प्रदेश में समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद 20 मार्च से होगी शुरू, गेहूं खरीद के लिए ऑनलाइन पंजीयन प्रारम्भ- खाद्य मंत्री

खाचरियावास ने बताया कि खरीद प्रक्रिया को सुचारू बनाने के लिए जिला कलेक्टरों और क्रय एजेंसियों को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। 

प्रदेश में समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद 20 मार्च से होगी शुरू, गेहूं खरीद के लिए ऑनलाइन पंजीयन प्रारम्भ- खाद्य मंत्री

जयपुर। खाद्य मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने बताया कि प्रदेश में क्रय केन्द्रों पर गेहूं की समर्थन मूल्य पर खरीद 20 मार्च से शुरू होगी। उन्होंने बताया कि गेहूं का समर्थन मूल्य 2125 रूपए प्रति क्विंटल घोषित किया गया है। खाचरियावास ने बताया कि खरीद प्रक्रिया को सुचारू बनाने के लिए जिला कलेक्टरों और क्रय एजेंसियों को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। 

विज्ञापन: "जयपुर में निवेश का अच्छा मौका" JDA अप्रूव्ड प्लॉट्स, मात्र 4 लाख में वाटिका, टोंक रोड, कॉल 8279269659

खाचरियावास ने बताया कि राज्य में प्रथम चरण में कोटा संभाग के 57 केन्द्रों पर 20 मार्च से शुरू होने वाली गेहूं की खरीद प्रक्रिया 30 जून तक जारी रहेगी। शेष जिलों में गेहूं की खरीद 01 अप्रेल से शुरू होगी। 

खाद्य मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने बताया कि प्रदेश में गेहूं खरीद का कार्य ऑनलाइन किया जायेगा। इसके लिए राज्य सरकार ने ऑनलाइन पोर्टल विकसित किया है जिसका लिंक खाद्य विभाग की वेबसाइट http://food.raj.nic.in पर ’गेहूं खरीद हेतु किसान रजिस्ट्रेशन‘ के नाम से उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि पंजीकरण का कार्य 15 मार्च से शुरू हो चुका है।

यह खबर भी पढ़ें: दुनिया की ये जो 6 महीने एक देश में और 6 महीने दूसरे देश में, बदल जाते हैं नियम-कानून

खाचरियावास ने बताया कि किसान ऑनलाइन पोर्टल पर 25 जून तक प्रातः 7 से सांय 7 बजे तक स्वयं या अन्य माध्यम से पंजीयन करवा सकते हैं। पंजीकरण के लिए जनआधार कार्ड अनिवार्य है। जनआधार कार्ड में अंकित नामों से किसी भी नाम एवं जिस नाम से गिरदावरी होगी उसी के नाम से पंजीकरण मान्य होगा। 

खाद्य मंत्री ने बताया कि पंजीकरण के दौरान किसान को भूमि संबंधी दस्तावेज व बैंक की पासबुक की फोटो कॉपी लगानी होगी। किसान को पोर्टल पर क्रय केन्द्र चुनने का विकल्प भी दिया गया है। 

यह खबर भी पढ़ें: 61 साल है उम्र, 88वीं बार शादी करने जा रहा ये शख्स, 'प्लेबॉय किंग' के नाम से मशहूर

खाचरियावास ने बताया कि पंजीकरण करवाने के बाद तुलाई का दिन व खरीद की मात्रा संबंधित केन्द्र पर लाने के लिए पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एसएमएस से सूचना भेजी जाएगी। यदि किसान किसी कारण से निर्धारित दिनांक को क्रय केन्द्र नहीं पहुंचता है तो वह आगामी 10 दिन के अंदर अपनी फसल कभी भी तुलवा सकता है। तुलाई के बाद रसीद की एक प्रति किसान को भी दी जाएगी। किसी भी तकनीकी परेशानी होने पर वेबसाइट पर उपलब्ध नंबर से संपर्क किया जा सकता है। 

खाचरियावास ने बताया कि गेहूं खरीद के लिए सम्पूर्ण पर्यवेक्षण का दायित्व जिला कलक्टरों का होगा व प्रतिदिन इसकी नियमित रूप से मॉनिटरिंग करेंगे।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web