मुख्यमंत्री के आश्वासन पर सामूहिक अवकाश से लौटे पशु चिकित्सा कर्मचारी

इससे पशुओं में फैल रही लंपी स्किन डिजीज के रोकथाम एवं नियंत्रण कार्यों को और अधिक गति मिलेगी।

 
मुख्यमंत्री के आश्वासन पर सामूहिक अवकाश से लौटे पशु चिकित्सा कर्मचारी

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरूवार को मुख्यमंत्री निवास पर राजस्थान पशु चिकित्सा कर्मचारी संघ के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। गहलोत द्वारा संघ की मांगों पर दिए गए आश्वासन पर संघ के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त कर अविलम्ब सामूहिक अवकाश से लौटने का निर्णय लिया है। इससे पशुओं में फैल रही लंपी स्किन डिजीज के रोकथाम एवं नियंत्रण कार्यों को और अधिक गति मिलेगी।

गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार पूरी गंभीरता व संवेदनशीलता के साथ पशुओं में फैल रहे लम्पी स्किन डिजीज पर नियंत्रण पाने के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि पशुपालन विभाग के चिकित्सकों और कर्मचारियों की लगातार मेहनत से सुधार आया है और रिकवरी रेट बढ़ी है। उन्होंने पशु चिकित्सकों और पशुधन सहायकों से गौवंश की रक्षा के लिए तत्परता से रोग नियंत्रण कार्य में जुटने का आह्वान किया। साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य कर्मचारी हित में सरकार ने पुरानी पेंशन स्कीम (ओपीएस) जैसे कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं।

यह खबर भी पढ़ें: शादी से ठीक पहले दूल्हे के साथ ही भाग गई दुल्हन, मां अब मांग रही अपनी बेटी से मुआवजा

इस अवसर पर पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया, शासन सचिव पशुपालन पीसी किशन, अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी संयुक्त महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष आयुदान सिंह कविया, राजस्थान पशु चिकित्सा कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष अजय सैनी, संरक्षक के.के गुप्ता, महामंत्री अर्जुन शर्मा सहित विभाग के अधिकारी उपस्थित थे। 

इससे पहले मुख्य सचिव उषा शर्मा की अध्यक्षता में कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों एवं विभागीय अधिकारियों की बैठक हुई। प्रतिनिधिमंडल ने अपनी मांगों को लेकर अधिकारियों से वार्ता की।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web