इस गांव में लोग एक-दुसरे को सीटी बजाकर बुलाते हैं, जो लोग सीटी नहीं बजा पाते...  

ऐसे तो हमारे समाज में सीटी बजाना अच्छे संस्कार नहीं माने जाते हैं। अगर घर में बच्चे कभी सीटी बजाते भी है
 
siti

डेस्क। ऐसे तो हमारे समाज में सीटी बजाना अच्छे संस्कार नहीं माने जाते हैं। अगर घर में बच्चे कभी सीटी बजाते भी है तो परिवार के लोग उन्हें डांट देते हैं। लड़के तो सीटी बजाते हैं तो फिर भी चल जाता है लेकिन लड़कियां अगर सीटी बजाती है तो वह अच्छे संस्कार नहीं माने जाते हैं। लेकिन आज आपको देश के ऐसे गांव के बारें में बताने जा रहे हैं जहां लोग सीटी बजाकर एक-दूसरे को बुलाते हैं।

यह खबर भी पढ़ें: इस देश में लड़कियों को सुन्दर बनाने के लिए निभाई जाती है अनूठी परंपरा, जानकर आप भी रह जाएंगे दंग

ऐसी परंपरा मेघालय राज्य के कांगथांन गांव की है। जहां पर सभी लोग एक-दूसरे को सीटी बजाकर बुलाते हैं। इस गांव में करीब 600 से ज्यादा लोग रहते हैं। सभी की ट्यून अलग होती है। यह गांव चारो तरफ पहाड़ियों से घिरा हुआ है जिस वजह से सीटी बजाते ही आवाज पूरी तरह गूंजने लगती है। जो लोग सीटी नहीं बजा पाते वह अलग-अलग तरह से धुन बजाकर पुकारते हैं जो कभी रिपीट नहीं होती है। 

यह खबर भी पढ़ें: इस मंदिर में लोग प्रसाद नहीं बल्कि चढ़ाते हैं खून, फिर भक्तों की लगती है भीड़

ऐसा भी मान्यता है कि जो लोग मर जाते हैं उनके द्वारा बजाई गई सीटी और धुन दूसरे लोग उपयोग नहीं कर सकते हैं। इस गांव को व्हिसलिंग विलेज के नाम से भी जाना जाता है। भारत देश में जहां सीटी बजाना अच्छी बात नहीं मानी जाती है। उसी देश के एक राज्य में सीटी बजाकर इस तरह से लोगों को बुलाया जाता हैं।

Download app: अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web