Explore

Search
Close this search box.

Search

April 19, 2024 8:45 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

होली महोत्सव: जिम्मी मगिलिगन सेंटर में महिलाओं, एसजीएसआईटीएस के छात्रों और बच्चों ने होली के लिए प्राकृतिक रंग बनाने सीखे…

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email

जनक पलटा मगिलिगन ने होली महोत्सव के लिए प्राकृतिक रंग बनाने के लिए अपने सप्ताह भर के प्रशिक्षण की शुरुआत स्वंय तथा केंद्रीय विद्यालय के गुरुबक्स बहाई प्रार्थना के साथ की। उन्होंने एसजीएसआईटीएस के सिविल इंजीनियरिंग के अंतिम वर्ष के छात्रों, सिल्वर स्प्रिंग और विजयनगर इंदौर की महिलाओं के दो उत्साही समूहों और सनावदिया के कई युवाओं और बच्चों सहित सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया। उन्होंने अपने पूरे जीवन के उद्देश्य के बारे में सीखने का उद्देश्य समस्त परनिओ के साथ सद्भाव से रहना और ईश्वर की सभी रचनाओं के साथ स्वस्थ संबंध बनाए रखना बताया। उन्होंने मुख्य रूप से इस बात पर प्रकाश डाला कि पूरी सृष्टि को स्वस्थ बनाए रखना केवल टिकाऊ जीवन जीने से ही संभव है और इसके बारे में जागरूकता फैलाना और स्वम् उदाहर्ण बनना है ।

जयपुर में अप्रूवड प्लॉट मात्र 7000/- प्रति वर्ग गज 9314188188

इसके बाद उन्होंने सभी प्रतिभागियों को शामिल करके फूलों से होली प्राकृतिक रंग बना कर दिखाया। वे पलाश से नारंगी-सुनहरा रंग, गुलाब की पंखुड़ियों से गुलाल, बोगेनविला, मालाबार पालक (पोई का पौधा) और सोलर ड्रायर और सोलर कुकर में संतरे के छिलकों से बने रंगो को देखकर मंत्रमुग्ध हो गए। उन्होंने होली मनाने के लिए प्राकृतिक रंगों के उपयोग के महत्व पर जोर दिया, जो आनंदमय और स्वास्थ्यवर्धक है और प्यार से हमारी संस्कृति को बनाए रखना और प्रकृति के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाए बिना और रासायनिक रंगों को खरीदने और पर्यावरण को खराब करने और पानी बर्बाद किए बिना दोस्तों, परिवार, पड़ोस और समुदाय में अधिक सकारात्मकता लाना सबसे जरूरी है।

मुख्य अतिथि प्रो राजीव संगल पूर्व निदेशक आईआईआईटी हैदराबाद और बीएचयू ने ,बुराई पर अच्छाई की जीत के महत्व को दर्शाते हुए होलिका दहन की कहानी सुनाई। उन्होंने कहा, “हम सभी याद रखें कि अच्छाई की हमेशा जीत होती है और होली पर हर्षोल्लास के साथ रंग खेलने की प्रथा है और एक-दूसरे को अबीर-गुलाल लगाकर और गले मिलकर होली खेली जाती है। लेकिन हमारी पर्यावरण-प्रदूषित जीवनशैली में, हमारे भोजन और रोजमर्रा की जिंदगी में मौजूद रसायनों ने त्योहारों को भी प्रदूषित कर दिया है, रासायनिक रंग इसका एक बड़ा उदाहरण है। यह आकर्षण और खुशी को छीन लेता है क्योंकि होली की वास्तविकता मिलावटी हो गई है। आयोजित इस कार्यशाला में शामिल होना मेरे लिए सौभाग्य की बात है।

जनक दीदी वह प्यार से जो प्राप्त करती है उसे प्रकृति को वापस देकर अपने जीवन का उदाहरण प्रस्तुत करती है और इस कला को आत्मसात कर लिया है और उदाहरण के तौर पर जीवनयापन किया है और प्रत्येक दिन पूरे मन से सभी को सिखाती हैं, मुझे यकीन है कि सभी प्रतिभागी सीखेंगे और दूसरों को सिखाएंगे और होली का आनंद लेंगे।” डॉ शेफाली आयुर्वेद ने हमारे स्वास्थ्य के लिए इन फूलों और जड़ी-बूटियों के उपयोग के महत्व पर भी प्रकाश डाला। जिम्मी और जनक फाउंडेशन फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट के ट्रस्टी श्री वीरेंद्र गोयल ने सभी को धन्यवाद दिया और इस तरह के विचारोत्तेजक, प्रेरणादायक अमूल्य प्रशिक्षण की सराहना की और हम कामना करते हैं कि हम सभी अपने सांस्कृतिक मूल्यों और खुशियों के साथ हैप्पी होली मनाएं।

Sanjeevni Today
Author: Sanjeevni Today

ताजा खबरों के लिए एक क्लिक पर ज्वाइन करे व्हाट्सएप ग्रुप

Leave a Comment

Digitalconvey.com digitalgriot.com buzzopen.com buzz4ai.com marketmystique.com

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर