Russia Ukraine War: युद्ध लड़ते हथियार विहीन हुआ यूक्रेन, अमेरिका और नाटो भी कंगाल...जीत की राह पर चला रूस

 
russia ukraine war

Russia Ukraine War: पिछले 11 महीनों से युद्ध लड़ते-लड़ते यूक्रेन हथियार विहीन हो चुका है। हाल ही में अमेरिका ने उसे 2.5 अरब डॉलर के स्ट्राइकर समेत अन्य अत्याधुनिक हथियार दिए हैं, लेकिन इनमें लड़ाई में सबसे अहम भूमिका निभाने वाले टैंक नहीं हैं। जर्मनी भी अभी तक यूक्रेन को तेंदुआ टैंक की सप्लाई नहीं कर पाया है।

 

नई दिल्ली। Russia_Ukraine War: पिछले 11 महीनों से युद्ध लड़ते-लड़ते यूक्रेन हथियार विहीन हो चुका है। हाल ही में अमेरिका ने उसे 2.5 अरब डॉलर के स्ट्राइकर समेत अन्य अत्याधुनिक हथियार दिए हैं, लेकिन इनमें लड़ाई में सबसे अहम भूमिका निभाने वाले टैंक नहीं हैं। जर्मनी भी अभी तक यूक्रेन को तेंदुआ टैंक की सप्लाई नहीं कर पाया है। इससे यूक्रेन का हौसला टूटने लगा है। इधर पुतिन की सेना ने यूक्रेन पर हमले को और तेज कर दिया है। सूत्रों के अनुसार अब नाटो और अमेरिका के पास भी अतिरिक्त उन्नत टैंक नहीं रह गए हैं, जो यूक्रेन को दिए जा सकें। अगर अब और अधिक हथियार यूक्रेन को दिए जाते हैं तो देश अपनी सुरक्षा के स्टॉक से ही दे सकेंगे। मगर ऐसा जोखिम कोई भी देश लेने को तैयार नहीं है। ऐसे में रूस तेजी से जीत की राह पर आगे बढ़ चला है।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

यूक्रेन के एक शीर्ष राजनयिक ने शुक्रवार को बताया कि रूस द्वारा वसंत ऋतु में प्रत्याशित आक्रमण शुरू करने से पहले पश्चिमी टैंकों को यूक्रेन में लाने के लिए "समय सार का है"। यूक्रेन के राजदूत ओक्साना मार्कारोवा ने  संयुक्त राज्य अमेरिका में कहा "हमें अब इन टैंकों की आवश्यकता है। ताकि हमारे बहादुर रक्षकों की रक्षा की जा सके। मार्कारोवा ने कहा कि इसके जरिये हम युद्धाभ्यास कर सकते हैं, आग लगा सकते हैं और वास्तव में हम जवाबी हमले पर वापस जा सकते हैं और हम इस भविष्य के हमलों को रोक सकते हैं। इसकी हमें बहुत आवश्यकता है। क्योंकि रूस वास्तव में इस दौरान युद्ध को विस्तार करने की योजना बना रहा है।

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

जर्मनी ने नहीं भेंजा तेंदुआ
टैंकों की कमी से जूझ रहे यूक्रेन को वादे के बावजूद जर्मनी ने अब तक अपने प्रमुख पश्चिमी सहयोगियों के साथ यूक्रेन में तेंदुआ 2 टैंक भेजने में विफल रहा है। जबकि कीव ने जर्मनी से और अधिक हथियारों की सप्लाई करने को कहा था। जेलेंस्की ने जर्मनी से सैन्य सहायता की अपील की थी। मगर वह पीछे हट गया है। हालांकि जर्मनी ने इन दावों का खंडन किया है कि वह अपने पैरों को खींच रहा है और उसने अमेरिका से यूक्रेन को अपने टैंक भेजने के लिए कहा है। यूक्रेन के राजदूत मार्कारोवा से जब अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने पूछा कि अमेरिकी सरकार के तर्क कि  "एम1 अब्राम टैंक को संचालित करना और बनाए रखना अधिक कठिन होगा और इसलिए वह जर्मन तेंदुआ टैंक की अपेक्षा कम उपयोगी हैं" के सवाल पर कहा कि "निश्चित रूप से हम अपने सहयोगियों के साथ परामर्श कर रहे हैं। हमारे लिए 'सबसे प्रभावी क्या होगा?...जिसे हम बड़ी संख्या में क्या प्राप्त कर सकते हैं और खुद को युद्ध के मैदान पर बनाए रख सकते हैं। यदि आवश्यक हो तो हम टैंकों की मरम्मत भी कर सकते हैं।

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

बिन हथियार कैसे हो लड़ाई
यूक्रेन के राजदूत मार्कारोवा ने कहा कि बिना हथियार लड़ाई लड़ना संभव नहीं है। हमें "ऐसा लगता है कि तेंदुआ टैंक एक ऐसी चीज है जिस पर कई सहयोगी हमारे साथ चर्चा करने के लिए तैयार हैं। यह अच्छी संख्या में है और इसे बनाए रखना और मरम्मत करना थोड़ा आसान होगा। हम सभी विकल्पों पर बात कर रहे हैं। पश्चिमी टैंकों की आपूर्ति पर चिंता के बावजूद, राजदूत ने अमेरिका के नवीनतम सहायता पैकेज और अन्य सहयोगियों को उनके सभी सैन्य समर्थन के लिए धन्यवाद दिया।

यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

वहीं यूक्रेन के उप विदेश मंत्री एंड्री मेलनीक ने कहा कि जर्मनी ने अभी तक टैंकों के संबंध में कोई निर्णय नहीं लिया है। जर्मनी ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि अपने तेंदुए 2 टैंकों को यूक्रेन भेजा जाए या नहीं। उन्होंने चैलेंजर 2 टैंकों की प्रतिज्ञा के साथ आगे बढ़ने के लिए पहली बार यूक्रेन की प्रशंसा करने के बाद मेल्नेक ने जर्मनी की अनिर्णयता को एक "निराशा" कहा। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इस कदम से अन्य देशों को सूट का पालन करने के लिए ट्रिगर किया जा सकता है। बता दें कि यूके "चैलेंजर 2 मुख्य युद्धक टैंक देने वाला पहला देश है और यह अन्य देशों के लिए एक ट्रिगर हो सकता है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web