ईरान ने बनाई तबाही मचाने वाली ऐसी मिसाइल, जिसे रोकना नामुमकिन! सिर्फ तीन देशों के पास यह ताकत

 
missile

ईरानी रिवोल्युशनरी गार्ड के कमांडर आमिर अली हाजीजादेह (Amir Ali Hajizadeh) ने दावा किया है कि ईरान हाइपरसोनिक मिसाइल बनाने में सफल हो गया है। यह मिसाइल ध्वनि की स्पीड से भी पांच गुना तेज उड़ते हुए अपने लक्ष्य को निशाना बनाता है। इसे एंटी मिसाइल सिस्टम से भी रोकना लगभग नामुमकिन होता है।

 

नई दिल्ली। ईरान रिवोल्युशनरी गार्ड के कमांडर ने दावा किया है कि ईरान हाइपरसोनिक मिसाइल बनाने में सफल हो गया है। बता दें कि  हाइपरसोनिक मिसाइल को सबसे आधुनिक मिसाइल माना जाता है। इस मिसाइल की रफ्तार इतनी तेज है कि इसे एंटी मिसाइल सिस्टम द्वारा ट्रैक करना लगभग नामुमकिन होता है। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

बीबीसी न्यूज के अनुसार, यह आधुनिक हथियार सिर्फ अमेरिका, चीन और रूस के पास है। जबकि फ्रांस, भारत, आस्ट्रेलिया और जापान इस तकनीक पर काम कर रहे हैं। उत्तर कोरिया हाइपरसोनिक मिसाइल होने का दावा करता है। 

यह खबर भी पढ़ें: बेटी से मां को दिलाई फांसी, 13 साल तक खुद को अनाथ मानती रही 19 साल की बेटी, जाने क्या था मामला

पैंतरेबाजी करने में कारगर
हाइपरसोनिक एक हाई स्पीड मिसाइल है, जो सतह और वायुमंडल दोनों जगह पैंतरेबाजी करने में कारगार है। इसे मिसाइल की दुनिया में जेनरेशन लीप माना जाता है क्योंकि यह दुश्मन के एडवांस एंटी मिसाइल सिस्टम को भी चकमा देने में सफल हो जाता है। यह बैलेस्टिक मिसाइल से बिल्कुल अलग है क्योंकि बैलेस्टिक मिसाइल को ट्रैक कर नष्ट किया जा सकता है। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

ईरान ने किया इनकार
हालांकि, ईरान द्वारा इस मिसाइल के परीक्षण पर कोई रिपोर्ट नहीं मिली है। हमेशा से ईरान परमाणु हथियार विकसित करने की अपनी इच्छा को इनकार करता रहा है। वहीं, अन्य इस्लामिक देशों का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के कारण ईरान ने हाल फिलहाल में कई बड़े घरेलू हथियार उद्योग को विकसित किया है। जबकि पश्चिमी सैन्य विशेषज्ञों का कहना है कि ईरान कई बार अपनी हथियार क्षमता के बारे में जोर शोर से दिखावा करता है।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

पिछले सप्ताह ही Ghaem 100 का किया था परीक्षण
ईरानी स्टेट मीडिया के अनुसार, ईरान ने पिछले सप्ताह ही तीन चरणों वाले अंतरिक्ष प्रक्षेपण यान Ghaem 100 का परीक्षण किया है। यह प्रक्षेपण यान पृथ्वी की सतह से 500 किलोमीटर दूर की कक्षा में 80 किलोग्राम वजन के उपग्रहों को स्थापित करने में सक्षम होगा। संयुक्त राज्य अमेरिका ने इस तरह की परीक्षण को 'तबाह करने वाला' बताया है। अमेरिका का कहना है कि इस तरह के प्रक्षेपण यान का इस्तेमाल परमाणु हथियार के संचालन में किया जा सकता है। 

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

ट्रंप के फैसले का अहम योगदान 
विशेषज्ञ ईरान के परमाणु हथियार बनाने में सक्षम होने में एक कारण अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक फैसले को मानते हैं। दरअसल, ईरान को परमाणु बम बनाने से रोकने के लिए 2015 में बराक ओबामा के कार्यकाल के दौरान ईरान और अमेरिका के बीच न्यूक्लियर पैक्ट समझौता हुआ था। लेकिन 2018 में ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद उन्होंने अमेरिका को इस करार से अलग कर लिया।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web