14 साल की लड़की से टीचर ने छीना मोबाइल तो छात्रा ने स्कूल में लगा दी आग! 20 की मौत

 
fire in school

आग लगने के कारण आरोपी लड़की भी जख्मी हो गई, फिलहाल हॉस्पिटल में उसका इलाज चल रहा है। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद उसे हिरासत में लिया जाएगा और पूछताछ की जाएगी। वहीं, अस्पताल में भर्ती 9 अन्य लोगों में से कई की हालत गंभीर बनी हुई है।

 

नई दिल्ली। 14 साल की एक छात्रा पर अपने स्कूल में आग लगाने का आरोप लगा है। उसकी इस हरकत के चलते 20 लोगों की जान चली गई। बताया गया कि वो टीचर द्वारा फोन जब्त किए जाने से नाराज थी। वारदात से पहले उसने आगजनी की धमकी भी दी थी। मामला साउथ अमेरिकी देश गुयाना (Guyana) का है। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

डेली स्टार की रिपोर्ट के मुताबिक, सोमवार रात को महदिया सेकेंडरी स्कूल (Mahdia Secondary School) के गर्ल्स हॉस्टल में आग लग गई थी। देखते ही देखते इसने स्कूल के एक बड़े हिस्से को अपने चपेट में ले लिया। कई छात्राएं और स्टाफ इसमें फंस गए। फौरन फायर ब्रिगेड की टीम बुलाई गई। लेकिन जब तक आग बुझती तब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी थी। 

ये घटना राजधानी जॉर्ज टाउन से लगभग 200 मील की दूरी पर सेंट्रल गुयाना माइनिंग टाउन में हुई थी। अब इस मामले में पुलिस ने खुलासा किया है कि आग लगाने वाला कोई और नहीं बल्कि स्कूल की ही एक छात्रा थी। छात्रा का मोबाइल उसके टीचर ने जब्त कर लिया था। वो इस बात से खफा हो गई थी। गुस्से में उसने खौफनाक कदम उठा लिया। छात्रा खुद भी आग में झुलस गई थी। 

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

पुलिस ने किया चौंकाने वाला खुलासा
पुलिस का कहना है कि आरोपी छात्रा ने आग सिर्फ इसलिए लगाई, क्योंकि स्कूल प्रशासन ने उसके मोबाइल फोन को छीनकर जब्त कर लिया था। दरअसल, स्कूल प्रशासन को पता चल गया था कि छात्रा एक उम्रदराज व्यक्ति के संपर्क में है। इसी के बाद ये एक्शन लिया गया। गुयाना के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेराल्ड गौविया ने बताया कि आरोपी लड़की कि उम्र करीब 14 साल है। जब उसका फोन छीन लिया गया था, तब उसने गर्ल्स हॉस्टल को आग लगाने की धमकी दी थी। 

हालांकि, आग लगने के कारण वो लड़की भी जख्मी हो गई, फिलहाल हॉस्पिटल में उसका इलाज चल रहा है। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद उसे हिरासत में लिया जाएगा और पूछताछ की जाएगी। वहीं, अस्पताल में भर्ती 9 अन्य लोगों में से कई की हालत गंभीर बनी हुई है। 

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

फिलहाल, इस दिल दहला देने वाली घटना को लेकर अमेरिका जैसे देशों ने गुयाना को मदद की पेशकश की है। इन देशों ने DNA पहचान में सहायता के लिए फोरेंसिक एक्सपर्ट को भेजने की बात कही है। क्योंकि, आग में जलने के कारण शवों की पहचान बड़ा संकट है। 

यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

मृतकों में अधिकांश गांवों से आने वाली 12 से 18 साल की लड़कियां थीं। स्कूल में काम करने वाली एक महिला कर्मचारी का पांच साल का बेटा भी इस हादसे का शिकार हुआ। दमकलकर्मियों ने दीवार में छेद कर कुछ लोगों को बचाने में कामयाबी हासिल की। 

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web