UNHRC में उठाया गया CAA का मुद्दा, तुषार मेहता ने कहा पड़ोसी देशों के पीड़ित अल्पसंख्यकों को देता है नागरिकता

तुषार मेहता ने कहा, CAA कानून बिलकुल वैसा कानून है जो अलग-अलग देशों में नागरिकता के लिए क्राइटेरिया तैयार करता है।
 
UNHRC में उठाया गया CAA का मुद्दा, तुषार मेहता ने कहा पड़ोसी देशों के पीड़ित अल्पसंख्यकों को देता है नागरिकता

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और हेट स्पीच का मुद्दा संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) में उठाया गया। इस पर जवाब देते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि CAA एक ऐसा कानून है जो पड़ोसी देशों के पीड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता देता है। जिनेवा में चल रहे UNHRC यूनिवर्सल पीरियॉडिक रिव्यू में कई सदस्य देशों ने भारत में CAA के मुद्दे को लेकर चिंता जताई थी। इसको लेकर तुषार मेहता ने कहा, CAA कानून बिलकुल वैसा कानून है जो अलग-अलग देशों में नागरिकता के लिए क्राइटेरिया तैयार करता है।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने आगे कहा, भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है लेकिन इससे जुड़े कुछ कानून हैं जिनका का पालन करना जरूरी है। आजादी तब तक है जब तक भारत की संप्रभुता और अखंडता पर आंच नहीं आ रही है। उचित प्रतिबंध लगाने से हेट स्पीच और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को विनियमित करने में मदद मिलती है। CAA कानून धार्मिक उत्पीड़न के आधार पर भारत के पड़ोसी देशों अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान के अल्पसंख्यक समुदाय- हिंदू, सिख, बौद्ध, पारसी, जैन और ईसाई धर्म के लोगों को भारतीय नागरिकता दिलाने में मदद करता है। इससे किसी भी नागरिक की नागरिकता छितनी नहीं है। न ही किसी भी देश की भारतीय नागरिकता देने वाली प्रक्रिया में कोई बदलाव होता है।

यह खबर भी पढ़ें: बेटी से मां को दिलाई फांसी, 13 साल तक खुद को अनाथ मानती रही 19 साल की बेटी, जाने क्या था मामला

दरअसल, CAA का विरोध करने वालों का कहना है कि इससे देश में रहने वाले मुस्लिमों को टारगेट बनाया जा सकता है। वहीं, सॉलिसिटर जनरल ने हेट स्पीच और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मुद्दे पर भी जवाब देते हुए कहा- भारत का संविधान हर नागरिक को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मौलिक अधिकार देता है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web