Explore

Search
Close this search box.

Search

March 3, 2024 8:26 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

Delhi News: Police ने CM केजरीवाल को सौंपा नोटिस, कहा- ‘तीन दिन में बताएं BJP से संपर्क वाले 7 MLA के नाम’

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

Delhi News: दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा के अधिकारियों ने शनिवार को पांच घंटे के नाटकीय घटनाक्रम के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर उन्हें एक नोटिस तामील कराया. आम आदमी पार्टी (आप) के सात विधायकों की भाजपा द्वारा खरीद-फरोख्त का प्रयास किये जाने के उनके आरोपों पर तीन दिनों के अंदर उनसे जवाब मांगा. दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘हमने सीएम केजरीवाल को नोटिस तामील कराया है. वह लिखित रूप में तीन दिनों के अंदर जवाब दे सकते हैं.’’ पुलिस सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री आवास पर मौजूद अधिकारियों को आखिरकार नोटिस सौंपा गया. अपराध शाखा ने केजरीवाल से आप के उन विधायकों के नामों का खुलासा करने को कहा, जिन्होंने भाजपा द्वारा उनसे संपर्क किये जाने का दावा किया था.

दरअसल, शुक्रवार की रात के बाद शनिवार को भी सिविल लाइंस में सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास पर फिर एक नाटकीय घटनाक्रम हुआ. दिल्ली पुलिस अपराध शाखा की एक टीम जांच के सिलसिले में उन्हें नोटिस देने एक बार फिर शनिवार को सीएम आवास पर पहुंची. अपने आवास पर कुछ पुलिसकर्मियों का एक वीडियो साझा करते हुए केजरीवाल ने ‘एक्स’ पर पोस्ट किया कि नोटिस तामील कराने के लिए भेजे गए पुलिस अधिकारियों से उन्हें सहानुभूति है. उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली में अपराध रोकना उसका (पुलिस का) कर्तव्य है, लेकिन उसे नाटक में शामिल किया जा रहा है. यही कारण है कि दिल्ली में अपराध बढ़ रहा है.’’

दिल्ली के सीएम ने किसी पार्टी या नेता का नाम लिए बिना पोस्ट में यह भी कहा कि ‘राजनीतिक आका’ उनसे पूछ रहे हैं कि ‘आप’ के किन विधायकों से पाला बदलने के लिए संपर्क किया गया था. उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए पूछा कि इस मुद्दे पर नाटक क्यों किया जा रहा है, जबकि पार्टी जानती है कि पिछले कुछ वर्षों में विधायकों की खरीद-फरोख्त कर देश भर में अन्य पार्टियों की सरकारें गिराने के पीछे कौन था? बता दें कि केजरीवाल ने पिछले सप्ताह आरोप लगाया था कि बीजेपी ने दिल्ली में उनकी सरकार गिराने के लिए आप के सात विधायकों को 25-25 करोड़ रुपये देने की पेशकश की है. इसके बाद, दिल्ली की मंत्री आतिशी ने भी पिछले सप्ताह यहां संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि बीजेपी ने दिल्ली में ‘ऑपरेशन लोटस (कमल) 2.0’ शुरू किया है. आतिशी ने कहा, ‘‘उन्होंने आप विधायकों को पैसे की पेशकश कर अपने पाले में करने की इसी तरह की कोशिश पिछले साल भी की थी, लेकिन वे असफल रहे.’’

गाजा का बेहाल: इजरायल का बदला, मौत का कहर और भुखमरी… खंडहर और कब्रिस्तान में तब्दील हो चुका है गाजा का ये इलाका

इसके बाद बीजेपी दिल्ली इकाई के प्रमुख वीरेंद्र सचदेवा के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने 30 जनवरी को शहर के पुलिस प्रमुख से मुलाकात की थी. बीजेपी के नेताओं ने दिल्ली पुलिस से आप नेताओं के आरोपों की जांच किए जाने की मांग की थी. इसी सिलसिले में अपराध शाखा की टीम शुक्रवार शाम को भी सीएम केजरीवाल और दिल्ली की मंत्री आतिशी के आवास पर पहुंची थी. सूत्रों ने कहा कि उन्हें कल शाम को नोटिस नहीं दिया जा सका, क्योंकि केजरीवाल के आवास पर अधिकारियों ने इसे लेने से इनकार कर दिया था और आतिशी भी आवास पर मौजूद नहीं थीं.

