77 साल से पूर्व सैनिक के गले में फंसा है 'मौत का सामान', X-ray देख डॉक्टर हैरान

 
goli

95 साल के एक शख्स अस्पताल पहुंचे तो एक्स-रे से पता चला कि उनके गले में एक गोली फंसी हुई है। ये गोली उनके गले में पिछले 77 साल से फंसी हुई थी। लेकिन उन्हें इस बात का कभी आभास नहीं हुआ। लेकिन पता चलने के बाद भी डॉक्टरों ने इसे निकालने से इनकार दिया।

 

नई दिल्ली। 95 साल के एक शख्स इलाज कराने अस्पताल पहुंचे तो एक्स-रे के दौरान चौंकाने वाला खुलासा हुआ। दरअसल, एक्स-रे से पता चला कि उनके गले में एक गोली फंसी हुई है। हैरानी की बात यह है कि ये गोली उनके गले में पिछले 77 साल से फंसी हुई थी। लेकिन उन्हें इस बात का कभी आभास नहीं हुआ। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

95 साल के झाओ हे चीन (China) के रहने वाले हैं। वो रिटायर्ड सैनिक (Retired Army Man) हैं। हाल ही में झाओ Shandong प्रांत स्थित एक अस्पताल पहुंचे थे। यहां उनके गले का एक्स-रे किया गया। तभी पहली बार पता चला कि उनके गले में एक गोली फंसी हुई है, जो उन्हें दूसरे विश्व युद्ध के दौरान लगी थी। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

शरीर में जंग के और भी कई निशान मौजूद
झाओ के दामाद वांग ने कहा कि वे इस बात से अनजान थे कि उन्हें कभी गर्दन में गोली भी लगी थी। हालांकि, युद्ध के दौरान उन्हें कई बार गोली मारी गई थी। वांग ने बताया कि झाओ के शरीर में जंग के और भी कई अवशेष मौजूद हैं। एक बार युद्ध के दौरान चोटिल कॉमरेड को नदी के पार ले जाते समय झाओ खुद घायल हो गए थे। उनके शरीर के कई हिस्सों में अभी भी गोली के छर्रों के निशान हैं। 

इस मामले में डॉक्टरों का कहना है कि चमत्कारिक रूप से झाओ को कभी कोई समस्या नहीं हुई, जबकि गोली पिछले 77 वर्षों से उनकी गर्दन में फंसी हुई थी। हालांकि, इस गोली को अभी भी नहीं हटाया जाएगा। इसके पीछे झाओ की उम्र वजह बताई गई है। क्योंकि, गले का ऑपरेशन करने और गोली निकालने में उनकी जान को खतरा हो सकता है। 

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

वहीं पूर्व चीनी सैनिक झाओ कहते हैं- 'मैं इतने सालों से स्वस्थ हूं, इसलिए अब चीजों को बदलने का कोई कारण नहीं है।'

डेली स्टार के मुताबिक, झाओ ने दो युद्ध लड़े हैं, जिसमें 1950 के दशक में उत्तर कोरिया की ओर से अमेरिका और दक्षिण कोरिया के खिलाफ कोरियाई युद्ध भी शामिल था। फिलहाल वह एक साधारण जीवन जी रहे हैं। काफी समय तक उन्होंने स्थानीय कारखानों में भी काम किया।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web