Explore

Search
Close this search box.

Search

May 18, 2024 11:00 pm

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

अभिनेता Shekhar Suman,ने मात्र 10 साल की उम्र में अपने बड़े बेटे को खो दिया , नहीं चाहते थे जीना, सालों बाद हुआ ऐसा चमत्कार, नहीं होगा यकीन!

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

नई दिल्ली। औलाद को खोने का गम क्या होता है, इसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है। शेखर सुमन भी असहनीय दर्द से गुजर चुके हैं। अभिनेता ने मात्र 10 साल की उम्र में अपने बड़े बेटे आयुष शर्मा  को खो दिया था। हार्ट प्रॉब्लम की वजह से आयुष का निधन हो गया था।

Approved Plot in Jaipur @ 3.50 Lakh call 9314188188
जमीन पर सिर पटककर रोये थे शेखर सुमन

शेखर सुमन ने एक हालिया इंटरव्यू में बताया कि बेटे के निधन के बाद वह अंदर से किस कदर टूट गए थे। न उन्हें सक्सेस से मतलब था और ना ही जीने की इच्छा थी। सिद्धार्थ कन्नन के साथ बातचीत में अभिनेता ने कहा, “जब मैंने अपना बेटा खोया, आयुष। 10 साल की उम्र में मैंने जब उसे खो दिया था तो मैं जिंदगी से पूरी तरह तबाह और बर्बाद हो गया था। मुझे जीना नहीं था। मैंने अपने दिल का एक हिस्सा खोया था, जो मेरे लिए बहुत प्रिय था और मैं जमीन पर सिर पटक कर रोया था। फिर उसके बाद मुझे जीने की इच्छा भी नहीं थी।”

बेटे के निधन के बाद सुध-बुध खो बैठे थे शेखर

इमोशनल होकर शेखर सुमन ने यहां तक कहा कि बेटे के निधन के बाद उनमें पैसे कमाने की होड़ या फिल्मी दुनिया की सक्सेस से कोई लेना-देना नहीं था। उनकी इन सबमें दिलचस्पी खत्म हो गई थी। अभिनेता ने कहा, “मैं बेजान हो गया था। एक दिखावे की दुनिया थी, जहां मैं हंस मुस्कुरा देता था या फिर आर्थिक जरूरत के लिए काम करता था, क्योंकि घर भी चलाना था। पर मुझे जीने की इच्छा नहीं थी।”

पश्चिम बंगाल में रामनवमी पर जहां भड़की हिंसा, वहां नहीं होने देंगे Lok Sabha Elections, हाई कोर्ट ने क्यों दी ये चेतावनी? जानें

शेखर सुमन का बेटा निधन के बाद लौटा?

शेखर सुमन ने इसी इंटरव्यू में बताया कि बेटे के निधन के बाद वह कई पंडित से मिले और पूछा कि ऐसा क्यों हो रहा है। फिर एक बार उन्हें किसी ने कहा कि एक बार उनका बेटा उनसे जरूर मिलेगा। अभिनेता ने बताया कि साल 2009 में वह बिहार में चुनावी रैली में शामिल हुए थे और उनकी पत्नी काशी विश्वनाथ गई थीं। बीच रैली में उनकी पत्नी ने उन्हें फोन किया और शॉकिंग बात बताई, जिसका अंदाजा उन्हें पहले से ही था।

अल्का ने शेखर सुमन को बताया कि वह एक सेकंड के लिए आयुष से मिली थीं। जब वह एक सूनसान जगह पर कार में बैठी थीं, तभी एक बच्चा आया और उनसे पैसा मांगा। अल्का ने पैसा निकाल के दिया तो इतने में बेटा बोला, ‘इसमें मेरा क्या होगा?’ यह स्टेटमेंट कभी बीमारी में आयुष बोला करता था। ये सुन अल्का ने उस बच्चे को देखा, जो आयुष था। वह बेहोश हो गईं और जब होश आया तो वहां कोई नहीं था। शेखर सुमन ने यह शॉकिंग बात बताई।

Sanjeevni Today
Author: Sanjeevni Today

ताजा खबरों के लिए एक क्लिक पर ज्वाइन करे व्हाट्सएप ग्रुप

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर