Mansoor Ali Khan Pataudi Birthday: एक आंख वाले टाइगर पटौदी ने ऐसे जमाई क्रिकेट के मैदान पर धाक

क्रिकेट के खेल में पैनी नजर जरूरी है, लेकिन मंसूर अली ने एक आंख से अंधे होने के बावजूद पूरी दुनिया में अपनी प्रतिभा साबित की है।
 
Mansoor Ali Khan Pataudi Birthday: एक आंख वाले टाइगर पटौदी ने ऐसे जमाई क्रिकेट के मैदान पर धाक

नई दिल्ली। खिलाड़ी अपने जुनून के साथ खेल खेलते हैं और उनके कौशल इसमें भागीदार होते हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण पूर्व भारतीय कप्तान मंसूर अली खान पटौदी थे। क्रिकेट के खेल में पैनी नजर जरूरी है, लेकिन मंसूर अली ने एक आंख से अंधे होने के बावजूद पूरी दुनिया में अपनी प्रतिभा साबित की है। वह विदेशी धरती पर टेस्ट जीत के लिए टीम का नेतृत्व करने वाले पहले भारतीय कप्तान थे। मंसूर अली खान पटौदी को बहुत कम उम्र में सफलता और प्रसिद्धि दोनों मिली। 5 जनवरी 1941 को भोपाल के नवाब खानदान में जन्मे मंसूर अली खान पटौदी को क्रिकेट की दुनिया में टाइगर पटौदी और नवाब पटौदी के नाम से भी जाना जाता है। महज 20 साल की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरुआत करने वाले मंसूर अली खान पटौदी को 21 साल की उम्र में भारतीय टीम की कप्तानी मिली थी।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

सबसे युवा कप्तान होने पर गर्व है
1961 से 1975 तक भारतीय टीम के लिए क्रिकेट खेलने वाले मंसूर अली खान पटौदी के नाम सबसे कम उम्र में टेस्ट कप्तान बनने का गौरव है। मंसूर अली खान पटौदी का रिकॉर्ड लगभग 52 साल तक कायम रहा, लेकिन ततेंदा तैबू ने 2004 में इस रिकॉर्ड को तोड़ दिया। आज भी मंसूर अली खान पटौदी भारत के सबसे कम उम्र के टेस्ट कप्तान हैं। इसके बाद सचिन का नाम आता है, जिन्होंने 23 साल की उम्र में कप्तानी संभाली थी। मंसूर अली खान पटौदी ने भारत के लिए कुल 46 टेस्ट मैच खेले, जिसमें 34.91 की औसत से 2783 रन बनाए। मंसूर अली खान पटौदी ने अपने टेस्ट करियर में 6 शतक और 16 अर्धशतक लगाए। टेस्ट क्रिकेट में उनका सर्वोच्च स्कोर नाबाद 203 रन है। मंसूर अली खान पटौदी ने 300 से अधिक प्रथम श्रेणी मैच भी खेले हैं। नवाब पटौदी ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 15 हजार से ज्यादा रन बनाए।

यह खबर भी पढ़ें: VIDEO: 'दादी के गर्भ से जन्मी पोती' अपने ही बेटे के बच्चे की मां बनी 56 साल की महिला, जानें क्या पूरा मामला

पटौदी का 2011 में निधन हो गया था
मंसूर अली खान पटौदी को आज भी भारतीय टीम के सर्वश्रेष्ठ टेस्ट कप्तानों में गिना जाता है। मंसूर अली खान पटौदी का 22 सितंबर 2011 को फेफड़ों में संक्रमण के कारण निधन हो गया था। आपको जानकर हैरानी होगी कि मंसूर अली खान पटौदी दो गेंदों को देख सकते थे। दरअसल, पिता इफ्तिखार अली खान पटौदी की मौत के बाद 11 साल की उम्र में टाइगर पटौदी इंग्लैंड पढ़ने चले गए, जहां उनका एक्सीडेंट हो गया। पढ़ाई के दौरान ही मंसूर अली खान पटौदी ने इंग्लैंड में घरेलू मैच खेलना शुरू कर दिया था। उसी दौरान इंग्लैंड में हुए एक कार हादसे ने उनकी पूरी जिंदगी बदल दी, क्योंकि कार का शीशा उनकी दाहिनी आंख में चला गया और उनकी आंखों की रोशनी चली गई। हालांकि, उन्होंने हिम्मत और हिम्मत नहीं हारी, जो उनकी सबसे बड़ी जीत थी। एक आंख की रोशनी गंवा चुके मंसूर अली खान पटौदी को डॉक्टरों ने क्रिकेट खेलने से मना किया था, लेकिन पटौदी नहीं माने।

यह खबर भी पढ़ें: पक्षी जो बिना रुके उड़ता रहा 13,560 किलोमीटर, बना दिया एक नया वर्ल्ड रिकॉर्ड, जाने इसके बारे में

हादसे के 5 महीने बाद टेस्ट डेब्यू
मंसूर अली खान पटौदी दुर्घटना के कुछ महीने बाद भारत पहुंचे और अपनी मजबूत इच्छाशक्ति के साथ दुर्घटना के पांच महीने बाद भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया। यह मैच साल 1961 में इंग्लैंड के खिलाफ दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में खेला गया था। हैरानी की बात यह है कि मंसूर अली खान पटौदी बल्लेबाजी करते समय दो गेंदों को देखते थे, जिससे वह परेशान हो जाते थे, लेकिन उन्होंने इसका हल निकाला और देश के लिए खेलना जारी रखा। मंसूर अली खान पटौदी ने काफी अभ्यास के बाद फैसला किया कि वह अंदर की गेंद पर शॉट खेलेंगे। नवाब पटोकी की यह तरकीब काम कर गई। इसके अलावा कई मौकों पर बल्लेबाजी करते हुए वह अपनी टोपी से अपनी दाहिनी आंख छिपा लेते थे ताकि उन्हें केवल एक ही गेंद दिखाई दे और इससे उन्हें शॉट खेलने में आसानी होती थी. मंसूर अली खान पटौदी, जिन्होंने अपने करियर में 46 टेस्ट मैच खेले, ने 40 टेस्ट मैचों में भारत का नेतृत्व किया, जिनमें से भारत ने 9 मैच जीते।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web