Explore

Search
Close this search box.

Search

February 25, 2024 4:24 am

Our Social Media:

लेटेस्ट न्यूज़

हर सफल व्यक्ति अपनी नाकामियों से ही कुछ न कुछ सीखता है।

WhatsApp
Facebook
Twitter
Email
पिछले वर्ष के अंत में हममें से बहुत सारे लोगों ने कई छोटे-बड़े संकल्प लिए होंगे। कई योजनाएं बनाई होंगी। कई सपने देखे होंगे। नए-नए विचारों को पाने के लिए नए विकल्प तलाशे होंगे। हमने तय कर लिया होगा कि नए वर्ष के शुरू होते ही हम नई ऊर्जा के साथ अपने संकल्पों की यात्रा को यादगार बनाएंगे। नए वर्ष के आते ही हमने उस पर अमल करना शुरू भी कर दिया होगा। पर सप्ताह भर बीतते-बीतते हमारे संकल्पों के सारे तटबंध टूटने लगे होंगे। जीवन के वास्तविक धरातल पर रहकर हमने अपनी आंखों से देखे कि किस तरह से संकल्पों का अवसान होता है। कैसे सिर्फ नाम के लिए किए गए संकल्प दरकिनार हो जाते हैं। यह जिंदगी का उसूल है कि संकल्प को पूरा करने के अवसर बहुत कम मिलते हैं। इसके विपरीत संकल्पों को तोड़ने उसे पूरा न होने देने के लिए अवसर बहुत होते हैं।
अक्सर ऐसा ही होता है जब हम कोई नया काम शुरू करने को होते हैं, तो उसमें हिम्मत बंधाने वाले कम, लेकिन अड़ंगा लगाने वाले कई लोग सामने आ जाते हैं। कई लोग तो भविष्यवाणी तक कर देते हैं कि इस काम में आप कभी कामयाब नहीं हो पाएंगे। कई लोग ऐसे दावे लिखकर भी दे देते हैं। पर बहुत कम लोग ऐसे होते हैं, जो हमारे सिर पर अपना हाथ रखकर अपने होने का अहसास दिलाते हैं। ऐसे लोगों की बदौलत ही हम उस काम को शुरू करते हैं और यह तय है कि वह काम धीरे-धीरे अपनी पहचान बनाता है। इसलिए शुरू में कामयाबी नहीं मिलती। इसमें धैर्य रखना होता है। हालांकि यह सच है कि लोगों के उलाहने सुनकर कई बार धैर्य भी धराशायी होने लगता है। यही समय होता है, जब हमें संभलने की आवश्यकता होती है। अगर इस समय नहीं संभल पाए, तो समझ लेना चाहिए कि हम कामयाबी को छूकर लौट आए।
अगर हमने नया काम शुरू किया है और लोग हमारी आलोचना कर रहे हैं, हमें फटकार रहे हैं, काम करने से रोक रहे हैं, तब हमें यह समझना चाहिए कि हम निश्चित रूप से कुछ ऐसा कर रहे हैं, जो पहले कभी नहीं हुआ। इस दौरान हम एक छोटा-सा संकल्प ले सकते हैं कि अपने काम से काम रखेंगे दुनिया वाले कुछ भी कहें, हम अपना रास्ता नहीं छोड़ेंगे। बस यहीं यह शुरू हो जाता है… हमारी कामयाबी का सफर । संकल्प की पहली शर्त यही है कि हम अपने आप तक ही सीमित रहें। हम अपने इस छोटे से संकल्प को सदैव याद रखें। फिर हम स्वयं देखेंगे कि कामयाबी किस तरह से हमारे करीब आती है। अपने संकल्प को याद रखने का सबसे अच्छा तरीका है, उसे लिखकर अपनी सबसे जरूरी और महत्त्वपूर्ण जगह पर रख दिया जाए, ताकि रोज हमें हमारा संकल्प याद आ जाए। संकल्प यानी अपने आप से किया जाने वाले वादा दूसरों से किया जाने वाला वादा एक बार तोड़ा जा सकता है, भुलाया जा सकता है, पर अपने आप से किया गया वादा तोड़ना जरा मुश्किल होता है। इस वादे में समाई होती है हमारी चाहतें, आकांक्षाएं। अगर हम कभी खुद को ईमानदारी के आईने में देखें, तो पाएंगे कि हम जब भी नाकाम हुए हैं, उसमें हमारी ही कहीं न कहीं कोई गलती थी। भले ही यह गलती हमने अनजाने में हुई हो पर गलती की सजा तो मिलनी ही होती है तब वह हमें नाकामी के रूप में मिल जाती है। अब इस विफलता से हमें क्या सीखना है, यह समय ही बताता है। हर विफलता अपने साथ नया अनुभव भी लेकर आती है। हमें विफलता पर कम और नए अनुभव पर अधिक विश्वास करना चाहिए। यह नया अनुभव ही हमें कामयाबी की मंजिल तक पहुंचाएगा।
बात संकल्पों से शुरू होती है, जो विफलता, वादा, धैर्य और अनुभव पर समाप्त हो सकती है। संकल्पों के तटबंध तभी टूटते हैं, जब हम उसके आधार को खो देते हैं। संकल्पों का आधार हम स्वयं ही हैं। खुद पर विश्वास करना, यानी सफलता की एक सीढ़ी चढ़ना होता है। इस पर पूरी शिद्दत के साथ चलना यानी हमने सफलता की ओर दूसरा कदम बढ़ाया। धैर्य को अपना साथी मान कर चलते चलना चाहिए, धीरे-धीरे हम मंजिल पा ही जाएंगे। तब हमें लगेगा कि जिन लोगों ने हमें इस मुकाम तक न पहुंचने देने में अपना योगदान दिया, वास्तव में वे ही लोग अनजाने में हमारे साथी बने। जो हितैषी होते हैं, वे बोलते कुछ नहीं, बस अपने होने का अहसास कराते हैं। हमें हमारी राह में अवरोध उत्पन्न करने वाले ही चुनौती देने का काम करते हैं। हम उन चुनौतियों का सामना करते हैं, यही हमारी सफलता है। याद रखने की जरूरत है कि हर सफल व्यक्ति अपनी नाकामियों से ही कुछ न कुछ सीखता है।
