अमेरिका की आंख की कैसे किरकरी बन गया था यह राष्ट्रपति, 638 बार हुई मारने की कोशिश

 
fidel castro

Fidel Castro: माना जाता है कि 82 वर्ष की उम्र तक कास्त्रो ने 35 हजार महिलाओं के साथ संबंध बनाए। वह हर दिन कम से कम 2 महिलाओं के साथ संबंध बनाते थे और यह सिलसिला लगभग 4 दशक तक चला। उनपर बनी एक डॉक्यूमेंट्री में इस बात का जिक्र किया गया है।

नई दिल्ली। Fidel Castro: जहरीले सिगार, विस्फोटक सिगरेट, पेन, कोल्डक्रीम और न जाने कितने तरीकों से फिदेल कास्त्रो को मारने की कोशिश की गई, मगर हर बार वह खुद को बचाने में कामयाब रहे। क्यूबा पर सबसे लंबे समय तक शासन करने वाले राष्ट्रपति फिदेल कास्त्रो की हत्या की साजिश में अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA ने फिदेल की गर्लफ्रेंड को शामिल किया, मगर कभी कामयाबी नहीं मिली। फिदेल हर बार अपने खिलाफ साजिश करने वालों से 2 कदम आगे रहे। कुल 638 बार उनकी हत्या की साजिश रची गई। यह आंकड़ा आधिकारिक है, संभव है कि कोशिशें और भी हुई हों।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

क्यूबा का तख्तापलट कर पाया शासन
फिदेल अलेजांद्रो कास्त्रो रूज का जन्म 13 अगस्त, 1926 को क्यूबा के पास बिरान में हुआ था।  उन्होंने अपने देश क्यूबा को पश्चिमी देशों का पहला साम्यवादी देश बनाया। कास्त्रो लैटिन अमेरिका में साम्यवादी क्रांति के प्रतीक बने। कास्त्रो ने सैंटियागो डे क्यूबा में रोमन कैथोलिक बोर्डिंग स्कूल और फिर हवाना में कैथोलिक हाई स्कूल पढ़ाई की और एक बेहतरीन एथलीट बनकर निकले।

1945 में उन्होंने हवाना यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ लॉ में एडमिशन लिया, जहां वे राजनैतिक रूप से ज्यादा सक्रिय रहे। उन्होंने अपने संगठन बनाए और 1947 में वे डोमिनिकन ब्रदर्स और क्यूबन्स द्वारा डोमिनिकन गणराज्य पर हमले में शामिल हुए। इसके बाद उन्होंने अप्रैल 1948 में कोलंबिया के बोगोटा में हुए शहरी दंगों में भाग लिया।

उन्हें कम्यूनिस्ट क्यूबा का जनक माना जाता है। उस समय क्यूबा के राष्ट्रपति फुल्गेन्सियो बतिस्ता अमेरिका के कट्टर समर्थक थे जिनके शासन में भ्रष्टाचार और अत्याचार अपने चरम पर था। कास्त्रो बतिस्ता के खिलाफ चुनाव लड़े मगर हार गए। इसके बाद उन्होंने क्रांति का रास्ता अपनाया।

यह खबर भी पढ़ें: बेटी से मां को दिलाई फांसी, 13 साल तक खुद को अनाथ मानती रही 19 साल की बेटी, जाने क्या था मामला

चुना क्रांति का रास्ता
26 जुलाई 1953 को कास्त्रो ने क्रांति का बिगुल फूंक दिया। अपने 100 साथियों के साथ उन्होंने सैनिक बैरक पर हमला कर दिया, मगर पकड़े गए। 2 वर्ष बाद एक समझौते के चलते रिहा हुए। इसके बाद वे मैक्सिको गए और चेग्वेरा के साथ मिलकर क्यूबा सरकार के खिलाफ गुरिल्ला युद्ध शुरू कर दिया।

अपने क्रांतिकारी विचारों के चलते उन्हें जनता का भरपूर समर्थन मिला और 1959 में उन्होंने राष्ट्रपति बतिस्ता का तख्तापलट कर दिया। इसके बाद उन्होंने क्यूबा का शासन अपने हाथ में लिया और 2008 तक लगातार शासन करते रहे।

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

पूरे जीवन किया अमेरिका का विरोध
कास्त्रो लंबे समय तक क्यूबा के राष्ट्रपति रहे और इस दौरान वे हमेशा अमेरिका और उसकी नीतियों के खिलाफ रहे। उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपतियों का मजाक भी उड़ाया। अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने उन्हें मारने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगाया मगर 638 बार उनकी साजिश असफल हुई।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

महिलाओं के साथ संबंध
माना जाता है कि 82 वर्ष की उम्र तक कास्त्रो ने 35 हजार महिलाओं के साथ संबंध बनाए। वह हर दिन कम से कम 2 महिलाओं के साथ संबंध बनाते थे और यह सिलसिला लगभग 4 दशक तक चला। उनपर बनी एक डॉक्यूमेंट्री में इस बात का जिक्र किया गया है।

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

2008 में छोड़ी सत्ता
उम्र में आखिरी पड़ाव में फिदेल ने अपने भाई राउल कास्त्रो को 2008 में क्यूबा की सत्ता सौंप दी। वर्ष 2016 में आज ही के दिन 90 वर्ष की आयु में उनकी स्वाभाविक मौत हो गई।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web