PAK आर्मी चीफ की फेयरवेल स्पीच, जनरल बाजवा बोले, अब दखल नहीं देगी फौज, जानिए और क्या कहा...

बाजवा ने आगे कहा, फौज के बारे में गलत बातें फैलाई जा रही हैं। लोगों को भड़काया जा रहा है।
 
PAK आर्मी चीफ की फेयरवेल स्पीच, जनरल बाजवा बोले, अब दखल नहीं देगी फौज, जानिए और क्या कहा...

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ (COAS) जनरल कमर जावेद बाजवा 29 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं। इसके पहले उन्होंने फेयरवेल स्पीच दी। इस भाषण में जनरल बाजवा ने साफगोई दिखाते हुए माना कि मुल्क की सियासत में फौज 70 साल से दखलंदाजी करती रही है, लेकिन अब नहीं करेगी। 61 साल के बाजवा ने सियासतदानों और खासतौर पर इमरान खान को बिना नाम लिए नसीहत देते हुए कहा, ये बहुत जरूरी है कि फौज के बारे में बोलते वक्त सलीके से शब्दों का चुनाव किया जाए। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

बाजवा ने आगे कहा, फौज के बारे में गलत बातें फैलाई जा रही हैं। लोगों को भड़काया जा रहा है। इतना ही नहीं, जब आलोचना की जाती है तो लहजा और लफ्ज बेहद खराब होते हैं। इसका ध्यान रखा जाना चाहिए। मैं ये नहीं कहता कि फौज से गलतियां नहीं हुईं। और फौज ही क्यों? कोई भी इंस्टीट्यूशन गलतियां कर सकता है। इसमें नेता और सिविल सोसाइटी भी शामिल है। 

यह खबर भी पढ़ें: महिला के हुए जुड़वां बच्चे, DNA Test में दोनों के पिता अलग, क्या कहना है मेडिकल साइंस का?

उन्होंने कहा, अब वक्त आ गया है कि हम अपने स्वार्थ और अहंकार को कोने में रखें और सिर्फ मुल्क के बारे में सोचें। पाकिस्तान इस वक्त बेहद मुश्किल दौर से गुजर रहा है। हमारी इकोनॉमी सबसे बुरे दौर में है। जरूरत इस बात की है कि सभी सियासी पार्टियां घमंड छोड़कर एक साथ बैठें, पुरानी गलतियों से सीखें और मुल्क को इन हालात से निकालें। हमें लोकतंत्र की रास्ते पर ही चलना होगा। 

यह खबर भी पढ़ें: विदाई के समय अपनी ही बेटी के स्तनों पर थूकता है पिता, फिर मुड़वा देता है सिर, जानें क्यों?

सियासत में जीत-हार चलती रही है और चलती रहेगी। उन्होंने यह भी कहा, बाजवा ने भावुक होते हुए कहा, मुल्क की हिफाजत के लिए हमने कुर्बानियां दीं और आज हमारे साथ जो कुछ हो रहा है वो नाइंसाफी है। जो शहीद हुए हैं, मैं उनको सलाम पेश करता हूं। मैं नहीं मानता कि 1971 में फौज नाकाम रही थी। अगर कोई नाकाम रहा था तो वो हमारे सियासतदान थे। उस वक्त 92 हजार नहीं, बल्कि सिर्फ 34 हजार सैनिक जंग के मैदान में थे। भारत के 2 लाख 50 हजार सैनिकों के साथ मुक्ति वाहिनी के 2 लाख फौजी भी थे। इसके बावजूद हम बहादुरी से लड़े। इसका जिक्र तो तब के इंडियन आर्मी चीफ फील्ड मार्शल मानेकशॉ ने भी किया था।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web