Hakki Azadi March: इमरान की पार्टी का लॉन्ग मार्च हो चुका शुरू, लाहौर से पहुंचेगा इस्लामाबाद

इमरान की पार्टी PTI की तरफ से निकाले जा रहे इस मार्च के लिए इमरान समर्थक लाहौर के लिबर्टी चौक पर इकट्‌ठा हो चुके हैं।
 
Hakki Azadi March: इमरान की पार्टी का लॉन्ग मार्च हो चुका शुरू, लाहौर से पहुंचेगा इस्लामाबाद

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान का 'हकीकी आजादी मार्च' शुक्रवार से लाहौर से इस्लामाबाद के लिए रवाना हो गया है। इमरान की पार्टी PTI की तरफ से निकाले जा रहे इस मार्च के लिए इमरान समर्थक लाहौर के लिबर्टी चौक पर इकट्‌ठा हो चुके हैं। इमरान खान भी मार्च में शामिल हो चुके हैं। मार्च की रवानगी से पहले वे समर्थकों को संबोधित भी करेंगे। तो वही इससे पहले PTI ने एक वीडियो ट्वीट किया था, जिसमें मार्च के बारे में बता रहे इमरान खान ने कहा है कि वे 'जिहाद' पर निकल रहे हैं।

यह खबर भी पढ़ें: विदाई के समय अपनी ही बेटी के स्तनों पर थूकता है पिता, फिर मुड़वा देता है सिर, जानें क्यों?

देश में चुनावों की मांग को लेकर यह मार्च निकाला जा रहा है। PTI ने मार्च में हिस्सा लेने वालों से इस्लामाबाद में धरने के लिए गैस मास्क, चादरें, कंबल, तौलिये, तीन जोड़ी कपड़े, छोटे आकार के टेंट, स्लिंग-शॉट्स, मार्बल्स और डंडों की व्यवस्था करने को कहा है। इस्लामाबाद पहुंच रहे मार्च को रोकने के लिए यहां बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। मार्च के दौरान प्रदर्शनकारियों को रोकने और खराब हालात से निपटने के लिए आंसू गैस और पेपर गन से लैस 13,000 से ज्यादा जवानों को राजधानी में तैनात किया गया है।

तो वही पाकिस्तान की मशहूर पत्रकार आलिया शाह के मुताबिक पाकिस्तान में प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति या दूसरे पद पर रहने वालों को मिले तोहफों की जानकारी नेशनल आर्काइव को देनी होती है। इन्हें तोशाखाना में जमा कराना होता है। अगर तोहफा 10 हजार पाकिस्तानी रुपए की कीमत वाला होता है तो बिना कोई पैसा चुकाए इसे संबंधित व्यक्ति रख सकता है। 10 हजार से ज्यादा है तो 20% कीमत देकर गिफ्ट अपने पास रखा जा सकता है। अगर 4 लाख से ज्यादा का गिफ्ट है तो इसे सिर्फ वजीर-ए-आजम (प्रधानमंत्री) या सदर-ए-रियासत (राष्ट्रपति) ही खरीद सकता है। अगर कोई नहीं खरीदता तो नीलामी होती है।

यह खबर भी पढ़ें: महिला के हुए जुड़वां बच्चे, DNA Test में दोनों के पिता अलग, क्या कहना है मेडिकल साइंस का?

दरअसल, इस्लामाबाद में इमरान सरकार विरोधी मार्च निकालने वाले हैं। हर हाल में इस मार्च को सफल बनाना चाहते हैं। इसी को लेकर वे लाहौर दौरे पर थे। लाहौर की मस्जिद एक नबवी पर जब इमरान सपोटर्स के साथ पहुंचे तो भीड़ और वकीलों के एक ग्रुप ने उन्हें घेर लिया। भीड़ ने उनके खिलाफ ‘घड़ी चोर’ के नारे लगाए। इस दौरान इमरान खुद ही भीड़ को हटाते नजर आए। घटना गुरुवार शाम की बताई जा रही है। इसका वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। पाकिस्तान के मुख्य चुनाव आयुक्त सिकंदर सुल्तान रजा की अध्यक्षता वाली 4 सदस्यों की बेंच ने इमरान के खिलाफ यह फैसला सुनाया। इमरान जब प्रधानमंत्री थे, तब विपक्षी सांसदों ने उनके खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत की थी। इमरान पर आरोप था कि उन्होंने तोशाखाना में जमा गिफ्ट्स को सस्ते में खरीदा और ज्यादा दामों में बेच दिया।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

"जयपुर में निवेश का अच्छा मौका, जमीन में निवेश के लिए"

JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स JAIPUR, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

From around the web