सरकार और संस्थाओं की भागीदारी से युवाओं को मिलेंगे उच्च शिक्षा के बेहतर अवसर: मुख्यमंत्री

राजीव गांधी वेलफेयर सोसायटी द्वारा शुरू ‘एक पहल इंडिया‘ कार्यक्रम प्रतियोगी परीक्षार्थियों के लिए क्रांतिकारी साबित होगा। 
सरकार और संस्थाओं की भागीदारी से युवाओं को मिलेंगे उच्च शिक्षा के बेहतर अवसर: मुख्यमंत्री

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि अच्छी शिक्षा ही बेहतर भविष्य की नींव होती है। राजीव गांधी वेलफेयर सोसायटी द्वारा शुरू ‘एक पहल इंडिया‘ कार्यक्रम प्रतियोगी परीक्षार्थियों के लिए क्रांतिकारी साबित होगा। उन्होंने कहा कि निःशुल्क कोचिंग के लिए राज्य सरकार के साथ संस्थाओं की भागीदारी से युवाओं को उच्च शिक्षा के बेहतर अवसर मिलेंगे। युवाओं के मार्ग प्रशस्त करने के लिए राज्य सरकार पूरी जिम्मेदारी के साथ निर्णय ले रही है।

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

गहलोत रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस से राजस्थान विश्वविद्यालय के एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस प्री-एंट्री ट्रेनिंग सेंटर (एपीटीसी) सेंटर में राजीव गांधी वेलफेयर सोसायटी द्वारा निःशुल्क सैटेलाइट कक्षाओं के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश का भविष्य युवाओं पर है। इसलिए युवाओं के सर्वांगीण विकास में राज्य सरकार प्रतिबद्धता से कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना में 30 हजार युवाओं को निःशुल्क कोचिंग, राजीव गांधी स्कॉलरशिप फॉर एकेडमिक एक्सीलेंस में 500 विद्यार्थियों को विदेश में निःशुल्क उच्च शिक्षा के अवसर प्रदान किए जा रहे हैं। इससे विद्यार्थियों का आत्मविश्वास बढ़ेगा, जब वे विदेश से पढ़कर आएंगे और नौकरी प्राप्त करेंगे तो प्रदेश का श्रेष्ठ मानव संसाधन साबित होंगे।

यह खबर भी पढ़ें: लंदन से करोड़ों की ‘बेंटले मल्सैन’ कार चुराकर पाकिस्तान ले गए चोर! जाने क्या है पूरा मामला?

शिक्षा क्षेत्र में स्थापित आयाम
मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान में अब पहले जैसी स्थिति नहीं रही। अब शिक्षा सहित हर क्षेत्र में चहुमुंखी विकास हो रहा है। वर्ष 1998 में जब पहली बार मुख्यमंत्री बना, उस समय मात्र 6 विश्वविद्यालय थे। अब 91 हो चुके हैं। इस कार्यकाल में ही 303 महाविद्यालय शुरू किए गए हैं। इनमें करीब 130 कन्या महाविद्यालय हैं। महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी विद्यालयों को लेकर भी प्रदेशभर में उत्साह है। इस बजट में एक-एक हजार ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में विद्यालय खोलने की घोषणा की गई है। हर ब्लॉक में डिजिटल लाइब्रेरी तैयार की जा रही है। ग्राम पंचायत स्तर पर कक्षा 12वीं तक के विद्यालय शुरू करने का बड़ा निर्णय लिया है। इससे गांवों के विद्यार्थियों को बाहर नहीं जाना पड़ेगा। खिलाड़ियों को आउट ऑफ टर्न नियुक्तियों और स्टार्टअप्स को योजनाओं से प्रोत्साहित कर रहे हैं।

रक्षाबंधन से दिए जाएंगे स्मार्टफोन
गहलोत ने कहा कि प्रथम चरण में रक्षाबंधन पर्व से 40 लाख महिलाओं को स्मार्टफोन वितरित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि उड़ान योजना के तहत महिलाओं और किशोरियों को प्रतिमाह निःशुल्क 12 सेनेटरी नैपकिन वितरित कर रहे हैं। महिलाएं संकोच नहीं करें।

यह खबर भी पढ़ें: बेटी से मां को दिलाई फांसी, 13 साल तक खुद को अनाथ मानती रही 19 साल की बेटी, जाने क्या था मामला

24 अप्रेल से महंगाई राहत शिविर
मुख्यमंत्री ने कहा कि 24 अप्रेल से महंगाई राहत शिविर आयोजित होंगे। इनमें आमजन को मौके पर ही विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं से जोड़कर लाभ दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के लगभग 1 करोड़ लोगों को सामाजिक सुरक्षा के तहत पेंशन उपलब्ध करा रही है। यह अब न्यूनतम 1000 रुपए कर दी गई है। केंद्र सरकार को भी सूचना, खाद्य, महात्मा गांधी नरेगा के अधिकार की तरह पूरे देश में एक समान सामाजिक सुरक्षा कानून लागू करना चाहिए। इससे वंचितों को सुरक्षा मिलेगी। 

मुख्यमंत्री का युवाओं से आह्वान
गहलोत ने राज्य की जनकल्याणकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार करने के लिए युवाओं से आह्वान किया। वंचित वर्ग को योजनाओं से जोड़कर उन्हें लाभ पहुंचाने में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी समाज सेवा को मिशन बनाकर आगे बढ़े। स्टूडेंट यूनियन के जरिए युवा सामाजिक क्षेत्र में विशेष पहचान बना सकते हैं।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

सोसायटी के फाउंडर देव अमित ने बताया कि हमारी पहल में सैटेलाइट के जरिए विद्यार्थियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की निःशुल्क तैयारी कराई जाएगी। इसमें आईएएस, आरएएस, प्रोफेसर सहित विषय विशेषज्ञ कक्षा लेंगे। समस्त राज्यवित्त पोषित विश्वविद्यालय, राजकीय महाविद्यालय तथा उच्च माध्यमिक विद्यालयों में लगभग 40 लाख छात्रों को लाभान्वित किया जाएगा। निःशुल्क पुस्तकों का वितरण भी करेंगे।

समारोह में जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डॉ. महेश जोशी ने एपीटीसी में विकास कार्यों के लिए 21 लाख रुपए तथा 5 नवीन महाविद्यालयों के लिए 21-21 लाख रुपए विधायक कोष से देने के लिए घोषणा की। राजस्थान विश्वविद्यालय के कुलपति राजीव जैन ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर भरतपुर महापौर अभिजीत कुमार, प्रमुख शासन सचिव भवानी सिंह देथा सहित जनप्रतिनिधि, अधिकारी एवं बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web