Hijab controversy in Iran: ईरान में हिजाब विवाद ने पकड़ा तूल, महिलाओं ने विरोध में काटे अपने बाल और जलाए हिजाब, जानिए पूरा मामला...

महिलाओं ने कहा- डरना मत, हम सब एक साथ हैं। इसी दौरान पुलिस ने विरोध कर रहे लोगों पर फायरिंग की।

 
Hijab controversy in Iran: ईरान में हिजाब विवाद ने पकड़ा तूल, महिलाओं ने विरोध में काटे अपने बाल और जलाए हिजाब, जानिए पूरा मामला...

तेहरान। ईरान में पुलिस कस्टडी में हुई महसा अमिनी की मौत के बाद राजधानी तेहरान में पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं। 

एक ईरानी महिला पत्रकार मसीह अलीनेजाद ने अपने सोशल मीडिया पर कुछ वीडियो शेयर किए हैं। महिला पत्रकार ने वीडियो के साथ लिखा, ईरान की महिलाएं पुलिस कस्टडी में 22 साल की महसा अमिनी की मौत और हिजाब पहनना मेंडेटरी होने का विरोध ऐसे ही बाल काट कर और हिजाब जला कर दिखा रही हैं। 

यह खबर भी पढ़ें: इस गांव में लोग एक-दुसरे को सीटी बजाकर बुलाते हैं, जो लोग सीटी नहीं बजा पाते...

उन्होंने आगे लिखा, अगर लड़कियां 7 साल की उम्र के बाद अपना सिर कवर नहीं करती हैं तो उन्हें स्कूल जाने नहीं दिया जाता है और न ही उन्हें कहीं नौकरी मिलती है। हम महिलाएं इस भेदभाव, अन्याय और अत्यातार से परेशान हो चुके हैं। तो वही पुलिस का कहना है कि पुलिस ने महसा के साथ कोई मारपीट नहीं की। 13 सितंबर को कई लड़कियों को गिरफ्तार किया गया था। उनमें से एक अमिनी थी। उसे जैसे ही पुलिस स्टेशन ले जाया गया वो बेहोश हो गई। वहीं, राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी ने गृह मंत्री को इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

ईरानी पत्रकार मसीह अलीनेजाद ने एक और वीडियो शेयर किया जिसमें तेहरान यूनिवर्सिटी की छात्राएं महसा अमिनी की मौत के विरोध में प्रदर्शन कर रही हैं। उन्होंने लिखा, देश के कई हिस्सों में प्रदर्शन हो रहे हैं। साघेज सिटी में महिलाएं नारेबाजी कर रही थीं। महिलाओं ने कहा- डरना मत, हम सब एक साथ हैं। इसी दौरान पुलिस ने विरोध कर रहे लोगों पर फायरिंग की। कई लोग घायल हो गए। इस घटना से पूरे ईरान के लोगों में गुस्सा देखा जा रहा है। दरअसल, ईरान पुलिस ने 13 सितंबर को महसा अमिनी को हिजाब नहीं पहनने के लिए गिरफ्तार किया था। 

यह खबर भी पढ़ें: अनोखी परम्परा: यहां सिर्फ जिंदा ही नहीं बल्कि मर चुके लोगों की भी की जाती है शादी

ईरानी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमिनी गिरफ्तारी के कुछ घंटे बाद ही कोमा में चली गई थी। उसे अस्पताल ले जाया गया। रिपोर्ट्स में कहा गया, महसा के पुलिस स्टेशन पहुंचने और अस्पताल जाने के बीच क्या हुआ यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। ईरान में हो रहे ह्यूमन राइट्स वायलेशन पर नजर रखने वाली चैनल ने कहा कि अमिनी की मौत सिर पर चोट लगने से हुई। गिरफ्तारी के 3 दिन बाद, यानी 16 सितंबर को उसकी मौत हो गई।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web