एक ही मैसेज सभी को मिला, हैरान-परेशान हुए 8000 लोग, लगे रोने...

 
crowd

अस्पताल की ओर से मैसेज में मरीजों को बताया गया कि वे जानलेवा फेफड़ों के कैंसर का शिकार हैं। कैंसर की बात जानकर मरीजों की आंखों में आंसू आ गए और वे अपने परिजनों से जानकारी जुटाने लगे। हालांकि, बाद में जब सच्चाई पता चली तो सबने राहत की सांस ली और खुशी जाहिर की।

 

नई दिल्ली। एक अस्पताल में भर्ती हजारों मरीज उस वक्त हैरान रह गए जब उन्हें एक 'दुखद' मैसेज मिला। इस मैसेज में उन्हें बताया गया कि वे जानलेवा फेफड़ों के कैंसर का शिकार हैं। कैंसर की बात जानकर मरीजों की आंखों में आंसू आ गए और वे अपने परिजनों से जानकारी जुटाने लगे। हालांकि, बाद में जब सच्चाई निकलकर सामने आई तो सबने राहत की सांस ली। मामला ब्रिटेन के Doncaster का है। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, Askern Medical Practice को मरीजों को क्रिसमस का मैसेज भेजना था लेकिन गलती से मेडिकल स्टाफ ने कैंसर वाला मैसेज भेज दिया। बाद में स्टाफ ने गलती सुधारते हुए क्रिसमस विश किया मगर तब तक मरीजों में पैनिक फैल चुका था। 

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

8000 मरीजों को आया 'जानलेवा मैसेज'
बताया गया कि Askern Medical ने अपने करीब 8000 मरीजों को क्रिसमस की जगह कैंसर वाला मैसेज भेजा था। इस मैसेज में लिखा था- आपको घातक लंग कैंसर हुआ है। मैसेज में कैंसर का प्रकार भी लिखा हुआ था साथ ही मरीजों को एक मेडिकल फॉर्म भरने का निर्देश दिया गया था। 

मैसेज मिलते ही मरीजों के चेहरे की हवाईयां उड़ गईं। कई लोग अपने-अपने परिजनों को कॉल कर जानकारी जुटाने लगे। अस्पताल में अफरातफरी का माहौल होने लगा। तभी एक घंटे बाद मरीजों अस्पताल की ओर से एक और मैसेज मिला। 

इसमें पहले मैसेज के लिए माफी मांगी गई। मैसेज में बताया गया कि वो क्रिसमस की शुभकामनाएं भेज रहे थे लेकिन गलती से कैंसर वाला मैसेज सेंड हो गया। अस्पताल ने अपने मैसेज में लिखा- पिछले संदेश के लिए ईमानदारी से क्षमा चाहते हैं। हम आपको क्रिसमस और नए साल की शुभकामनाएं देते हैं। 

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

मरीजों में फैला डर 
इस पूरे घटनाक्रम ने मरीजों में डर फैला दिया। 57 साल के एक मरीज क्रिस रीड ने कहा- मैं अपनी रिपोर्ट्स का इंतजार कर रहा था तभी मैसेज मिला कि मुझे कैंसर है। ये पढ़ते ही मैं डर गया। मैं अंदर तक हिल गया था और रोने लगा था। 

यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

एक अन्य मरीज सारा हारग्रेव्स ने बताया कि वह भी उस समय कैंसर की जांच के नतीजों का इंतज़ार कर रही थीं और जब उन्हें मैसेज मिला तो वो पूरी तरह से टूट गईं।  उन्हें यकीन नहीं हुआ कि ऐसी संवेदनशील खबर टेक्स्ट मैसेज द्वारा साझा की जा रही है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web