केवल नौटंकी करने आये हैं यहां

सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) स्तर के अधिकारी के नेतृत्व वाली टीम ने इस बात पर जोर दिया था कि नोटिस केजरीवाल को ही सौंपा जाएगा, क्योंकि यह उनके नाम से है, जबकि मुख्यमंत्री आवास के अधिकारियों ने कहा कि वे नोटिस लेने के लिए तैयार हैं. परिसर के बाहर, आप नेता जैस्मिन शाह को उस कानूनी प्रावधान पर अपराध शाखा के एक अधिकारी से बहस करते देखा गया, जिसके तहत वह केजरीवाल को ही नोटिस सौंपने पर अड़े हुए थे. जैस्मिन शाह ने ‘एक्स’ पर एक वीडियो साझा करते हुए पोस्ट किया, ‘‘मैंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के प्रवेश द्वार के सामने खड़े दिल्ली पुलिस के अधिकारी से यह सामान्य सवाल पूछा: वह किस कानून के तहत मुख्यमंत्री को व्यक्तिगत रूप से नोटिस सौंपने पर जोर दे रहे हैं? उनके पास कोई जवाब नहीं था. यह स्पष्ट है कि वे यहां केवल नौटंकी करने आए हैं.’’

बीजेपी पूरी तरह से बेनकाब

दिल्ली सरकार में मंत्री सौरभ भारद्वाज ने दावा किया कि पुलिस जान-बूझकर मुख्यमंत्री कार्यालय में नोटिस नहीं दे रही है. उन्होंने ‘एक्स’ पर पोस्ट किया, ‘‘यह (केंद्र की नरेन्द्र) मोदी सरकार के लिए बेहद शर्मनाक है. बीजेपी आज पूरी तरह बेनकाब हो गई है. शुक्रवार को बीजेपी भाजपा प्रवक्ताओं ने मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा पुलिस का नोटिस नहीं स्वीकार करने का आरोप लगाया. आज वे बेनकाब हो गए हैं. पुलिस एसीपी जान बूझकर मुख्यमंत्री कार्यालय में नोटिस नहीं दे रहे हैं.’’

छवि खराब करने की कोशिश

आप के एक और नेता संदीप पाठक ने कहा, ‘‘सभी अधिकारियों को अब ‘न’ कहना सीखना होगा, भले ही वे (केंद्र से) कितने ही दबाव का सामना क्यों न करें.’’ दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय ने अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट किया, ‘‘पुलिस मुख्यमंत्री के बजाय बीजेपी के शीर्ष नेताओं से पूछे कि आम आदमी पार्टी के किन-किन विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई?’’ आप सूत्रों ने दावा किया कि पुलिस मुख्यमंत्री की छवि खराब करने के लिए मीडिया को अपने साथ लेकर आई.

बीजेपी ने की एफआईआर दर्ज करने की मांग

वहीं, दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने एक प्रेस बयान में आरोप लगाया कि केजरीवाल का व्यवहार अपराधियों जैसा हो गया है. उन्होंने कहा कि उनके पास कोई सबूत नहीं है और ‘‘लोटस 2.0’’ का आरोप उनके भ्रष्टाचार से ध्यान भटकाने के लिए एक मनगढ़ंत कहानी है. भाजपा नेता रामवीर सिंह बिधुड़ी ने बयान में कहा कि यदि केजरीवाल और आतिशी अपने खिलाफ आरोपों को साबित करने में नाकाम रहते हैं तो उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाए.

Sanjeevni Today
Author: Sanjeevni Today

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर