ब्रिटेन: कोरोना के अलावा कई और बीमारियों का कहर बढ़ा! बच्चों-वयस्कों के लिए एडवाइजरी जारी

 
corona in uk

चीन की तरह ब्रिटेन में भी कोरोना के केस तेजी से बढ़ रहे हैं। यह कोरोना के अलावा सर्दियों में होने वाले फ्लू और स्कार्लेट फीवर के मामलों में भी तेजी देखने को मिल रही है। वहीं क्रिसमस की छुट्टियों के बाद अब वहां स्कूल भी खुल गए हैं। ऐसे में बच्चों और वयस्कों में बीमार होने का खतरा और बढ़ गया है, इसलिए यूके स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी ने इनके लिए एडवाइजरी जारी कर दी है।

 

नई दिल्ली। ब्रिटेन में भी कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है। वहां कोरोना की पांचवीं वेव आ चुकी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ब्रिटेन में पिछले हफ्ते करीब 2 लाख से ज्यादा लोग पॉजिटिव हुए थे। वहीं सरकार ने नए साल से कोरोना के आंकड़े जारी करने बंद कर दिए हैं। वहीं अब यहां की स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी (यूकेएचएसए) ने बच्चों और वयस्कों के लिए एक एडवाइजरी जारी कर दी है। क्रिसमस की छुट्टियों के बाद फिर से स्कूल खुलने पर ये एडवाइजरी जारी की गई है।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

इसमें कहा गया है कि  कोरोना के अलावा फ्लू और स्कार्लेट फीवर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। आने वाले हफ्तों में इसके केसों में तेजी से उझाल आ सकता है, इसलिए वयस्कों को सलाह दी जाती है कि अगर वह बीमार है या उनमें बीमारी के लक्षण हैं तो वे घर पर ही रहें। अगर बाहर से निकलना बहुत जरूरी है तो वे मास्क पहनकर ही निकलें।

यह खबर भी पढ़ें: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

सरकार ने लोगों से ये की अपील

  • यूकेएचएसए में मुख्य चिकित्सा सलाहकार प्रोफेसर सुसान हॉपकिंस ने कहा कि जितना संभव हो सके स्कूलों और अन्य शिक्षा और चाइल्डकैअर संस्थानों में संक्रमण के प्रसार को कम करना बेहद जरूरी है। उन्होंने लोगों से कहा कि अगर आपका बच्चा अस्वस्थ है और उसे बुखार है, तो उसे तब तक घर पर रहना चाहिए जब तक वह बेहतर महसूस न करें और बुखार ठीक न हो जाए।
  • उन्होंने कहा कि हाथों को अच्छे से साफ रखने के महत्व के बारे में बताना बेहद जरूरी है, इसलिए घर पर साबुन और गर्म पानी से नियमित रूप से हाथ धोएं। उन्होंने यह भी कहा कि व्यस्कों को भी अस्वस्थ होने पर घर में रहना चाहिए और अगर बाहर जाना ही है तो मास्क पहनकर ही बाहर निकलें। अस्वस्थ होने पर स्वास्थ्य सेवा केंद्रों पर न जाएं या जब तक अति आवश्यक न हो कमजोर लोगों से न मिलें।
  • उन्होंने कहा कि याद रखें कि फ्लू टीकाकरण अभी भी सभी पत्र लोगों के लिए उपलब्ध है। यह वायरस से लड़ने की बहुत मददगार है। हमने देखा है कि बुजुर्ग वैक्सिनेशन करवा रह है लेकिन छोटे बच्चों में अभी यह आंकड़ा कम है। उन्होंने कहा कि फ्लू से गंभीर बीमारी हो सकती है। अपने बच्चे को टीका लगवाने उनकी और उनके संपर्क में आने वाले लोगों की सुरक्षा होती है इसलिए इसके लिए अभी भी देर नहीं हुई है।

यह खबर भी पढ़ें: महिला टीचर को छात्रा से हुआ प्यार, जेंडर चेंज करवाकर रचाई शादी

जनवरी में पीक आने की आशंका
ब्रिटेन हेल्थ सिक्योरटी एजेंसी (यूकेएचएसए) सीजनल फ्लू जैसी अन्य बीमारियों की तरह कोरोना की स्थिति पर नजर रखे हुए है। यूकेएचएसए एपडियोमोलॉजी मॉडलिंग रिव्यू ग्रुप (ईएमआरजी) के चेयरमैन डॉ। निक वॉटकिन्स का कहना है कि कोरोना के अगले आंकड़ें छह जनवरी 2023 को पेश होंगे, जो आखिरी होंगे। 

वहीं किंग्स कॉलेज लंदन के प्रोफेसर टिम स्पैक्टर का कहना है कि कोरोना और फ्लू के मामले अब भी ब्रिटेन में बढ़ रहे हैं। जनवरी में इसका पीक होने की आशंका है। हालांकि, इसके बाद इसमें गिरावट आएगी।

यह खबर भी पढ़ें: 'मेरे बॉयफ्रेंड ने बच्चे को जन्म दिया, उसे नहीं पता था वह प्रेग्नेंट है'

2022 की शुरुआत में हटा दी गई थीं पाबंदियां
2022 साल की शुरुआत में कोरोना को लेकर बाकी सभी पाबंदियों को हटा दिया गया था, जिसमें कोरोना के लक्षण पाए जाने पर सेल्फ-आइसोलेशन का नियम भी शामिल था। सर्दियों में कोरोना के मामले बढ़ने की आशंका के बीच स्वास्थ्य विभाग ने उन लोगों से त्योहारी गतिविधियों में शामिल होने से बचने को कहा था, जिन्हें श्वास संबंधी कुछ दिक्कतें हैं या जिनमें किसी तरह के लक्षण पाए जाएं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web