CORONA : चीन में बढ़ता जा रहा कोरोना को लेकर खौफ, बीजिंग में 6 महीने बाद दर्ज हुई पहली मौत

 
health coronavirus china

चीनी प्रशासन ने कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण पर काबू पाने के लिए सख्त 'जीरो कोविड पॉलिसी' लागू की है। चीन में बड़े पैमाने पर लॉकडाउन लगाया गया है और कोविड टेस्टिंग भी बढ़ा दी गई है।

 

बीजिंग। चीन में 6 महीने के बाद कोरोना वायरस के संक्रमण से मौत का पहला मामला सामने आया है। यह डेथ ऐसे समय रिपोर्ट हुई है जब चीन में कोविड-19 के केस एक बार फिर से बढ़ रहे हैं। चीनी प्रशासन ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण पर काबू पाने के लिए सख्त 'जीरो कोविड पॉलिसी' लागू की है। देश में बड़े पैमाने पर लॉकडाउन लगाया गया है और टेस्टिंग भी बढ़ा दी गई है। साथ ही क्वारंटीन से जुड़े नियमों को भी कड़ाई से लागू किया जा रहा है। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

कोरोना संक्रमण से मौत का मामला राजधानी बीजिंग में रिपोर्ट किया गया है। नगर निगम अधिकारियों ने बताया कि मृतक 87 साल का एक बुजुर्ग व्यक्ति है। नेशनल हेल्थ कमीशन ने बताया कि देश में बीते 24 घंटे में कोविड-19 के 24,000 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिणी ग्वांग्झू महानगर में कोविड इंफेक्शन से हालत ज्यादा खराब है। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए ग्वांग्झू में करीब 2,50,000 लोगों के लिए क्वारंटीन रूम बनाने की तैयारी है।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा
कोरोना पाबंदियों को लेकर बढ़ रहा आक्रोश
चीन में संक्रमण के मामलों की संख्या अमेरिका और अन्य प्रमुख देशों के मुकाबले कम है, लेकिन सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी हर मरीज को क्वारंटीन करने की कोशिश कर रही है। बार-बार इलाकों, स्कूलों व कारोबारों पर पाबंदियां लगाने से लोगों का गुस्सा भड़क रहा है और उनकी स्वास्थ्य कर्मियों से झड़प हो रही है। सोशल मीडिया पर सामने आए वीडियो में ग्वांग्झू में गुस्साए लोगों को स्वास्थ्य कर्मियों की ओर से लगाए अवरोधकों को हटाते हुए देखा गया।

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

इस बीच चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने बीते दिनों क्वारंटीन की अवधि घटाकर और अन्य नियमों में बदलाव कर कोविड रोधी उपायों को कम करने का वादा किया था। बहरहाल, पार्टी के नेताओं ने कहा कि वे ऐसे वक्त में जीरो कोविड नीति पर अड़े रहेंगे, जब अन्य देश पाबंदियों में ढील दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे लोग तो वायरस के साथ ही रहने की कोशिश कर रहे हैं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web