चीन: अस्पताल में लाशों का ढेर, श्मशानों में शव उठाने के लिए भर्तियां... डरा देंगे कोरोना से तबाही के वीडियो

 
covid

चीन में कोरोना से हाहाकार है। बीजिंग के बाद अब शंघाई और अनसन जैसे शहरों में भी हालात बिगड़ने लगे हैं। शंघाई से जो तस्वीरें सामने आई हैं, वे डराने वाली हैं। यहां अस्पतालों में शवों के ढेर हैं। तो वहीं अनसन में फ्यूनरल होम की पार्किंग में शवों को रखा गया है। यहां अंतिम संस्कार के लिए लंबी वेटिंग चल रही है।

 

नई दिल्ली। चीन में कोरोना से हालात बिगड़ते चले जा रहे हैं। चीन लगातार कोविड से जुड़े आंकड़े और जानकारी छिपाने के लिए नए नए पैंतरे चल रहा है। चीन का दावा है कि वहां पिछले 6 दिन से कोरोना से किसी की मौत नहीं हुई है। लेकिन चीन से जो वीडियो सामने आ रहे हैं, वे कुछ और ही कहानी बयां कर रहे हैं। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

ह्यूमन राइट एक्टिविस्ट जेनिफर जेंग ने चीन के शंघाई शहर का एक वीडियो शेयर किया है। इसमें शंघाई के अस्पताल में शवों के ढेर नजर आ रहे हैं। उनके मुताबिक, ये वीडियो 24 दिसंबर का है। इतना ही नहीं जेंग ने एक वीडियो अनसन शहर का भी शेयर किया है। इसमें देखा जा सकता है कि किस तरह से चीन में फ्यूनरल होम फुल हो गए हैं। अंतिम संस्कार के लिए लंबी वेटिंग है। कोरोना के लगातार हो रहीं मौतें के चलते फ्यूनरल होम की पार्किंग में शवों को रखा जा रहा है। 

यह खबर भी पढ़ें: 7 दिनों की विदेश यात्रा में फ्लाइट-होटल पर खर्च सिर्फ 135 रुपये!

श्मशान घाटों में चल रहीं भर्तियां
कोरोना का कहर शंघाई शहर में भी जारी है। यहां कोरोना के लगातार केस बढ़ रहे हैं। इतना ही नहीं कोरोना के चलते काफी लोगों की जान भी जा रही है। ऐसे में शंघाई के श्मशान घाटों में भर्तियां चल रही हैं। लोग जो शव उठा सकें, वे इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। इतना ही नहीं जो लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, उन्हें वरीयता दी जा रही है। 

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

जानकारी छिपाने की हर कोशिश कर रहा चीन
कोरोना से जुड़े मौत के आंकड़े दुनिया के सामने न आएं, चीन इसकी पुरजोर कोशिश में जुटा है। लोगों को उनके परिजनों के शव अस्पताल से तभी दिए जा रहे हैं, जब वे एक फॉर्म पर साइन कर रहे हैं। इसमें लोगों को यह लिखकर देना पड़ रहा है कि उनके परिजनों की मौत कोरोना से नहीं हुई। कोई भी गलत दावा होता है, तो उसके लिए मैं जिम्मेदार हूं। 

इन सबके बीच बीजिंग के फ्यूनरल होम को भेजे गए नोटिस की कॉपी सामने आई है। इसमें लिखा है कि फ्यूनरल होम का कोई भी कर्मचारी किसी मीडिया संस्थान को इंटरव्यू देने पर रोक लगाई गई है। इसके साथ ही कोई भी डाटा शेयर करने की भी मनाही की गई है। 


यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

चीन में 20 दिन में 25 करोड़ केस- रिपोर्ट
चीन में कोरोना से हाहाकार मचा है। यहां पिछले 20 दिन में 25 करोड़ (250 मिलियन) लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इस बात का खुलासा सरकारी दस्तावेजों के लीक होने के बाद हुआ है।रेडियो फ्री एशिया ने सोशल मीडिया पर चल रहे दस्तावेजों का हवाला दिया है और कहा- महीने के पहले सप्ताह में 'जीरो-कोविड पॉलिसी' में छूट देने के बाद हालात भयावह हुए हैं और सिर्फ 20 दिन में ही पूरे चीन में करीब 250 मिलियन लोग कोविड-19 से प्रभावित हो गए हैं। 

मीडिया रिपोटर्स के अनुसार, चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग की एक बैठक में संक्रमण से संबंधित आंकड़े प्रस्तुत किए गए थे। ये बैठक सिर्फ 20 मिनट तक ही चली और अब इसके दस्तावेज लीक हो गए हैं। आंकड़ों के मुताबिक एक से 20 दिसंबर के बीच 24।8 करोड़ लोग कोविड-19 से संक्रमित हुए, जो चीन की आबादी का 17.65 फीसदी हैं।


यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

तबाही के बीच चीन ने हटाई पाबंदियां
चीन में कोरोना से जारी तबाही के बीच कई चौंकाने वाले फैसले किए हैं। चीन ने 8 जनवरी से विदेश से आने वाले यात्रियों को क्वारंटीन से छूट देने का ऐलान किया है। इतना ही नहीं चीन अपने अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर भी खोलने जा रहा है। चीन में 2020 से करीब 3 साल बाद अंतरराष्ट्रीय क्वारंटीन नियमों से छूट मिलने जा रही है। इससे पहले चीन ने दिसंबर में ही विवादित कोविड पॉलिसी वापस लेने का ऐलान किया था। इसका काफी विरोध हो रहा था। चीन में कोविड पॉलिसी वापस लेने के बाद से तेजी से केस बढ़े हैं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web