ईरान में बवाल के पीछे क्या फ्रांस और इजराइल का हाथ? इस्लामिक देश बोला- मोसाद और फ्रांसीसी खुफिया एजेंट पकड़े

 
protests

रेवोल्यूशनरी गार्ड्स के बयान में कहा गया है कि कथित जासूस को दक्षिण-पूर्वी प्रांत केरमन से पकड़ा गया है। हालांकि ईरानी पुलिस ने गिरफ्तारी का समय और न ही पकड़े गए शख्स की नागरिकता का खुलासा किया है।

 

तेहरान। हिजाब विरोधी प्रदर्शनों के बीच ईरान ने दावा किया है कि उसने कई फ्रांसीसी खुफिया एजेंटों को गिरफ्तार किया है। इस्लामिक देश के आंतरिक मंत्री अहमद वाहिदी ने बुधवार को सरकारी टीवी चैनल को बताया कि कई फ्रांसीसी खुफिया एजेंटों को ईरान में विरोध प्रदर्शन के संबंध में गिरफ्तार किया गया है। यही नहीं, इस्लामिक देश ईरान ने 'पश्चिमी दुश्मनों' पर राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शनों को भड़काने का आरोप लगाया है।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

ईरानी पुलिस की हिरासत में 16 सितंबर को 22 वर्षीय महसा अमीनी की मौत के बाद ईरान में देशव्यापी विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए। महिलाओं के लिए ईरान में सख्त ड्रेस कोड का कथित रूप से उल्लंघन करने पर अमीनी को हिरासत में लिया गया था। ईरानी मंत्री ने कहा है कि दंगों में अन्य देशों के लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि इनमें से कुछ लोगों ने दंगों में बड़ी भूमिका निभाई थी। उन्होंने कहा, "इसके (दंगों के) पीछे फ्रांसीसी खुफिया एजेंसी के एजेंट थे और उनसे कानून के मुताबिक निपटा जाएगा।”

यह खबर भी पढ़ें: बेटी से मां को दिलाई फांसी, 13 साल तक खुद को अनाथ मानती रही 19 साल की बेटी, जाने क्या था मामला

बता दें कि शुरुआत में विरोध प्रदर्शन ईरान में हिजाब पहनने की अनिवार्यता पर केंद्रित थे, लेकिन बाद में प्रदर्शनों का सिलसिला बढ़ता गया और ये 1979 की इस्लामी क्रांति के बाद सत्तारूढ़ शासकों के लिए सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक में बदल गए हैं। पिछले हफ्ते फ्रांस की विदेश मंत्री कैथरीन कोलोना ने कहा था कि ईरान में कुल सात फ्रांसीसी नागरिकों को हिरासत में लिया गया है।

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने मोसाद से जुड़े शख्स को पकड़ा
ईरान की अर्ध-सरकारी समाचार एजेंसी फार्स ने बताया कि ईरान के रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स ने बुधवार को इजराइल के एक एजेंट को पकड़ा है। रिपोर्टों के मुताबिक, ईरानी रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स ने दावा किया है कि उन्होंने एक ऐसे व्यक्ति को गिरफ्तार किया है, जो इजराइल की खुफिया एजेंसी मोसाद से जुड़ा हुआ है।

रेवोल्यूशनरी गार्ड्स के बयान में कहा गया है कि कथित जासूस को दक्षिण-पूर्वी प्रांत केरमन से पकड़ा गया है। हालांकि ईरानी पुलिस ने गिरफ्तारी का समय और न ही पकड़े गए शख्स की नागरिकता का खुलासा किया है। इजराइल के प्रधानमंत्री कार्यालय से टिप्पणी के अनुरोध का तत्काल कोई जवाब नहीं था।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

ईरान ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारी को मौत की सजा सुनाई: रिपोर्ट
हाल ही में ईरान की रिवोल्यूशनरी अदालत ने देश में लगातार जारी अशांति के बीच एक सरकार विरोधी प्रदर्शनकारी को मृत्युदंड और पांच अन्य लोगों को कारावास की सजा सुनाई है। सरकारी मीडिया ने रविवार को यह जानकारी दी। देश में पिछले कुछ हफ्तों से जारी सरकार विरोधी प्रदर्शनों में भाग लेने के लिए गिरफ्तार लोगों के खिलाफ जारी मुकदमों में संभवत: पहली बार मौत की सजा दी गई है।

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

ईरान की न्यायपालिका से संबंधित समाचार वेबसाइट मिजान ने बताया कि प्रदर्शनकारी को एक सरकारी भवन में आग लगाने के मामले में मौत की सजा सुनाई गई तथा पांच अन्य लोगों को राष्ट्रीय सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के उल्लंघन के आरोप में पांच से 10 साल की सजा दी गई।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web