गौवंशीय पशुओं में लम्पी रोग से बचाव हेतु 12 लाख 32 हजार पशुओं में टीकाकरण- पशुपालन मंत्री

कटारिया ने बताया कि हमें इस चुनौति से निपटने लिए ओर मुश्तैदी से काम करना है, ताकि पशुपालकों का नुकसान नहीं हो। 

 
गौवंशीय पशुओं में लम्पी रोग से बचाव हेतु 12 लाख 32 हजार पशुओं में टीकाकरण- पशुपालन मंत्री

जयपुर। पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया ने बताया कि राज्य सरकार गौवंशीय पशुओं के प्रति सजगता एवं संवेदनशीलता बरतते हुए रोग नियंत्रण के सभी संभावित उपाय कर रही है। कटारिया ने बताया कि हमें इस चुनौति से निपटने लिए ओर मुश्तैदी से काम करना है, ताकि पशुपालकों का नुकसान नहीं हो। उन्होंने कहा कि राजस्थान की परम्परा रही है कि किसी भी प्रकार आपदा के समय जन प्रतिनिधिगण, स्वयंसेवी संस्थाओं का सहयोग मिलता रहा है, और आगे भी मिलता रहेगा।

यह खबर भी पढ़ें: पुरुष और महिला को ये काम कभी नहीं करना चाहिए, वरना जाना पड़ेगा नरक

कटारिया ने बताया कि प्रदेश के गौवंशीय पशुओं में फैल रही लम्पी स्किन डिजीज की रोकथाम के लिए राजस्थान कॉपरेटिव डेयरी फेडरेशन एवं पशुपालन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में गौवंशीय पशुओं में टीकाकरण किया जा रहा है, उन्होंने बताया कि अब तक अजमेर 55090, कुचामन सिटी 37697 भरतपुर 59625, चित्तौड़गढ़ 74327 अलवर 79999, जयपुर 33817, झुन्झुनू 3796 बांसवाड़ा 74000 राजसमन्द 8928 कोटा 64779, बूंदी 64158, बांरा 84383, झालावाड़ 84636 प्रतापगढ़ 83947, उदयपुर 54893, सहित 29 जिलों में कुल 1232197 पशुओं में टीकाकरण किया गया हैं एवं प्रदेश में लम्पी से प्रभावित 12.12 लाख पशुओं में अब तक 11.61 लाख पशुओं का उपचार किया जा चुका है जिसमें 6.91 लाख पशु स्वस्थ हो चुके है।

यह खबर भी पढ़ें: इस गांव में लोग एक-दुसरे को सीटी बजाकर बुलाते हैं, जो लोग सीटी नहीं बजा पाते...

पशुपालन विभाग के शासन सचिव पी. सी. किशन ने बताया कि राजस्थान सीएमआरएफ लम्पी स्किन डिजीज मिटिगेशन फण्ड अकाउन्ट में जमा राशि से लम्पी स्किन डिजीज  के उपचार एवं फॉलोअप हेतु औषधियों की एक किट बनाकर पशुपालको को वितरित करने के आदेश जारी किये गये।

किशन ने बताया कि विभाग जल्दी ही मास टीकाकरण अभियान के तहत आगामी दो महीनों में 40 लाख पशुओं में टीकाकरण का कार्य करेगा, वर्तमान में टीकाकरण स्टॉफ की उपलब्धता होने के कारण वर्तमान टीकाकरण 30000/दिन को बढाकर 100000/दिन करने का प्रयास रहेगा।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web