क्‍या नाटो का हिस्‍सा बनने वाला है भारत? अमेरिकी अधिकारी ने दिया बड़ा बयान

 
nato

एक अमेरिकी अधिकारी ने भारत की नाटो (NATO India) पर बड़ा बयान दिया है। इस अमेरिकी अधिकारी की मानें तो संगठन में भारत को शामिल करने के लिए बातचीत जारी है। इस अधिकारी के मुताबिक इस बाबत हाल ही में भारत में हुए रायसीन डायलॉग्‍स में भी चर्चा हुई है।

 

वॉशिंगटन। नॉर्थ अटलांटिक संधि संगठन (नाटो)संगठन की एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने भारत के इसमें शामिल होने को लेकर बड़ी बात कही है। अमेरिका की स्थायी प्रतिनिधि जूलियन स्मिथ ने इस पर पहली सार्वजनिक टिप्पणी की है। उन्‍होंने कहा है कि गठबंधन भारत के साथ और ज्‍यादा बातचीत के लिए खुला है। मीडिया से मुखातिब स्मिथ ने इस बात की भी पुष्टि की कि दिल्ली में आयोजित सालाना रायसीना डॉयलाग्‍स के मौके पर नाटो और कुछ भारतीय अधिकारियों के बीच अनौपचारिक वार्ता हुई थी।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

रायसीना डायलॉग्‍स में बातचीत
जूलियन स्मिथ ने कहा, 'रायसीना डायलॉग से इतर कुछ आदान-प्रदान हुए हैं, जो एक शुरुआत है और बातचीत को थोड़ा खोल दिया है।' उन्होंने बताया कि यह संदेश पहले भी भारत को दिया जा चुका है कि नाटो गठबंधन के तौर पर निश्चित रूप से भारत के साथ और ज्‍यादा करीब होना चाहता है। नाटो में इस समय 40 देश जुड़े हैं। चार और पांच अप्रैल को ब्रसेल्‍स में नाटो देशों के विदेश मंत्रियों की मीटिंग होनी है। इस मीटिंग में ऑस्‍ट्रेलिया, न्‍यूजीलैंड, दक्षिण कोरिया और जापान को भी शामिल होने का आमंत्रण मिला है। हिंद प्रशांत क्षेत्र के ये चारों देश इस महागठबंधन के औपचारिक साझेदार हैं।

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

भारत को नहीं मिला मीटिंग का इनवाइट
जब स्मिथ से पूछा गया कि क्‍या भारत को भी इन मीटिंग्‍स में शामिल होने और संगठन का सदस्‍य बनने का न्‍यौता मिला है? इस पर उन्‍होंने कहा, ' भविष्‍य में भारत के शामिल होने के लिए नाटो का दरवाजा खुला है। लेकिन भारत की भी दिलचस्पी होनी चाहिए। जब तक भारत की रूचि के बारे में पता नहीं लगता है तब तक भारत को मंत्रिस्तरीय मीटिंग का इनवाइट नहीं मिल सकता है।' स्मिथ ने यह भी माना कि भारत एक मुक्त और खुले भारत-प्रशांत क्षेत्र को सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

पहले भी हुई पेशकश
जूलियन स्मिथ की तरफ से यह टिप्‍पणी ऐसे समय में आई है जब रूस यूक्रेन जंग जारी है और आसियान से लेकर भारत तक चीन की आक्रामकता के बारे में बात कर रहे हैं। विशेषज्ञों की मानें तो यह चीन की आक्रामकता का नतीजा है कि यूरोप से लेकर हिंद-प्रशांत क्षेत्र तक में बड़े भू-राजनीतिक बदलाव देखे जा रहे हैं। रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन जंग के लिए नाटो को ही दोषी ठहराया है। हालांकि नाटो ने इस बात को मानने से इनकार कर दिया है। भारत को कई बार नाटो में शामिल होने के लिए कहा जा रहा है ले‍किन अभी तक इस पर भारत सरकार ने कोई फैसला नहीं लिया है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web