चीन में एक महीने में 60 हजार से ज्यादा मौत! कोरोना से मौत के डरावने आंकड़े

 
china corona

कोरोना के कारण चीन में हालात खराब होते जा रहे हैं। दुनियाभर से दबाव बनाए जाने के बाद चीन ने कोविड जीरो पॉलिसी हटने के बाद पहली बार कोविड बुलेटिन जारी किया है। कोविड बुलेटिन के अनुसार, चीन में बीते एक महीने में 60 हजार से ज्यादा लोगों की मौत कोविड संबंधित बीमारियों के कारण हुई है।

 

नई दिल्ली। नए साल से पहले चीन में आए कोरोना के ओमिक्रॉन सब-वैरिएंट ने चीन में कहर मचा दिया है। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के चिकित्सा प्रशासन ब्यूरो के प्रमुख जिओ याहुई (Jiao Yahui) ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जानकारी दी कि चीन में पिछले एक महीने के दौरान 60 हजार से ज्यादा लोगों की मौत कोरोना संबंधित बीमारियों के कारण हुई है। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

चीन की ओर से कोविड बुलेटिन नहीं जारी करने पर दुनियाभर से लगातार उठ रहे सवालों के बीच चीन ने कोविड जीरो पॉलिसी हटने के बाद पहली बार बुलेटिन जारी किया है। इससे पहले चीन ने एक महीना पहले कोविड बुलेटिन जारी किया था।

यह खबर भी पढ़ें: दुनिया की ये जो 6 महीने एक देश में और 6 महीने दूसरे देश में, बदल जाते हैं नियम-कानून

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जिओ याहुई ने बताया कि 8 दिसंबर 2022 से लेकर 12 जनवरी 2023 के बीच चीन में कुल 59,938 लोगों की मौत कोविड संबंधित बीमारियों के कारण हुई। 

चीनी राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के चिकित्सा मामलों के विभाग के निदेशक जिओ याहुई ने कहा कि चीन में कोविड संक्रमण के कारण सांस में तकलीफ के चलते 5,503 मौतें दर्ज की गई। वहीं, 54,435 लोगों की मौत कोविड संबंधित अन्य बीमारियों के कारण हुई।

यह खबर भी पढ़ें: 7 दिनों की विदेश यात्रा में फ्लाइट-होटल पर खर्च सिर्फ 135 रुपये!

भयावह हो सकते हैं आंकड़े
सरकारी आंकड़ों में भले ही मरने वालों की संख्या 60 हजार बताई गई हो, लेकिन असल में यह आंकड़े और भी भयावह हो सकते हैं। क्योंकि अगस्त 2022 में चीन ने कोरोना से होने वाली मौत की गिनती का तरीका बदल दिया था। यह तरीका विश्व स्वास्थ्य संगठन के बताए फॉर्मूले से बिल्कुल अलग है। 

चीन में सिर्फ सांस की बीमारी और निमोनिया से हुई मौतों को ही कोरोना संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या में जोड़ा जा रहा है। साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के अनुसार, 90 फीसदी मौतें 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की हुई है। वहीं औसत आयु 80 वर्ष है।

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

चीन ने अमेरिका पर भी उठाया सवाल
कोरोना से होने वाले मौत के नियमों में बदलाव और कोविड डेटा नहीं जारी करने पर दुनियाभर में चीन की किरकिरी हो रही थी। पारदर्शिता की कमी पर सवाल उठाते हुए कई देशों ने चीन से आने वाले यात्रियों पर प्रतिबंध लगा दिया था। जिसके बाद चीन ने जीरो कोविड पॉलिसी हटने के बाद पहली बार कोविड बुलेटिन जारी किया है।

हालांकि, चीनी विदेशी मंत्रालय ने कहा है कि अमेरिका पर भी इस तरह का दबाव बनाया जाना चाहिए, ताकि अमेरिका भी XBB।1।5 सब-वैरिएंट पर अपना डेटा समय पर रिलीज करे।

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

10 लाख से ज्यादा मौतों की आशंका
महामारी विशेषज्ञ एरिक फिगल डिंग ने आशंका जताई है कि कोरोना इस लहर में दस लाख से ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में ले सकता है। वहीं, कुछ स्वास्थ्य विशेषज्ञों का अनुमान है कि आने वाले कुछ महीनों में चीन की 60% और दुनिया की 10% आबादी इससे संक्रमित हो सकती है।

यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

अमेरिका और जापान में भी हालात बदतर
हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के अनुसार, अमेरिका में कोविड-19 के अब तक 10 करोड़ से ज्यादा मामले हो गए हैं। जबकि कोरोना की वजह से अमेरिका में अब तक 10 लाख 88 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। जापान में भी कोविड प्रतिबंधों के हटने के बाद से ही मामले बढ़ने लगे हैं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web