Explore

Search
Close this search box.

Search

March 3, 2024 8:16 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

महिलाओं के सामने फूट-फूट कर क्यों रो पड़े किम जोंग उन!

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन बेहद ही सख्त किस्म के शासक माने जाते हैं लेकिन उनका एक ऐसा वीडियो सामने आया है जिस पर यकीन करना मुश्किल हो रहा है. वीडियो में तानाशाह किम जोंग उन रोते दिख रहे हैं और उनकी आंखों से आंसूओं की धार बह रही है जिसे वो पोंछ रहे हैं. बताया जा रहा है कि किम उत्तर कोरिया की महिलाओं से अधिक बच्चे पैदा करने की अपील कर रहे थे और इसी दौरान फूट-फूट कर रो पड़े.

उत्तर कोरिया में जन्मदर घट रही है जिसे देखते हुए किम अपने देश की महिलाओं को अधिक बच्चे पैदा करने की अपील कर रहे थे. किम ने उत्तर कोरिया की महिलाओं से ‘राष्ट्रीय शक्ति’ मजबूत करने के लिए अधिक बच्चे पैदा करने को कहा है.

सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे एक वीडियो में किम जोंग उन राजधानी प्योंगयांग में महिलाओं के एक कार्यक्रम में रोते और अपनी आंखों को सफेद रूमाल से पोंछते दिख रहे हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, किम ने कार्यक्रम के दौरान कहा, ‘जन्म दर में गिरावट को रोकना और बच्चों की अच्छी देखभाल करना, उन्हें अच्छी शिक्षा देना ऐसे पारिवारिक मामले हैं जिन्हें हमें अपनी माताओं के साथ मिलकर हल करना चाहिए.’

उत्तर कोरिया में घटती जन्म दर

संयुक्त राष्ट्र के आंकड़े दिखाते हैं कि उत्तर कोरिया के जन्म दर में हाल के दशकों में भारी गिरावट आई है. 2023 तक उत्तर कोरिया में प्रति मां बच्चों की औसत संख्या 1.8 थी.

उत्तर कोरिया की तरह ही उसके पड़ोसी दक्षिण कोरिया में भी जन्म दर में भारी गिरावट देखा जा रही है. दक्षिण कोरिया की प्रजनन दर दुनिया में सबसे कम है. वहां जन्म दर में गिरावट की प्रमुख वजह स्कूलों की फीस का बहुत ज्यादा होना, बच्चों की देखभाल न कर पाना और पुरुष केंद्रित कॉर्पोरेट समाज का होना है.

1970-1980 के दशक में, उत्तर कोरिया ने युद्ध के बाद जनसंख्या वृद्धि को धीमा करने के लिए जन्म नियंत्रण कार्यक्रम लागू किए. लेकिन 1990 के दशक के मध्य में वहां अकाल पड़ा जिसमें लाखों लोग मारे गए. इस वजह से उत्तर कोरिया की जनसंख्या में गिरावट शुरू हुई जो अब तक जारी है.

जन्म दर बढ़ाने के लिए उत्तर कोरिया ने कई उपाय किए हैं जिसमें तीन या तीन से अधिक बच्चों वाले मां-बाप को कई तरह के लाभ देना शामिल है. इस लाभ के तहत बच्चों के रहने के लिए आवास की व्यवस्था, राज्य की तरफ से सब्सिडी, मुफ्त भोजन, दवा, घरेलू सामान और शिक्षा संबंधी सुविधाएं शामिल हैं.

हुंडई इंस्टीट्यूट की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तर कोरिया की आबादी 2034 से और घटने की उम्मीद है. अनुमान है कि 2070 तक उत्तर कोरिया की आबादी घटकर 2.37 करोड़ हो जाएगी. 2021 के आंकड़ों के मुताबिक, उत्तर कोरिया की आबादी 2.6 करोड़ है.

sanjeevni today
Author: sanjeevni today

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर