LPG in Plastic Bag: कंगाल पाकिस्तान में प्लास्टिक थैलियों में रसोई गैस भर इस्तेमाल कर रहे लोग, जानिए पूरा मामला...

गैस पाइपलाइन नेटवर्क से जुड़ी दुकानों में थैलियों के अंदर गैस भरकर बेच दी जाती है।
 
LPG in Plastic Bag: कंगाल पाकिस्तान में प्लास्टिक थैलियों में रसोई गैस भर इस्तेमाल कर रहे लोग, जानिए पूरा मामला...

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में खाना पकाने के लिए सिलेंडर की जगह, प्लास्टिक बैग (थैलियों) में भरी गैस के इस्तेमाल का चलन बढ़ गया है। गैस पाइपलाइन नेटवर्क से जुड़ी दुकानों में थैलियों के अंदर गैस भरकर बेच दी जाती है। लोग छोटे इलेक्ट्रिक सक्शन पंप की मदद से इसका इस्तेमाल रसोई में करते हैं। दरअसल, पाकिस्तान में नैचुरल गैस के रिजर्व में कमी आ गई है। इस वजह से एडमिनिस्ट्रेशन ने इसकी सप्लाई घटा दी है। गैस की कमी से महंगाई भी बढ़ गई है। लोगों के लिए गैस सिलेंडर खरीदना मुश्किल हो गया है। इसकी तुलना में अवैध तरीके से बिकने वाली ये थैलियां खरीदना आसान और सस्ता है।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

मीडिया रिपोर्ट्स में पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के बर्न केयर सेंटर के मेडिकल ऑफिसर डॉ. कुरतुलैन के हवाले से कहा गया कि, उनके सेंटर पर हर रोज करीब 8 ऐसे मरीज आते हैं, जो इन थैलियों में हुए ब्लासट में घायल हुए होते हैं। इनमें से ज्यादातर महिलाएं होती हैं। प्रशासन इनकी खरीद एवं बिक्री पर कार्रवाई करता रहता है। दिसंबर महीने में ही पेशावर से 16 दुकानदारों को गिरफ्तार किया गया। कार्रवाई से बचने के लिए लोग चोरी छिपे भी कारोबार कर रहे हैं।

यह खबर भी पढ़ें: अनोखी शादी: प्रेमी ने प्रेमिका के शव से रचाई शादी, पहले भरी मांग फिर पहनाई जयमाला, जानिए पूरा मामला...

खैबर पख्तूनख्वाह के कराक में इसका इन प्लास्टिक गैस सिलेंडर का चलन ज्यादा है। यहां लड़के पैदल या मोटर साइकिल पर बहुत ही सावधानी से बड़ी-बड़ी प्लास्टिक थैलियों में गैस भरकर घर ले जाते दिख जाते हैं। देखने में ये बड़े-बड़े गुब्बारे दिखते हैं, लेकिन इसमें रसोई गैस होती है। एक घंटे के समय में एक बैग में 3 से 4 किलो तक गैस ही आती है, जिसमें खाना बमुश्किल बन पाता है।

यह खबर भी पढ़ें: OMG: 83 साल की महिला को 28 साल के युवक से हुआ प्यार, शादी के लिए विदेश से पहुंची पाकिस्तान

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कराक में 2007 से लोगों को गैस कनेक्शन नहीं दिए गए हैं। यहां पड़ोस के हांगू जिले की सप्लाई लाइन से गैस मिलती है। ये भी पिछले 2 सालों से टूटी पड़ी है। जिस जगह पाइप टूटी है वहां लोग 2 घंटे लंबी लाइनों में लगकर प्लास्टिक में गैस भरके ले जाते हैं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web