समाज के चहुंमुखी विकास में शिक्षा का विशेष योगदान- मुख्यमंत्री

- सेन समाज के प्रतिनिधिमंडल का केश कला बोर्ड के गठन के लिए धन्यवाद ज्ञापन

 
समाज के चहुंमुखी विकास में शिक्षा का विशेष योगदान- मुख्यमंत्री

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार संवेदनशील, पारदर्शी और जवाबदेह प्रशासन के संकल्प के साथ पूरे प्रदेश के चहुंमुखी विकास और आमजन के कल्याण के लिए कार्य कर रही है। आज ऎसा कोई वर्ग नहीं है जिसे राज्य सरकार की कल्याणकारी नीतियों और कार्यक्रमों का लाभ नहीं मिल रहा हो। गहलोत शनिवार शाम मुख्यमंत्री निवास पर सेन समाज के आभार ज्ञापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि किसान, पशुपालक, मजदूर, महिला, युवा, बालिका, निःशक्तजन एवं वरिष्ठजन आदि सभी वर्गों के लिए अनेक योजनाएं और कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। 

समारोह में मुख्यमंत्री ने केश कला बोर्ड के ‘प्रतीक चिन्ह’ का लोकार्पण किया।

गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा केशकला के महत्व और इससे जुड़े लोगों के सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए केशकला बोर्ड का गठन किया गया है। राज्य के हर नागरिक को स्वस्थ जीवन देने के लिए चिरंजीवी योजना की शुरूआत की गई, जिसमें 10 लाख का इलाज व 5 लाख का दुर्घटना बीमा निःशुल्क दिया जा रहा है। केश कला बोर्ड अध्यक्ष महेन्द्र गहलोत द्वारा सौंपे गए ज्ञापन पर मुख्यमंत्री ने कहा कि केश कला से जुड़े समाज के लोगों के लिए बूथ आंवटन, कियोस्क आवंटन, शिक्षा व रोजगार के लिए ऋण सहायता, इन्दिरा आवास और मुख्यमंत्री आवास योजना का काम पहले से ही राज्य सरकार कर रही है। उन्होंने सेन समाज के प्रतिनिधि मंडल से अपील की कि वे राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी गांव-ढाणी तक पहुंचाएं ताकि इनका लाभ अधिक से अधिक लोगों को मिल सके।

यह खबर भी पढ़ें: अनोखी परम्परा: यहां सिर्फ जिंदा ही नहीं बल्कि मर चुके लोगों की भी की जाती है शादी

मुख्यमंत्री ने सेन समाज से आग्रह किया कि वे मजबूत व नेक इरादों के साथ केशकला बोर्ड और इसकी गतिविधियों का संचालन करें। समाज की प्रगति में सरकार की ओर से कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि केशकला बोर्ड को केवल केशकला तक ही सीमित नहीं रखें बल्कि सेन समाज के कलाकार, हलवाई, कारीगर, हस्तशिल्प, रूपसज्जा विशेषज्ञ आदि सभी को जोड़कर अपने रचनात्मक कार्यों की छाप छोड़ें।

पिछड़े वर्ग का उत्थान सरकार की प्राथमिकता
गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार हर वर्ग के उत्थान के लिए कार्य कर रही है। प्रदेश में शिक्षा, चिकित्सा, स्वास्थ्य, कृषि, बिजली, पेयजल, सड़क आदि क्षेत्रों में आधारभूत सुविधाओं के शानदार काम हुए हैं। अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़ा वर्ग, अतिपिछड़ा वर्ग, विशेष पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक, आर्थिक दृष्टि से कमजोर वर्ग आदि के लिए शिक्षा, छात्रवृति, आवासीय विद्यालय, होस्टल आदि की व्यापक व्यवस्था की गई है।

शिक्षा हर समाज की प्रगति के लिए महत्वपूर्ण
मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्र के चहुंमुखी विकास में एक शिक्षित समाज का महत्वपूर्ण योगदान है। आज हर समाज शिक्षा से ही आगे बढ़ रहा है। हर वर्ग को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलाने के लिए राज्य में अंगे्रजी माध्यम विद्यालय खोले जा रहे हैं। आज के समय में हर प्रकार की सूचनाएं व जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध है। इस सूचना क्रांति के क्षेत्र में भी युवाओं का भविष्य उज्जवल है। उन्होंने युवाओं से हर क्षेत्र में आगे बढ़कर देश का नाम रोशन करने की अपील की।

यह खबर भी पढ़ें: इस गांव में लोग एक-दुसरे को सीटी बजाकर बुलाते हैं, जो लोग सीटी नहीं बजा पाते...

पूर्व शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह ड़ोटासरा ने कहा कि केशकला बोर्ड समाज व सरकार के बीच की मजबूत कड़ी है। इससे समाज के लिए किए जा रहे कार्यों में सुगमता आएगी व योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ समाज के लोगों तक पहुंच सकेगा।

केशकला बोर्ड के अध्यक्ष महेन्द्र गहलोत ने सेन समाज की ओर से सूत की माला व साफा पहनाकर मुख्यमंत्री का अभिनन्दन किया। उन्होंने केशकला बोर्ड के गठन के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। इस दौरान भैंरव धाम, अजमेर के उपासक चम्पालाल जी महाराज ने मुख्यमंत्री को सेन जी महाराज की प्रतिमा भेंट की।

समारोह में जन अभियोजन निराकरण समिति अध्यक्ष पुखराज पाराशर, राजस्थान पर्यटन विकास निगम अध्यक्ष धर्मेंन्द्र राठौड़, मुख्यमंत्री सलाहकार निरंजन आर्य, राज्यसभा के पूर्व सांसद स्व. भंवरलाल जी पंवार के परिवारजन, अन्य उच्चाधिकारी व बड़ी संख्या में जनसमूह उपस्थित था।

Download app : अपने शहर की तरो ताज़ा खबरें पढ़ने के लिए डाउनलोड करें संजीवनी टुडे ऐप

From around the web