रूस और यूक्रेन युद्ध जार्जिया के लिए सोने का अंडा देने वाली मुर्गी कैसे बन गया, जानें- पूरा केस हिस्‍ट्री

 
russian soldiers

रूस और यूक्रेन युद्ध से पूरी दुनिया चिंतित है लेकिन जार्जिया के लिए ये एक सुनहरा अवसर की तरह आया है। जार्जिया इसका पूरा फायदा उठा रहा है। हालांकि रूस और जार्जिया के संबंध भी अच्‍छे नहीं रहे हैं।

नई दिल्‍ली। एक तरफ जहां रूस-यूक्रेन युद्ध की मार किसी न क‍िसी तरह से पूरी दुनिया झेल रही है वहीं जार्जिया इसका पूरा लाभ उठा रहा है। आपको ये भले ही अटपटा लगे लेकिन ये एक सच्‍चाई है। इस युद्ध से उपजे कारणों की वजह से जार्जिया विश्‍व के उन देशों में शामिल हो रहा है जो विभिन्‍न परेशानियों के बाद भी तेजी से विकास की तरफ बढ़ रहे हैं। ये हाल तब है जब दुनियाभर में आर्थिक हालत खराब है और विकास दर में गिरावट दर्ज की जा रही है। जार्जिया की बात करें तो वहां पर विकास दर के 10 फीसद तक होने की संभावना व्‍यक्‍त की जा रही है। ऐसा नहीं है कि जार्जिया ने कोई ऐसी तकनीक हासिल कर ली है जिसके दम पर वो इस तेजी से आगे बढ़ने की उम्‍मीद कर रहा है, बल्कि इसके पीछे की वजह कुछ और है।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

तेजी से विकास कर रहा जार्जिया 
दरअसल, जार्जिया जिस विकास दर की संभावना व्‍यक्‍त कर रहा है उसके पीछे वो लोग हैं जो यूक्रेन युद्ध के खिलाफ रूस से समय रहते निकलकर जार्जिया पहुंच गए। ये लोग अपने साथ काफी दौलत लेकर यहां आए। इनको इस बात का डर था कि इस युद्ध के चलते उन्‍हें भी कहीं युद्ध की आग में न झोंक दिया जाए और कहीं उनकी आर्थिक हालत रूस में रहते गिर न जाए। इसी वजह से इन्‍होंने रूस को छोड़कर जार्जिया में शरण ली। रूस से आए ऐसे लोगों की संख्‍या कुछ हजार नहीं है बल्कि ये संख्‍या लाखों में है। जार्जिया की एक रिपोर्ट बताती है कि उनके यहां पर इस युद्ध के बाद करीब 37 लाख रूसी लोग आकर बस गए हैं। अब इनके ही दम पर जार्जिया तेज विकास दर की बाट जोह रहा है।

यह खबर भी पढ़ें: भूल से महिला के खाते में पहुंचे 70 लाख डॉलर और फिर...

वियतनाम और कुवैत को छोड़ा पीछे 
अंतरराष्ट्रीय संस्थानों के मुताबिक जार्जिया की महज 19 अरब डालर की अर्थव्यवस्था ने कुवैत और वियतनाम को भी पीछे छोड़ दिया है। जार्जिया के सबसे बड़े बैंक टीबीसी का कहना है कि जार्जिया की आर्थिक लिहाज इस वक्‍त काफी बेहतर है। सभी तरह के उद्योग अच्छा काम कर रहे हैं। फिलहाल कोई क्षेत्र में परेशानी से नहीं जूझ रहा है। जार्जिया के आंकड़े बता रहे हैं कि इस वर्ष रूस से कम से कम 1,12,000 लोग यहां पर आए हैं। इन लोगों के जार्जिया आने की शुरुआत रूस-यूक्रेन युद्ध के साथ ही शुरू हो गई थी। युद्ध की शुरुआत के साथ ही करीब 43 हजार लोगों ने सीमा पार कर जार्जिया में कदम रखा था। इसके बाद यहां पर आने वाले रूसी लोगों की संख्‍या में उस वक्‍त इजाफा दर्ज किया गया जब रूस ने अपनी रिजर्व फोर्स की बात कही थी। तब भी काफी संख्‍या में रूसी जार्जिया पहुंचे थे।

