के शेख शाहजहां” केस में महिलाओं ने लिया यूटर्न, मेरा रेप नहीं हुआ था…..

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

कोलकाता: पश्चिम बंगाल के बहुचर्चित संदेशखाली मामले में तृणमूल (TMC) नेताओं पर रेप का आरोप लगाने वाली तीन महिलाओं में से दो ने केस वापस ले लिया है। सामने आए विडियो में दावा किया गया कि बीजेपी के स्थानीय नेता ने कई महिलाओं से सादे कागज पर दस्तखत करवाए और बाद में सत्तारूढ़ तृणमूल नेताओं के खिलाफ रेप और यौन उत्पीड़न की शिकायत दर्ज करवाने में इन कागजों का इस्तेमाल किया गया। इसके बाद तृणमूल ने बीजेपी पर झूठ फैलाने का आरोप लगाया है। तृणमूल ने बीजेपी के शुभेंदु अधिकारी और अन्य के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत की और मांग उठाई कि पुलिस ऐक्शन का निर्देश जारी किया जाए। पार्टी ने दावा किया है कि BJP के एक नेता ने कैमरे पर कबूल किया है कि संदेशखाली मामले में रेप के आरोप मनगढ़ंत थे। इस बीच, BJP की पश्चिम बंगाल यूनिट के अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने आरोप लगाया कि स्टिंग ऑपरेशन फर्जी था और उन्हें शक है कि विडियो आर्टिफिशल इंटेलिजेंस की मदद से बनाया गया है।

तीन दिन पहले तृणमूल कांग्रेस ने सोशल मीडिया पर संदेशखालि ‘स्टिंग ऑपरेशन’ वीडियो को शेयर किया। इस वीडियो में एक स्थानीय बीजेपी नेता गंगाधर कोयल ने दावा किया था कि रेप के आरोप मनगढ़ंत थे। उसने दावा किया कि इस प्रकरण के पीछे पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी का हाथ है।

भारत का सबसे रईस बुजुर्ग शख्स:60 साल की उम्र में किया ‘मैजिक’, 23 हजार करोड़ से ज्यादा की संपत्ति…..

कई वीडियो आए सामने

अपने दावों पर बल देने के लिए टीएमसी ने संदेशखाली की कुछ महिलाओं के कई वीडियो शेयर किए। इन वीडियो में महिलाओं ने आरोप लगाया कि भाजपा ने उन्हें झूठे बलात्कार के मामले दर्ज कराने के लिए उनके साथ छल किया।

रेखा पात्रा को बीजेपी ने दिया है टिकट

टीएमसी ने एक ताजा वीडियो साझा किया है, इसमें बीजेपी नेता और बशीरहाट से लोकसभा उम्मीदवार रेखा पात्रा को संदेशखालि पीड़ितों के एक समूह की पहचान पर सवाल उठाते देखा गया है। इस समूह को भाजपा नेताओं ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मिलवाया था जिन्हें पीड़ित महिलाओं ने आपबीती बताई थी। रेखा पात्रा संदेशखाली विरोध प्रदर्शन के प्रमुख चेहरों में से एक हैं, जिन्हें बीजेपी ने चुनाव मैदान में उतारा है।

टीएमसी ने बीजेपी पर लगाए आरोप

तृणमूल कांग्रेस ने बुधवार को आरोप लगाया था कि भाजपा नेता उन महिलाओं को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं, जिन्होंने बलात्कार की शिकायत वापस लेने की इच्छा जाहिर की है । जारी किए गए वीडियो का जिक्र करते हुए, राज्य सरकार की मंत्री शशि पांजा ने कहा कि संदेशखाली पीड़ितों की जमीन हड़पने को लेकर कुछ शिकायतें रही होंगी। लेकिन उन्होंने कभी भी यौन अपराध की शिकायत नहीं की। इससे फिर साबित होता है कि भाजपा झूठ फैला रही है। मनगढ़ंत और डराने-धमकाने के इस घृणित कृत्य को बख्शा नहीं जाएगा।

शुभेंदु अधिकारी ने किया पलटवार

दूसरी ओर, पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने तृणमूल कांग्रेस के दावों को खारिज करते हुये आरोप लगाया कि वीडियो भाइपो (अभिषेक बनर्जी) और टीएमसी के निजी चुनाव-सह-राजनीतिक सलाहकार, आई-पैक ने तैयार किए हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि आई-पैक ने यह काम करवाने के लिए रुपये बांटे हैं। उन्होंने कहा कि हम जल्द ही दोनों के खिलाफ अदालत जा रहे हैं और सुनिश्चित करेंगे कि इस तरह के दुर्भावनापूर्ण झूठ फैलाने के लिए दोनों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

महिलाओं ने वीडियो में क्या कहा?

जारी किए गए नए वीडियो में से एक में एक महिला को यह कहते हुये सुना जा सकता है, ‘सादे कागज पर दस्तखत करा कर हमें धोखा दिया गया है। बाद में हमें पता चला कि हमारे नाम पर बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई गई है। यह बिल्कुल झूठ है।’ संदेशखाली की एक अन्य कथित निवासी ने एक अन्य वीडियो में इसी तरह का बयान दिया है। इसमें यह दावा किया गया है कि वह भाजपा

एक तीसरी महिला ने भी पियाली दास पर यही आरोप लगाया और कहा, ‘उसने हमारी प्रतिष्ठा को धूमिल किया है और हमें बहुत पीड़ा दी है।’ सीपीएम के बशीरहाट लोकसभा उम्मीदवार निरापद सरदार ने दावा किया कि तृणमूल और बीजेपी दोनों अपनी बात साबित करने के लिए वीडियो प्रसारित कर संदेशखाली के लोगों को भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन मतदाता अब जाग गए हैं और अब वामदलों के साथ हैं।

यह कहते हुये सुना जा सकता है, ‘सादे कागज पर दस्तखत करा कर हमें धोखा दिया गया है। बाद में हमें पता चला कि हमारे नाम पर बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई गई है। यह बिल्कुल झूठ है।’ संदेशखाली की एक अन्य कथित निवासी ने एक अन्य वीडियो में इसी तरह का बयान दिया है। इसमें यह दावा किया गया है कि वह भाजपा नेता पियाली दास की साजिश की शिकार हुई है।

पियाली दास पर भी आरोप

एक तीसरी महिला ने भी पियाली दास पर यही आरोप लगाया और कहा, ‘उसने हमारी प्रतिष्ठा को धूमिल किया है और हमें बहुत पीड़ा दी है।’ सीपीएम के बशीरहाट लोकसभा उम्मीदवार निरापद सरदार ने दावा किया कि तृणमूल और बीजेपी दोनों अपनी बात साबित करने के लिए वीडियो प्रसारित कर संदेशखाली के लोगों को भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन मतदाता अब जाग गए हैं और अब वामदलों के साथ हैं।

 

Geeta varyani
Author: Geeta varyani

ताजा खबरों के लिए एक क्लिक पर ज्वाइन करे व्हाट्सएप ग्रुप

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर