सऊदी सरकार के रमजान पर नए फरमान से भड़के लोग, जानें क्या हैं नए नियम

 
Saudi Arabia

Saudi Arabia Ramadan: नए नियमों के मुताबिक रमजान में लाउडस्पीकर का इस्तेमाल नहीं होगा, बिना आईडी के कोई एतिकाफ नहीं होगा, अजान का कोई लाइव टेलीकास्ट और मस्जिदों के अंदर कोई इफ्तार नहीं होगा।

 

नई दिल्ली। Saudi Arabia: मुसलमानों के पवित्र माह रमजान को लेकर सऊदी अरब की सरकार ने कई तरह के प्रतिबंधों और नियमों का ऐलान किया है। नए नियमों के मुताबिक, रमजान के पवित्र महीने में लाउडस्पीकर का इस्तेमाल नहीं होगा, बिना आईडी के कोई एतिकाफ नहीं होगा, अजान का कोई लाइव टेलीकास्ट नहीं होगा और मस्जिदों के अंदर कोई इफ्तार नहीं होगा। ये नए नियम सऊदी अरब के इस्लामिक मामलों के मंत्री शेख डॉ अब्दुल लतीफ बिन अब्दुल अजीज ने जारी किए हैं।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

मिडिल ईस्ट मॉनिटर की रिपोर्ट के मुताबिक सऊदी अरब की सरकार ने 10 प्वाइंट जारी किए गए हैं, जिनमें बताया गया है कि रमजान माह में मुसलमानों को किन बातों का ख्याल रखना है। नई गाइडलाइन के मुताबिक, मस्जिदों को रोजेदारों के लिए भोजन बनाने के लिए चंदा लेने पर रोक शामिल है। साथ ही, सरकार ने नमाजियों को निर्देश दिया है कि वे बच्चों को मस्जिदों में न लाएं क्योंकि इससे नमाजियों को दिक्क्त होगी और उनकी इबादत में बाधा आती है। 

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

फोटोग्राफी और लाइव टेलीकास्ट पर लगा बैन
नए नियमों में मस्जिद के अंदर फोटोग्राफी और अजान के लाइव टेलीकास्ट पर भी प्रतिबन्ध लगाया गया है। साथ ही इस साल भी मस्जिदों में अजान के दौरान लाउडस्पीकर की आवाज को कम रखने का निर्देश दिया गया है। शुक्रवार को इस्लामिक मामलों के मंत्री ने ये गाइडलाइन जारी करते हुए कहा कि सऊदी अरब में रहने वालों लोगों को इसका पालन करना होगा।

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

नए नियमों पर भड़के हैं मुसलमान
इन नियमों के जारी होने के बाद दुनिया भर के कई मुसलमानों से नाराजगी और प्रतिक्रिया व्यक्त की है, कुछ मुसलमान बेहद भड़के हुए हैं। उनका कहना है कि सऊदी अरब इन निमयों को जारी करके सार्वजनिक जीवन में इस्लाम के प्रभाव को कम करना चाहता है।

यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

वहीं, सरकार ने अपनी सफाई में कहा है कि हम मस्जिदों में इफ्तार से नहीं रोक रहे हैं बल्कि व्यवस्थित करने का प्रयास कर रहे हैं। ताकि किसी प्रकार की अव्यवस्था न फैले। साथ ही  मस्जिद की पवित्रता और स्वच्छता बनी रहे। 

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web