जयपुर: महानवमी पर कन्याओं और बटुकों का पूजन कर कराया गया भोजन

 
जयपुर: महानवमी पर कन्याओं और बटुकों का पूजन कर कराया गया भोजन


जयपुर। राजधानी जयपुर में शनिवार को शारदीय नवरात्रि के अष्टमी-नवमी शनिवार को महानवमी पर कन्याओं और बटुकों का पूजन कर उन्हें भोजन करवाया गया। इस दौरान लोग मां शक्ति की आराधना में लीन रहे। लोगों ने व्रत रखकर माता की पूजा-अर्चना की। इसके अलावा  शहर के प्राचीन दुर्गा माता मंदिर सहित राम मंदिरों में धार्मिक कार्यक्रम हुए। मंदिरों में श्रद्धालुओं ने मातारानी के दर्शन कर सुख-समृद्धि की कामना की। कोरोना के मद्देनजर इस बार मंदिरों में वृहद स्तर पर कोई कार्यक्रम नहीं हुए। 

चांदपोल बाजार स्थित रामचंद्र जी मंदिर, आदर्शनगर स्थित राम मंदिर सहित अन्य मंदिरों में भगवान का विशेष शृेगार कर नई पोशाक धारण करवाई गई। पहली बार सभी कार्यक्रम बिना भक्तों के हो रहे हैं। सभी कार्यक्रम ऑनलाइन साझा किए जा रहे हैं। अखंड सुहाग की कामना और दीर्घायु के लिए कोलकाता में यह महोत्सव विशेष महत्व रखता है। राजधानी में यह उत्सव सभी दुर्गा पांडालों में आयोजित होता था। मालवीय नगर कालीबाड़ी पार्क में पुष्पांजलि कार्यक्रम हुआ। प्रतापनगर में सर्बोजनिन वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से कार्यक्रम हुआ। 

शारदीय नवरात्र का समापन रविवार को विजयादशमी पर होगा। रविवार को रियासतकालीन समय के चांदपोल स्थित राम मंदिर में शस्त्र पूजन होगा। इसके साथ ही शहर में दुर्गापंडालों में विद्वानों की मौजूदगी में संधि पूजन हुई। रविवार को विजयादशमी के मौके पर पांडालों में सिंदूर पूजन होगा। महिलाएं इस बार एक-दूसरे को सिंदूर नहीं लगाएंगी। वहीं गलता तीर्थ में स्वामी अवधेशाचार्य के सान्निध्य में महानवमी कार्यक्रम हुआ। 

आमेर शिला माता मंदिर में माता का विशेष शृंगार कर पूजन की गई और नवरात्री की पूर्णाहुति की गई । राजापार्क पंचवटी स्थित माता वैष्णो देवी मंदिर में दुर्गाष्टमी पर्व धूमधाम से मनाया गया। शनिवार सुबह से भक्तों का मंदिर में आना-जाना शुरू हो गया। इस मौके पर मंदिर में फूलों से सुंदर सजावट भी की गई है।

वैष्णो देवी सेवा समिति के उपाध्यक्ष घनश्याम आहूजा ने बताया कि शनिवार सुबह सबसे पहले माता का नई पोशाक धारण करा श्रृंगार किया गया। इसके बाद सुबह साढे 8 बजे विशेष आरती की और हलवा, चने का भोग लगाया। उन्होंने बताया कि कोरोना को देखते हुए इस बार कन्या भोज व भंडारा प्रसादी का आयोजन नहीं किया।

वहीं कोरोना को लेकर सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन की पालना करते हुए मंदिर में आने वाले भक्तों के हाथों सैनेटाइज किया जा रहा है।आमेर के मनसा माता मंदिर, दुर्गापुरा के दुर्गामाता मंदिर, पुरानी बस्ती स्थित रुद्रघंटेश्वरी सहित अन्य मंदिरों में भी दिनभर श्रद्धालु नजर आए। 

यह खबर भी पढ़े: नेहा कक्कड़ और रोहनप्रीत की हल्दी सेरेमनी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर हुई वायरल, देखें PHOTOS

From around the web