Russia Ukraine War: पर्दे के पीछे अमेरिका कर रहा रूस की मदद? ईरान के ड्रोन ने खोल दी पोल

 
putin or joe biden

यूएस समर्थित रेडियो फ्री यूरोप के जांच विभाग, स्कीम्स की एक जांच ने सुझाव दिया कि ईरान के बड़े पैमाने पर उत्पादित मोहजर -6 लड़ाकू ड्रोन में अमेरिका और यूरोपीय संघ दोनों के कुछ कंपोनेंट्स शामिल हैं।

 

वॉशिंगटन। रूस और यूक्रेन के बीच आठ महीने से अधिक समय से चल रहे युद्ध का कोई हल नहीं निकल सका है। रूस ने मिसाइलों के हमलों से यूक्रेन को पूरी तरह से तबाह कर दिया है, लेकिन यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की रूसी प्रेसिडेंट के सामने डटे हुए हैं। रूस तरह-तरह के हथियारों का प्रयोग कर रहा है, जिसमें ईरान के ड्रोन भी शामिल हैं। एक नई रिसर्च से पता चला है कि अमेरिका जैसे पश्चिमी देश भले ही सामने से रूस को जमकर कोस रहे हों, लेकिन पर्दे के पीछे से उनकी मदद भी कर रहे हैं। दरअसल, रूस द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे ईरानी ड्रोन्स में वेस्टर्न कंपोनेंट्स भी शामिल हैं, जिसकी वजह से यूक्रेन में बड़ी संख्या में निर्दोष नागरिकों की मौत हो गई। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

ब्रिटेन स्थित एक एक्सपर्ट ने चेतावनी दी है कि जटिल और अभेद्य आपूर्ति नेटवर्क के माध्यम से तेहरान को उपकरण बेचने वाली निजी कंपनियों को रोकना वर्तमान में बेहद मुश्किल है। यूएस समर्थित रेडियो फ्री यूरोप के जांच विभाग, स्कीम्स की एक जांच ने सुझाव दिया कि ईरान के बड़े पैमाने पर उत्पादित मोहजर -6 लड़ाकू ड्रोन में अमेरिका और यूरोपीय संघ दोनों के कुछ कंपोनेंट्स शामिल हैं। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

इसके अलावा, घातक हथियारों में चीन के भी कुछ चीजें शामिल हैं। हांगकांग में बना एक रियल-टाइम मिनी कैमरा भी है। यूक्रेन के इंटेलिजेंस का मानना ​​है कि मोहजर -6 में उत्तरी अमेरिका, यूरोपीय संघ, जापान और ताइवान में स्थित 30 से अधिक विभिन्न प्रौद्योगिकी कंपनियों के कंपोनेंट्स शामिल हैं। अपने निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए पत्रकारों ने एक मोहजर -6 ड्रोन के कुछ हिस्सों को भी देखा, जिसे यूक्रेनी सेना ने काला सागर के ऊपर माइकोलायिव क्षेत्र के तटीय शहर ओचाकिव के करीब मार गिराया था। 

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

ड्रोन में फिट हैं वेस्टर्न देशों के पार्ट्स, मिले सबूत 
रॉयल यूनाइटेड सर्विसेज इंस्टीट्यूट (आरयूएसआई) के एक रिसर्च फेलो डॉ सिद्धार्थ कौशल ने बताया कि इसी तरह के सबूत थे कि यूक्रेन में रूस द्वारा आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले एक ड्रोन शहेद -136 में वेस्टर्न देशों के पार्ट्स फिट थे। उन्होंने समझाया, ''यदि आप उदाहरण के लिए देखते हैं, जो इंजन इसे शक्ति देता है, यह चीनी इंजनों का कॉम्बिनेशन है और अधिक महत्वपूर्ण मिशनों के लिए, आप इसे ताइवान या जर्मन इंजन के लिए स्वैप कर सकते हैं।'' डॉ. कौशल ने बताया कि ईरान हाल के वर्षों में सैन्य ड्रोन डिजाइन करने में तेजी से कुशल हो गया है और रूस ने हाल के समय में वहां से ड्रोन खरीदे भी हैं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web