विजय गर्ग सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य शैक्षिक स्तंभकार मलोट
2)सार्वजनिक पुस्तकालय समाज के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं
विजय गर्ग
सार्वजनिक पुस्तकालय कई मायनों में समाज के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं:
1. सूचना तक पहुंच: सार्वजनिक पुस्तकालय पुस्तकों, पत्रिकाओं, समाचार पत्रों और डेटाबेस सहित शैक्षिक संसाधनों और सूचनाओं की एक विस्तृत श्रृंखला तक मुफ्त पहुंच प्रदान करते हैं। यह व्यक्तियों को, उनकी आर्थिक पृष्ठभूमि की परवाह किए बिना, ज्ञान प्राप्त करने और उनके आसपास की दुनिया के बारे में सूचित रहने में सक्षम बनाता है।
2. साक्षरता और शिक्षा को बढ़ावा देना: पढ़ने की संस्कृति को बढ़ावा देने और साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए पुस्तकालय आवश्यक हैं। वे सीखने के लिए एक सहायक वातावरण प्रदान करते हैं, चाहे वह बच्चों के लिए प्रारंभिक साक्षरता कार्यक्रमों के माध्यम से हो, छात्रों के लिए होमवर्क सहायता या वयस्क शिक्षा कार्यक्रमों के माध्यम से हो। पुस्तकों और संसाधनों तक पहुंच पढ़ने को प्रोत्साहित करती है, शब्दावली और भाषा कौशल को बढ़ाती है और आजीवन सीखने को बढ़ावा देती है।
3. डिजिटल विभाजन को पाटना: आज के डिजिटल युग में, कई आवश्यक सेवाएँ, नौकरी आवेदन और शैक्षिक संसाधन ऑनलाइन उपलब्ध हैं। हालाँकि, हर किसी के पास घर पर कंप्यूटर या इंटरनेट तक पहुंच नहीं है। सार्वजनिक पुस्तकालय मुफ्त कंप्यूटर और इंटरनेट पहुंच प्रदान करते हैं, जिससे डिजिटल विभाजन को पाटने में मदद मिलती है और यह सुनिश्चित होता है कि समाज के सभी सदस्यों को सूचना और प्रौद्योगिकी तक पहुंचने के समान अवसर मिले।
4. सामुदायिक जुड़ाव और सामाजिक संबंध: सार्वजनिक पुस्तकालय सामुदायिक केंद्र के रूप में कार्य करते हैं जहां लोग इकट्ठा हो सकते हैं, जुड़ सकते हैं और एक-दूसरे से जुड़ सकते हैं। वे अक्सर विभिन्न कार्यक्रमों, कार्यशालाओं, पुस्तक क्लबों और सांस्कृतिक गतिविधियों की मेजबानी करते हैं जो समुदाय और सामाजिक संपर्क की भावना को बढ़ावा देते हैं। पुस्तकालय सामाजिक समावेशन और विविधता को बढ़ावा देते हुए हाशिए पर मौजूद समुदायों और व्यक्तियों के लिए एक सुरक्षित और समावेशी स्थान भी प्रदान करते हैं।
5. संस्कृति और इतिहास का संरक्षण: पुस्तकालय पुस्तकों, पांडुलिपियों, अभिलेखीय सामग्रियों और अन्य संसाधनों को एकत्रित और संरक्षित करके संस्कृति और इतिहास के भंडार के रूप में कार्य करते हैं। इन सामग्रियों की सुरक्षा और उन तक पहुँच प्रदान करके, पुस्तकालय यह सुनिश्चित करते हैं कि समाज का ज्ञान और विरासत भावी पीढ़ियों तक पहुँचे।
6. आर्थिक विकास का समर्थन करना: सार्वजनिक पुस्तकालय नौकरी चाहने वालों के लिए संसाधन प्रदान करके, व्यक्तियों को करियर में उन्नति के लिए नए कौशल हासिल करने में मदद करके और उद्यमिता और छोटे व्यवसाय सहायता सेवाएं प्रदान करके आर्थिक विकास का समर्थन करने में भूमिका निभाते हैं। पुस्तकालय स्थानीय व्यवसायों के लिए एक संसाधन के रूप में भी कार्य करते हैं, जो बाजार अनुसंधान डेटा, उद्योग रिपोर्ट और व्यवसाय-संबंधी कार्यशालाएँ प्रदान करते हैं।
निष्कर्ष में, सार्वजनिक पुस्तकालय समाज के विकास, सूचना, शिक्षा, साक्षरता, सामुदायिक जुड़ाव, सांस्कृतिक संरक्षण और आर्थिक सशक्तिकरण तक पहुंच को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक हैं। वे लोकतांत्रिक संस्थाएँ हैं जो सभी व्यक्तियों को, उनकी पृष्ठभूमि की परवाह किए बिना, सीखने, बढ़ने और समाज में योगदान करने के समान अवसर प्रदान करती हैं।
Sanjeevni Today
Author: Sanjeevni Today

Leave a Comment

Advertisement
लाइव क्रिकेट स्कोर