CORONA: लॉकडाउन को लेकर चीन में फूटा लोगों का गुस्सा, सड़कों पर मचाया बवाल, पुलिसकर्मियों से भिड़े

 
china

चीन के ग्वांग्झू में कड़े लॉकडाउन नियमों के विरोध में लोग सड़कों पर उतर आए हैं। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में लोगों को बैरियर तोड़ते, पुलिसकर्मियों से भिड़ते और जमकर बवाल मचाते देखा जा सकता है। ये विरोध ग्वांग्झू के कई ऐसे इलाकों में हुए, जहां मुख्य तौर पर गरीब तबके के लोग रहते हैं।

 

नई दिल्ली। चीन में कोरोना के ताजा मामलों के बीच सख्त लॉकडाउन से परेशान लोगों का सब्र टूट गया है। चीन के ग्वांग्झू के कई इलाकों में लोग लॉकडाउन नियमों के खिलाफ सड़कों पर निकल आए और जमकर बवाल मचाया। ग्वांग्झू में लॉकडाउन के सख्त नियमों का काफी समय से विरोध हो रहा था। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि ग्वांग्झू के हेझू जिले सहित कई इलाकों में बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी सड़कों पर निकल आए। उन्होंने बैरियर तोड़ दिए और वाहनों में तोड़फोड़ की। इन प्रदर्शनकारियों को पुलिस से भिड़ते भी देखा गया।

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

ग्वांग्झू में लॉकडाउन के विरोध में प्रदर्शन
स्थानीय मीडिया के मुताबिक, ये विरोध ग्वांग्झू के कई ऐसे इलाकों में हुए, जहां मुख्य तौर पर गरीब तबके के लोग रहते हैं। लोगों की सबसे बड़ी समस्या भोजन की कमी और समय पर मेडिकल ट्रीटमेंट नहीं मिल पाना है। क्वारंटीन अवधि घटाने के बाद भी लॉकडाउन नियमों में ढील नहीं दिए जाने से लोगों में गुस्सा है। 

गुस्साए लोगों को काबू में करने के लिए पुलिस को मौके पर भेजा गया। लेकिन प्रदर्शनकारी पुलिसकर्मियों से ही भिड़ गए। देखते ही देखते सोशल मीडिया पर 'ग्वांग्झू हेझू डिस्ट्रिक्ट राइट' और 'हेझू राइट' ट्रेंड होने लगे।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

लॉकडाउन से क्यों परेशान लोग?
चीन में सख्त लॉकडाउन और राष्ट्रपति शिनपिंग की जीरो कोविड पॉलिसी को लेकर अब लोगों के सब्र की सीमा टूट गई है। इन सख्त लॉकडाउन नियमों की वजह से ग्लोबल सप्लाई चेन बाधित हुई है। अब तक 50 लाख लोगों को घरों के भीतर रहने के आदेश दिए गए हैं। जरूरी सामानों की खरीद के लिए परिवार के सिर्फ एक सदस्य को बाहर जाने की हिदायत दी गई है। यह आदेश ऐसे समय में आया था, जब 1।3 करोड़ की आबादी वाले ग्वांग्झू शहर में एक दिन में कोरोना के 2500 नए मामले सामने आए थे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसके मद्देनजर पब्लिक ट्रांसपोर्ट सेवाएं सस्पेंड कर दी गई। स्कूल और कॉलेज समेत सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया गया और देश के भीतर कई बड़े शहरों तक आने-जाने वाली फ्लाइट्स सेवाएं रद्द कर दी गईं। 


यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

जीरो कोविड पॉलिसी का विरोध
चीन की बेहद सख्त मानी जा रही जीरो कोविड पॉलिसी का व्यापक विरोध हो रहा है। इस पॉलसी के तहत किसी क्षेत्र में कोरोना का एक केस भी सामने आने पर उस पूरे इलाके में कर्फ्यू लगा दिया जाता है। इससे लोगों को बड़ी दिक्कतें हो रही हैं। उन्हें खाने-पीने जैसे जरूरी सामानों की कमी का सामना करना पड़ रहा है। मेडिकल ट्रीटमेंट को लेकर समस्याएं हैं। गरीब तबके आर्थिक बदहाली से जूझ रहे हैं। उनके लिए आजीविका का संकट खड़ा हो गया है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

 

From around the web