यह खबर भी पढ़ें: World का सबसे Dangerous Border, बिना गोली चले हो गई 4000 लोगों की मौत, कुछ रहस्‍यमय तरीके से हो गए गायब

जानकारों की राय 

जार्जिया के अर्थशास्त्रियों की मानें तो फिलहााल ये कहना मुश्किल है कि ये स्थिति कब तक बनी रहेगी और कब तक रूस से लोग आते रहेंगे और जार्जिया को आर्थिक रूप से मजबूत करते रहेंगे। इन जानकारों का ये भी कहना है कि उनकी आर्थिक स्थिति काफी हद तक रूस पर निर्भर है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि आयात-निर्यात और पर्यटकों की आमद रूस से बड़े पैमाने पर होती है।

यह खबर भी पढ़ें: बेटी से मां को दिलाई फांसी, 13 साल तक खुद को अनाथ मानती रही 19 साल की बेटी, जाने क्या था मामला

jagran

वर्ल्‍ड बैंक का अनुमान गलत साबित 

यूरोपीयन बैंक आफ रिकंस्ट्रक्शन एंड डेवेलपमेंट (ईबीआरडी) के ने मार्च में कहा था कि रूस यूक्रेन युद्ध से जार्जिया को अधिक नुकसान उठाना पड़ सकता है। वहीं वर्ल्‍ड ने भी अप्रैल जार्जिया की आर्थिक विकास दर का अनुमान महज 2.5 फीसद लगाया था। लेकिन रूस और रूसी लोगों ने इस अनुमान को गलत साबित कर दिया है।

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

अरबों डालर बैंकों में जमा 

जॉर्जिया के केंद्रीय बैंक का कहना है कि अप्रैल से सितंबर के बीच में जार्जिया आने वाले रूसियों ने विभिन्‍न बैंकों में एक अरब डालर जमा कराए हैं। वर्ष 2021 की तुलना में ये धन करीब 5 गुना अधिक है। इस वजह से जार्जिया की मुद्रा लारी तीन साल के अपने सबसे मजबूत स्तर पर पहुंच गई है। रूस से आने वाले लोगों ने केवल इस तरह से ही जार्जिया को मजबूत नहीं किया है बल्कि ये लोग तकनीकी दृष्टि से भी काफी कुशल थे, जिसकी वजह से भी जार्जिया को फायदा पहुंचा है। यहां पर आने वाले लोगों में टेक्‍नालाजी सेक्‍टर के लोगों की भरमार थी। अब इनका फायदा जार्जिया को मिल रहा है।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

jagran

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

नए उद्योगों की भरमार 

रूसी लोगों के यहां पर आने के बाद जार्जिया में नए उद्योग भी खुले हैं। इन लोगों ने जहां पर जार्जिया की आर्थिक प्रगति में योगदान दिया है वहीं इसका कुछ साइड इफेक्‍ट भी पड़ा है। यहां पर मकानों की कीमत बढ़ गई है। महंगाई का स्‍तर भी पहले की तुलना में कुछ बढ़ गया है। जार्जिया को इस बात का भी डर लग रहा है कि कहीं रूस और यूक्रेन के बीच स्थिति सामान्‍य होने पर रूसी यहां से वापस न चले जाएं। यदि ऐसा हुआ तो उसकी आर्थिक ताकत कहीं न कहीं कमजोर जरूर हो जाएगी। बता दें कि रूस और जार्जिया के बीच भी जंग हो चुकी है। इन दोनों के रिश्‍ते अच्‍छे नहीं रहे हैं। इसलिए हालात कभी भी बदल सकते हैं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web