जापान में 'भाप की तरह गायब' हो रहे लोग, रहस्य खुला तो सभी हैरान

 
japan

जापान में लोग जब जिंदगी से परेशान हो जाते हैं तो वह जोहात्सु बनने का रास्ता अपनाते हैं। इसके लिए वो कंपनियों की मदद लेते हैं। जोहात्सु का मतलब ये है कि लोग अचानक गायब हो जाते हैं। गायब होने के बाद वह किसी अन्य स्थान पर नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं।

 

नई दिल्ली। इंसान जिंदगी से परेशान होने पर अक्सर ऐसी जगह जाने का सोचता है, जहां उसे कोई न जानता हो और वह एक नया जीवन शुरू कर सके। लेकिन क्या आपको पता है कि ऐसा वाकई में हो रहा है? जापान में इसे जोहात्सु कहा जाता है, जिसका मतलब है भाप बनकर उड़ जाना। यहां लोग परिवार या नौकरी से तंग आकर अचानक गायब हो रहे हैं। इसके बाद वह एक नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं। इसके लिए बकायदा कंपनियां मदद करती हैं। उन्हें बदले में फीस के तौर पर मोटी रकम दी जाती है। यहां ऐसे भी मामले सामने आए, जब लोग रोज की तरह घर से नौकरी के लिए निकले और कभी वापस नहीं लौटे।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

इन गायब होने वाले लोगों को जापान में जोहात्सु कहा जाता है। अधिकतर मामलों में ऐसा देखने को मिला है, जब परिवार वालों के काफी ढूंढने पर भी कोई सुराग नहीं मिल पाता। लोगों के अचानक गायब होने के पीछे का कारण परिवार और नौकरी का तनाव या फिर भारी कर्ज होता है। फिर जब वो गायब होने का फैसला लेते हैं, यानी जोहात्सु बनने का, तो इस काम में कंपनियां उनकी मदद करती हैं। इस काम को 'नाइट मूविंग सर्विस' कहा जाता है। कंपनियां लोगों को एक नया जीवन शुरू करने में मदद करती हैं। गुप्त स्थानों पर उनके रहने की व्यवस्था की जाती है।

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

जापान में जोहात्सु बन जाते हैं लोग (तस्वीर- Pexels)

जापान में दशकों से जोहात्सु बन रहे लोग
बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, 1990 के दशक में नाइट मूविंग कंपनी शुरू करने वाले शो हतोरी का कहना है कि लापता होने के पीछे का कारण हमेशा नकारात्मक नहीं होता। बल्कि लोग नई नौकरी शुरू करने, नई शादी करने के लिए भी ऐसा करते हैं। उनका कहना है कि पहले लोग आर्थिक तंगी के कारण गायब होते थे, लेकिन अब सामाजिक कारणों से भी ऐसा कर रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, जोहात्सु पर कई दशक तक रिसर्च करने वाले समाजशास्त्री हिरोकी नाकामोरिक का कहना है कि इस शब्द का इस्तेमाल सबसे पहले गायब होने वाले लोगों के लिए 1960 के दशक में किया जाता था। 

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

आपको ये बात जानकर हैरानी होगी कि जापान में तलाक के मामलों में कमी की वजह भी जोहात्सु ही है। लोग तलाक लेने के लिए कानूनी औपचारिकताएं पूरी करने से बेहतर गायब होना समझते हैं। नाकामोरिक का कहना है कि जापान में गायब होना बेहद आसान है। इसका एक कारण ये भी है कि इस देश में निजता को लेकर बेहद सख्त कानून हैं। पुलिस तब तक लापता व्यक्ति को नहीं ढूंढती, जब तक उसे किसी अपराध या फिर दुर्घटना की आशंका न हो। ऐसे में लापता व्यक्ति एटीएम से पैसा तक निकालता है। पुलिस से मदद नहीं मिलने की स्थिति में लापता व्यक्ति के परिवार निजी जासूसों की मदद लेते हैं। 

जापान में जोहात्सु बन जाते हैं लोग (तस्वीर- Pexels)

यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

नाइट मूविंग कंपनी चलाने वाली एक महिला खुद 17 साल से लापता है। वह घरेलू हिंसा से तंग आ चुकी थी। इसके बाद वो खुद गायब हो गई। अब वह दूसरे लोगों को अपनी ही तरह गायब होने में मदद करती है। वह लोगों से उनके गायब होने के पीछे का कारण तक नहीं पूछतीं। रिपोर्ट में बताया गया है कि एक आदमी अपनी पत्नी और बच्चों को ये कहकर निकला था कि वह बिजनेस ट्रिप पर जा रहा है, जबकि असल में वह जोहात्सु बनने निकला था। उसका कहना है कि उसे परिवार से दूर जाने का दुख है लेकिन वह उनके पास वापस नहीं जाना चाहता।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web