Zakir Naik FIFA World Cup: किसने बुलाया भगोड़े जाकिर नाइक को FIFA वर्ल्ड कप में? कतर ने भारत को दी ये सफाई

 
zakir naik

कतर ने फीफा वर्ल्ड कप 2022 के दौरान मजहबी तकरीर करने के लिए जाकिर नाइक को बुलाया है। इस तरह का दावा कई रिपोर्ट्स में किया जा रहा है। मगर अब इसी मामले में कतर ने भारत को सफाई दी है। जाकिर नाइक भड़काऊ भाषण और आतंक से जुड़ी गतिविधियों का आरोपी है...

दोहा। Zakir Naik FIFA World Cup 2022: कतर की मेजबानी में इन दिनों फीफा वर्ल्ड कप 2022 खेला जा रहा है। टूर्नामेंट का आगाज 20 नवंबर से हुआ। इसी बीच पता चला है कि मनी लॉन्ड्रिंग, भड़काऊ भाषण और आतंक से जुड़ी गतिविधियों का आरोपी इस्लामिक धर्मगुरु जाकिर नाइक कतर पहुंच गया है। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

बता दें कि कुछ रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि जाकिर नाइक को कतर ने ही फीफा वर्ल्ड कप के दौरान मजहबी तकरीर करने के लिए बुलाया है। इसके बाद से ही भारत और कतर के बीच राजनीतिक तनातनी शुरू हो गई थी। मगर अब कतर ने इस मामले में भारत को सफाई दी है।

यह खबर भी पढ़ें: बेटी से मां को दिलाई फांसी, 13 साल तक खुद को अनाथ मानती रही 19 साल की बेटी, जाने क्या था मामला

भारत-कतर के बीच दरार डालने के लिए साजिश की
सूत्रों के मुताबिक, कतर ने डिपलोमैटिक चैनलों को माध्यम से भारत से कहा है कि उसकी तरफ से जाकिर नाइक को फीफा वर्ल्ड कप के ओपनिंग सेरेमनी में शामिल होने के लिए कोई आधिकारिक आमंत्रण नहीं दिया गया था। कतर ने साफ कहा है कि उसके और भारत के बीच रिश्तों में दरार डालने के लिए दूसरे देशों के द्वारा जानबूझकर ऐसी गलत खबरें चलाई गई हैं।

यह खबर भी पढ़ें: शादी किए बगैर ही बन गया 48 बच्चों का बाप, अब कोई लड़की नहीं मिल रही

कतर के सरकारी चैनल के टीवी प्रेंजेटर से मिली थी खबर
दरअसल, हाल ही में कतर के सरकारी स्पोर्ट्स चैनल अलकास के टेलीविजन प्रेजेंटर अल्हाजरी ने ट्वीट किया था, ' शेख जाकिर नाइक वर्ल्ड कप के दौरान कतर में हैं और पूरे विश्व कप के बीच कई धार्मिक व्याख्यान देंगे।' इसके बाद से ही यह खबरें सामने आईं कि कतर ने ही जाकिर नाइक को फीफा वर्ल्ड कप के लिए बुलाया है।

बता दें कि जाकिर नाइक पर भारत में कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। वह भारत में वांछित है। उस पर आरोप है कि उसके भाषण विवादित थे, जो पीस टीवी पर दिखाये जाते थे। उसके एनजीओ IRF का दफ्तर मुंबई के डोंगरी में था।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

2017 से मलेशिया में रह रहा जाकिर नाइक
जाकिर नाइक भारत में 1990 के दशक से अपने धार्मिक उपदेशों को लिए चर्चा में आया था। साल 2000 की शुरुआत में उसके कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए, जिसमें जाकिर नाइक ने कई आपत्तिजनक भाषण दिए। इसके बाद जाकिर पर अपने अनुयायियों को दूसरे धार्म के खिलाफ भड़काने के आरोप लगने लगे।

इसके बाद 2016 में भारत ने जाकिर नाइक की संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (IRF) पर प्रतिबंध लगा दिया। 2017 से जाकिर नाइक एक भगोड़े भगोड़े के रूप में मलेशिया में जीवन गुजार रहा है। जाकिर नाइक मलेशिया का स्थायी निवास है। लेकिन 'राष्ट्रीय सुरक्षा' का हवाला देते हुए 2020 से मलेशिया के अंदर उसके भाषण देने से प्रतिबंधित लगा हुआ है।

यह खबर भी पढ़ें: ऐसा गांव जहां बिना कपड़ों के रहते हैं लोग, जानिए क्या है इसके पीछे की वजह

जुलाई 2016 में देश छोड़कर भागने के एक साल बाद, भारत ने जाकिर नाइक का पासपोर्ट रद्द कर दिया था। तब जाकिर नाइक ने दावा किया था कि वह एक एनआरआई था। 2016 में बांग्लादेश की राजधानी ढाका में विस्फोट हुए थे। इस घटना के बाद जो आतंकी गिरफ्तार हुए थे, उन्होंने बताया था कि वह जाकिर के भाषणों से प्रभावित हैं। ढाका में हुए इस ब्लास्ट में 22 लोग मारे गए थे। 

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web