अंतरिक्ष में निजी कंपनी छोड़ेगी Jackal इंस्पेक्टर सैटेलाइट, अमेरिका की सुरक्षा बढ़ेगी

 
Jackal

रूस और चीन जैसे देशों से बढ़ती प्रतिस्पर्धा के चलते, अमेरिका को दुनिया की मुख्य अंतरिक्ष शक्ति बने रहने में मदद करने के लिए, एक निजी कंपनी ने Jackal Autonomous Orbital Vehicle बनाया है जिसे इसी साल पृथ्वी की कक्षा में भेजा जाएगा। इससे अमेरिकी सुरक्षा मज़बूत होगी।

 

नई दिल्ली। पिछले साल बने एक स्टार्टअप ने हाल ही में घोषणा की है कि उसने एक बड़ी फर्म एक्लिप्स (Eclipse) के साथ, अब तक 3 करोड़ डॉलर जुटाए हैं। कंपनी का नाम है ट्रू एनोमली (True Anomaly), जो अमेरिकी सुरक्षा के लिए स्पेसक्राफ्ट बना रही है, जिसे जल्द ही पृथ्वी की कक्षा में तैनात किया जाएगा।  

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

इस कंपनी में 57 लोग काम करते हैं। डेनवर में इनकी 35,000 वर्ग फुट की फाक्ट्री है और इन्होंने एक स्पेसक्राफ्ट डिज़ाइन किया है, जिसे जैकाल ऑटोनॉमस ऑर्बिटल व्हीकल (Jackal Autonomous Orbital Vehicle) नाम दिया गया है। कंपनी का कहना है कि इस साल अक्टूबर में कंपनी अपने पहले दो जैकाल्स को स्पेसएक्स रॉकेट (SpaceX rocket) के ज़रिए, पृथ्वी की ऑर्बिट में ले जाने की योजना बना रही है।

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

यह काम रूस और चीन जैसे देशों से बढ़ती प्रतिस्पर्धा के चलते, अमेरिका को दुनिया की मुख्य अंतरिक्ष शक्ति बने रहने में मदद कर रहा है। एक्लिप्स के एक पार्टनर सेथ विंटररोथ का कहना है कि अंतरिक्ष क्षेत्र की बेहतर क्षमताओं से अमेरिकी सेना को मज़बूत करने की कोशिश की जा रही है। उनका कहना है कि ट्रू एनोमली अंतरिक्ष में हमारे सैन्य लाभों को फिर से हासिल करने और राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूत करने के लिए ज़रूरी क्षमताओं को विकसित करने का काम कर रही है।

Jackal Autonomous Orbital Vehicle

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

ट्रू एनोमली जो काम कर रही है उससे देश को बेहतर स्पेस सिस्टम्स तैनात करने और पृथ्वी की ऑर्बिट में बढ़ती गतिविधियों को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलेगी। ट्रू एनोमली की वेबसाइट बताती है कि जैकाल को LEO, GEO और दूसरी ऑर्बिट्स में सबसे चुनौतीपूर्ण अंतरिक्ष डोमेन जागरूकता मिशन के लिए डिज़ाइन किया गया है। LEO यानी लो अर्थ ऑर्बिट और GEO का मतलब है जियोस्टेशनरी ऑर्बिट।

जैकाल किसी भी ऑर्बिट में मौजूद किसी भी स्पेस ऑब्जेक्ट के मल्टी-स्पेक्ट्रल इमेज, फुल-मोशन वीडियो और मीट्रिक ऑब्ज़रवेशन इकट्ठा कर सकता है। इस अक्टूबर, स्पेसक्राफ्ट को LEO तक लॉन्च करने के बाद दोनों जैकाल्स किसी भी स्पेस जंक या संभावित विरोधी स्पेसक्राफ्ट का निरीक्षण नहीं करेंगे, बल्कि वे अपने सिस्टम को टेस्ट करने के लिए एक दूसरे को ट्रैक और टेस्ट करेंगे। 


यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

अगर टेस्ट मिशन अच्छी तरह से हो जाता है, तो ट्रू एनोमली अमेरिकी सेना की स्पेस क्षमताओं को बढ़ाने के लिए, ऐसे हजारों सैटेलाइट कक्षा में तैनात कर सकती है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web