CORONA: फिर फूटा चीन में कोरोना बम, कई शहरों में लॉकडाउन जैसे हालात; अर्थव्यवस्था को लगेगा झटका

 
covid19

राजधानी बीजिंग में, कोरोना मामले हर दिन नई ऊंचाई पर पहुंच रहे हैं। शहर की सरकार ताजा मामलों को देखते हुए लोगों को घरों के अंदर रहने को मजबूर कर रही है। वीकेंड में कोरोना से तीन लोगों की मौत हुई थी।

 

बीजिंग। साल 2019 में जहां से कोरोना वायरस फैला था वहां फिलहाल अभी तक वायरस पर नियंत्रण नहीं हो पाया है। हम बात कर रहे हैं चीन की। चीन में अभी भी कई शहर लॉकडाउन जैसी स्थिति का सामना कर रहे हैं। चीन ने मंगलवार को कई पार्क, शॉपिंग मॉल और संग्रहालयों को बंद कर दिया। कई चीनी शहरों ने COVID-19 के बढ़े मामलों को देखते हुए बड़े पैमाने पर टेस्टिंग फिर से शुरू कर की है। बढ़ते कोरोना के मामलों ने चीनी अर्थव्यवस्था के बारे में चिंताओं को गहरा कर दिया। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

चीन ने सोमवार को राष्ट्रीय स्तर पर 28,127 नए स्थानीय कोरोना मामलों की सूचना दी। ये आंकड़े अप्रैल में कोरोना की पीक के बराबर हैं। इनमें से आधे मामले दक्षिणी शहर ग्वांगझू और चोंगकिंग से हैं। ग्वांगडोंग प्रांत और चोंगकिंग शहर में 16,000 और 6,300 से अधिक मामले दर्ज किए गए। बीजिंग में भी मामले तेजी से बढ़े हैं। जहां रविवार को राजधानी में 621 मामले दर्ज किए गए थे। वहीं मंगलवार को इनकी संख्या दोगुनी से अधिक 1,438 हो गई।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

राजधानी बीजिंग में, कोरोना मामले हर दिन नई ऊंचाई पर पहुंच रहे हैं। शहर की सरकार ताजा मामलों को देखते हुए लोगों को घरों के अंदर रहने को मजबूर कर रही है। वीकेंड में कोरोना से तीन लोगों की मौत हुई थी। लेकिन ये आंकड़ा और बढ़ गया जब मंगलवार को दो और लोगों ने कोरोना से अपनी जान गंवा दी। मई के बाद चीन की पहली मौतें दर्ज की गई हैं। कोरोना की ताजा लहर ऐसे समय में फैल रही है जब चीन अपनी जीरो-कोविड ​​नीति पर अड़ा है। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, चीन के कई बड़े शहरों में पर्यटक आकर्षण, जिम और पार्क बंद कर दिए गए हैं। बड़े पैमाने पर होने वाले कार्यक्रम जैसे संगीत कार्यक्रम भी रद्द कर दिए गए।  

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

संशोधित दिशा-निर्देशों के बाद भी, चीन अपने सख्त COVID प्रतिबंधों के साथ कोरोना का बड़ा अड्डा बना हुआ है। चीन ने कोरोना के चलते अपनी सीमाएं लगभग तीन साल तक बंद रखी थीं। बीजिंग और अन्य शहरों में कड़े कदम, लॉकडाउन से बचने की कोशिश है। लेकिन इस साल कोरोना के मामलों और फिर लॉकडाउन ने शंघाई को अपंग कर दिया था। अर्थव्यवस्था पर निवेशकों की चिंताओं को फिर से बढ़ा दिया और वैश्विक स्टॉक और तेल की कीमतों को रातोंरात फिसलने के लिए मजबूर किया है।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web