US Midterm Poll: भारतीय-अमेरिकियों का जलवा रहा मध्यावधि चुनावों में, थानेदार ने मिशिगन से चुनाव जीतकर रचा इतिहास

 
joe biden and trump

बड़ी संख्या में युवा भारतीय-अमेरिकी उम्मीदवारों का उभरना इस छोटे भारतीय समुदाय की बढ़ती इच्छा व ताकत को दर्शाता है, जो 33.19 करोड़ अमेरिकी आबादी का सिर्फ एक प्रतिशत है।

 

नई दिल्ली। सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक पार्टी के चार भारतीय-अमेरिकी राजनेता राजा कृष्णमूर्ति, रो खन्ना और प्रमिला जयपाल बुधवार को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के लिए चुने गए हैं। भारतीय-अमेरिकी उद्यमी से राजनेता बने डेमोक्रेट श्री थानेदार रिपब्लिकन उम्मीदवार मार्टेल बिविंग्स को पछाड़ते हुए मिशिगन से कांग्रेस का चुनाव जीतने वाले पहले भारतीय अमेरिकी बने। 67 वर्षीय थानेदार वर्तमान में मिशिगन हाउस में तीसरे जिले का प्रतिनिधित्व करते हैं। अमेरिका के अत्यधिक ध्रुवीकृत मध्यावधि चुनावों में देश भर में राज्य विधानसभाओं के लिए कई अन्य लोगों ने भी जीत हासिल की है।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

राजा कृष्णमूर्ति लगातार चौथे कार्यकाल के लिए निर्वाचित 
इलिनॉइस के आठ कांग्रेसनल जिले में 49 वर्षीय राजा कृष्णमूर्ति लगातार चौथे कार्यकाल के लिए एक बढ़िया अंतर से फिर से निर्वाचित हुए। उन्होंने अपने रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी क्रिस डार्गिस को हराया। सिलिकॉन वैली में 46 वर्षीय भारतीय-अमेरिकी रो खन्ना ने कैलिफोर्निया के 17वें कांग्रेसनल डिस्ट्रिक्ट में अपने हमवतन रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी रितेश टंडन को हराया। प्रतिनिधि सभा में एकमात्र भारतीय-अमेरिकी महिला सांसद चेन्नई में जन्मीं प्रमिला जयपाल ने वाशिंगटन राज्य के 7वें कांग्रेसनल जिले में अपने प्रतिद्वंद्वी क्लिफ मून को हराया। खन्ना, कृष्णमूर्ति और जयपाल लगातार चौथे कार्यकाल के लिए चुने गए हैं। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

57 वर्षीय अमी बेरा चाहते हैं छठा कार्यकाल 
भारतीय-अमेरिकी राजनेताओं में सबसे वरिष्ठ 57 वर्षीय अमी बेरा, कैलिफोर्निया के 7वें कांग्रेसनल डिस्ट्रिक्ट से प्रतिनिधि सभा में अपना छठा कार्यकाल चाहते हैं। परिणाम की घोषणा होनी बाकी है। भारतीय-अमेरिकी उम्मीदवारों ने राज्य विधानसभाओं में भी सीटों पर कब्जा जमाया। मैरीलैंड में अरुणा मिलर ने लेफ्टिनेंट गवर्नर की दौड़ जीतने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी राजनेता बनकर इतिहास रचा। हालांकि, भारतीय-अमेरिकी संदीप श्रीवास्तव टेक्सास के तीसरे कांग्रेसनल जिले से कॉलिन काउंटी के पूर्व न्यायाधीश कीथ सेल्फ से हार गए।

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

बड़ी संख्या में युवा भारतीय-अमेरिकी उम्मीदवारों का उभरना इस छोटे भारतीय समुदाय की बढ़ती इच्छा व ताकत को दर्शाता है, जो 33.19 करोड़ अमेरिकी आबादी का सिर्फ एक प्रतिशत है। 8 नवंबर के चुनावों से पहले डेमोक्रेट और रिपब्लिकन भारतीय-अमेरिकियों तक पहुंचे थे। वाशिंगटन पोस्ट अखबार ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय-अमेरिकी कुछ कड़े मुकाबले में अहम भूमिका निभा सकते हैं। डेली ने लिखा कि मध्यावधि चुनावों से पहले डेमोक्रेट भारतीय अमेरिकियों द्वारा हासिल समर्थन को भुनाने की उम्मीद कर रहे हैं, जो मतदाताओं का एक बढ़ता और महत्वपूर्ण समूह है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप


 

From around the web