Explore

Search
Close this search box.

Search

May 18, 2024 10:30 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

ब्रिटेन: पेट में बनती थी गैस, फ‍िर हुई ऐसी दुर्लभ बीमारी, दिल से दी जाती है खुराक

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

पेट में गैस बने, तो एस‍िडिटी समझकर नजरंदाज न करें. वरना जान जाने की नौबत आ सकती है. ब्रिटेन की रहने वाली 25 साल की लिव रोज के साथ यही हुआ. ल‍िव जब 18 साल की थी, तो पेट में गैस बनने की समस्‍या से परेशान थी. असहनीय दर्द होता था. ऐसा लगता था क‍ि जान न‍िकल जाएगी. डॉक्‍टरों को दिखाया तो पहले तो उन्‍होंने सामान्‍य एस‍िड‍िटी की समस्‍या बताकर दवाएं दे दी. लेकिन दर्द ठीक नहीं हुआ. बाद में गंभीरता से जांच हुई तो पता चला क‍ि वह पेट के लकवे की बीमारी गैस्ट्रोपेरेसिस से ग्र‍स‍ित हैं. इसकी वजह से वह बीते आठ साल से कुछ भी खा-पी नहीं पा रही है. उसे दिल के जर‍िये खाने की खुराक दी जाती है.

मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक, ल‍िव ने कहा-3 साल की उम्र से मैं खाना खाते समय पेट में दर्द महसूस करती थी. बार-बार डॉक्‍टरों के पास गई, लेकिन सबने इसे बीमारी मानने से इनकार कर दिया. लेकिन धीरे-धीरे दर्द असहनीय होने लगा. 17 साल की उम्र होते-होते हालत खराब हो गई. कुछ भी तेल मसाले वाला खाना खा लूं, तो उल्‍टी हो जाती थी. खाना पचता ही नहीं था. भूख बहुत लगती थी, लेकिन कुछ भी खाने पर खूब दर्द होता था. इसके बाद डॉक्‍टरों ने मुझे ईटिंग डिसऑर्डर बताया. कई तरह की जांच के बाद पता चला क‍ि मुझे दुर्लभ बीमारी है. इसे पेट का लकवा भी कहते हैं. आंत उस तरह से काम नहीं करती, जैसी करनी चाह‍िए.

हिकमैन लाइन से खाना दे रहे
अब डॉक्‍टर ल‍िव को हिकमैन लाइन से खाना दे रहे हैं. यह लाइन सीधे उनके हार्ट तक जाती है, वहां से खून के जर‍िये पूरे शरीर को पोषण दिया जाता है. दूध पिलाने के ल‍िए नाक में एक नली लगाई गई है. उसका कुपोषण ठीक क‍िया जा सके, इसके लि‍ए डॉक्‍टर कई तरह के प्रयोग कर रहे हैं. लेकिन इसमें संक्रमण का खतरा काफी ज्‍यादा है. इसल‍िए ह‍िकमैन लाइन को बेहद सावधानी से रोजाना साफ करना होता है.

CBSE Result 2024 Updates: जल्द जारी हो सकता है सीबीएसई बोर्ड 10वीं-12वीं का रिजल्ट

हर दो सप्ताह में ब्‍लड टेस्‍ट
लिव का हर दो सप्ताह में ब्‍लड टेस्‍ट किया जाता है. उसकी एक नस दब गई थी. इसके ल‍िए सर्जरी की गई, और नस काटकर बाहर निकाला गया. उसकी जगह कृत्रिम नस लगाई गई है. ल‍िव ने कहा, मैं अब पहले से स्‍वस्‍थ महसूस करती हूं. लेकिन जब मेरा पूरा पर‍िवार खाना खा रहा होता है, तो मुझे भी भूख लग जाती है. इसल‍िए मैं उस वक्‍त कमरे में ही नहीं रहती. मैं अपने परिवार के साथ समय बिताती हूं.

Sanjeevni Today
Author: Sanjeevni Today

ताजा खबरों के लिए एक क्लिक पर ज्वाइन करे व्हाट्सएप ग्रुप

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर