US-चीन के बीच टकराव, अमेरिका कर रहा ताइवान की मदद, जानिए क्यों...

ताइवान पर चीन के आक्रामक रवैये को देखते हुए अमेरिका ने सैन्य मदद दी है।

 
US-चीन के बीच टकराव, अमेरिका कर रहा ताइवान की मदद, जानिए क्यों...

नई दिल्ली। अमेरिका, ताइवान को करीब 1.1 अरब डॉलर यानी 8768 करोड़ रुपए के हथियार देगा। इन हथियारों में 60 हारपून एंटी-शिप मिसाइल, साइडविंडर मिसाइलें, रडार वॉर्निंग सिस्टम और 100 एयर-टू-एयर मिसाइलें शामिल हैं। अमेरिका ने इस पैकेज की घोषणा नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के बाद की थी। 

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी 2 अगस्त को ताइवान पहुंची थीं। इसके बाद से ही चीनी सेना ताइवान के बिल्कुल नजदीक मिलिट्री एक्सरसाइज कर रही है। ताइवान पर चीन के आक्रामक रवैये को देखते हुए अमेरिका ने सैन्य मदद दी है। इधर, चीन की सरकार US के इस फैसले से गुस्से में आ गई है। चीन ने अंजाम भुगतने की धमकी दी है। इसी बीच अमेरिका चीन को पछाड़ने के लिए रणनीति पर काम कर रहा है। वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका अपने सहयोगी देशों को तेजी से हथियार सप्लाई करेगा।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

वॉशिंगटन में चीनी दूतावास ने अमेरिका से इस डील को कैंसल करने के लिए कहा है। दूतावास के प्रवक्ता लियू पेंग्यु ने कहा की इस डील से वॉशिंगटन और बीजिंग के संबंध खतरे में आ जाएंगे। चीन इसके खिलाफ जवाबी कदम उठाएगा। ऐसा करके अमेरिकी सरकार चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रही है। तो वही अमेरिकी नेवी ने 28 अगस्त को अपने दो बेहद खतरनाक और हाईली एडवांस्ड न्यूक्लियर वॉरशिप ताइवान की खाड़ी में तैनात कर दिए। दरअसल, चीन ने ताइवान के चारों ओर अपने J-20 फाइटर जेट और युद्धपोतों की तैनाती कर दी है। इसका अमेरिका सख्त जवाब दे रहा है। 

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web