भारतीय मूल की सुएला बनी ब्रिटेन की होम मिनिस्टर, जानिए और किसे मिली कौन सी बड़ी जिम्मेदारी

बोरिस जॉनसन की सरकार में प्रीति पटेल होम मिनिस्ट्री संभाल रही थीं। उन्होंने लिज के PM बनते ही इस्तीफा दे दिया था। 

 
भारतीय मूल की सुएला बनी ब्रिटेन की होम मिनिस्टर, जानिए और किसे मिली कौन सी बड़ी जिम्मेदारी

लंदन। भारतीय मूल की सुएला ब्रेवरमैन ब्रिटेन की होम मिनिस्टर नियुक्त की गई हैं। वह भारतीय मूल की इकलौती महिला मंत्री हैं जिन्हें ब्रिटेन की 56वीं प्रधानमंत्री लिज ट्रस ने अपनी कैबिनेट में जगह दी है। ट्रस की शीर्ष टीम में थेरेसी कॉफे को उप प्रधानमंत्री और क्वासी क्वार्टेंग को वित्त मंत्री बनाया गया है। जेम्स क्लेवेरली को विदेश मंत्रालय सौंपा गया है। वेंडी मॉर्टन को ट्रेजरी की संसदीय मंत्री नियुक्त किया गया है। वह टोरी दल की चीफ व्हिप बन गई हैं। पहले भी इस पद पर भारतीय मूल की महिला मंत्री थीं। बोरिस जॉनसन की सरकार में प्रीति पटेल होम मिनिस्ट्री संभाल रही थीं। उन्होंने लिज के PM बनते ही इस्तीफा दे दिया था। 

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

बोरिस जॉनसन की सरकार में 42 साल की सुएला ब्रेवरमैन अटर्नी जनरल थीं। वे हिंदू-तमिल परिवार से हैं। हालांकि, उनके पेरेंट्स केन्य और मॉरिशस से ब्रिटेन आए थे। सुएला का जन्म 3 अप्रैल 1980 में लंदन में ही हुआ। उनकी परवरिश वेंबले में हुई इसलिए उनके पास ब्रिटिश नागरिकता है। दरअसल सुएला ब्रेवरमैन नए प्रधानमंत्री के चुनाव की शुरुआत में लिज ट्रस के खिलाफ थीं। दरअसल, PM की रेस में सुएला का भी नाम था, लेकिन रेस से बाहर होने के बाद उन्होंने भारतीय मूल के ऋषि सुनक के बजाय ट्रस को अपना समर्थन दिया।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

ब्रेवरमैन ने जुलाई में एक लीडरशीप कैंपेन के लॉन्च वीडियो में अपने माता-पिता के बारे में कहा था, वे ब्रिटेन से प्यार करते थे। उन्हें यहां आशा दिखाई दी थी। उन्हें यहां सुरक्षा मिली। इस देश ने उन्हें मौका दिया। इसलिए मेरा पॉलिटिक्स में करियर बनाने का उद्देश्य साफ है। मैं इस देश में अवसर पैदा करने के लिए काम करुंगी। तो वही BBC की रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रेवरमैन को ब्रिटेन में शरण लेने वालों को रवांडा भेजने की सरकारी योजना का जिम्मा सौंपा गया था। हालांकि, इस योजना को काफी कानूनी चुनौतियों का सामना करना पड़ा। वह कंजर्वेटिव पार्टी के ब्रेग्जिट (यूरोप से ब्रिटेन के अलग होने) धड़े की समर्थक रहीं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web