ब्रिटेन की सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक, बुढ़ापे में गिरना डिसऑर्डर, जिससे मौत का खतरा

बुजुर्गों के कूल्हे की हड्‌डी गिरने से टूट जाती है जिसकी वजह से एक साल के अंदर उनकी मौत की संभावना तीन गुनी हो जाती है।

 
ब्रिटेन की सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक, बुढ़ापे में गिरना डिसऑर्डर, जिससे मौत का खतरा

लंदन। ब्रिटेन की सरकारी रिपोर्ट कहती है कि 65 साल से ऊपर के एक तिहाई और 80 साल से ऊपर के आधे लोग साल में एक बार जरूर गिरते हैं। बुजुर्गों के कूल्हे की हड्‌डी गिरने से टूट जाती है जिसकी वजह से एक साल के अंदर उनकी मौत की संभावना तीन गुनी हो जाती है। जबकि 20% मामलों में बुजुर्गों को लंबे समय तक देखभाल की जरूरत पड़ती है। आपको बता दे तकनीक की मदद से बुजुर्गों के गिरने के बाद अस्पताल जाने की नौबत कम करने की कोशिश साल 2018 में वेल्स में हुई। घर पर इलाज का जुगाड़ किया गया। इससे गिरने पर बुजुर्गों को अस्पताल में भर्ती करने की नौबत एक साल में ही 65% से गिरकर 16% पर आ गई।

विज्ञापन: जयपुर में निवेश का अच्छा मौका JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 3.21 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

कंसल्टेंट जेरियाट्रिशियन डॉक्टर डेविड ओलिवर कहते हैं कि स्ट्रोक से ज्यादा बुजुर्ग गिरने से अस्पताल पहुंचते हैं। 65 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के अचानक गिरने के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। अकेले ब्रिटेन में ही जहां 2010-11 में 1.85 लाख गिरने से लोग अस्पताल पहुंचे थे, वहीं 2019-20 में 2.34 लाख बुजुर्गों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। ओलिवर कहते हैं, मरीज अस्पताल में स्वस्थ होने आते हैं, लेकिन वे कई बार यहां दूसरी बीमारियों से संक्रमित हो जाते हैं। बुजुर्गों में यह संक्रमण कई बार जानलेवा हो जाते हैं।

यह खबर भी पढ़ें: जब लाखों का मालिक निकला दिव्यांग भिखारी! ...तो सच जानकर ये महसूस किया शख्स ने

डॉरसेट हेल्थकेयर के कंसल्टेंट डॉक्टर क्लिफ किलगोर कहते हैं, अगर 85 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्ग 72 घंटे से ज्यादा समय तक लेटे रहें, तो उनकी मांसपेशियां इतनी कमजोर हो जाती हैं कि उनका उठ पाना मुश्किल होता है। इससे बुुजुर्गों को बचाने का सबसे अच्छा तरीका अस्पताल की बजाय घर पर देखभाल है। बीपी, आंख और कान के इलाज की दवाओं से गिरने के मामले बढ़ते हैं।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web